अपने पसंदीदा टॉपिक्स चुनें close

लोकसभा चुनाव 2019

17वें लोकसभा चुनाव 2019 के अप्रैल और मई में होने जा रहे हैं। 545 सदस्‍यों वाली संसद के निचले सदन में 543 सीटों के लिए चुनाव होते हैं और एंग्‍लो-इंडियन कम्‍युनिटी से दो सदस्‍यों को राष्‍ट्रपति मनोनीत करते हैं। इन चुनावों के लिए सात राष्‍ट्रीय दलों- भाजपा, कांग्रेस, बसपा, सीपीआई, सीपीआई-एम, एनसीपी और तृणमूल कांग्रेस के साथ क्षेत्रीय पार्टियों ने भी जोर-शोर से तैयारी शुरू कर दी है। इन चुनावों में केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के साथ ही विपक्षी दलों की भी परीक्षा होगी। 2014 में हुए 16वें लोकसभा चुनाव में भाजपा को जहां 282 सीटें मिली थीं, वहीं कांग्रेस को 44 सीटों से ही संतोष करना पड़ा था। खास बात यह है कि लोकसभा चुनाव के साथ आंध्र प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, हरियाणा, ओडिशा, सिक्किम और जम्‍मू-कश्‍मीर विधानसभा के चुनाव भी हो सकते हैं।

किसने क्या कहा

  • राहुल गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष(कांग्रेस)

    भाजपा देश को आगे ले जाने में फेल हुई। नोटबंदी एक तरह का भ्रष्टाचार था। भाजपा 2019 का चुनाव नहीं जीत पाएगी।

  • उद्धव ठाकरे, शिवसेना अध्‍यक्ष(शिवसेना)

    4 राज्‍यों के मतदाताओं ने हिम्‍मत दिखाई। मतदाताओं ने देश को दिशा दिखाई और जो नहीं चाहिए, उसे बाहर किया।

  • के. चंद्रशेखर राव, टीआरएस प्रमुख(टीआरएस)

    मैं राष्ट्रीय राजनीति में सक्रियता से काम करूंगा। मैंने कई राजनीतिक दलों से बात की है, हम राष्ट्रीय राजनीति में अहम रोल निभाएंगे।

  • अरविंद केजरीवाल, मुख्यमंत्री - दिल्ली(आप)

    मोदी राज की उलटी गिनती शुरू हो गई है।

  • असदुद्दीन ओवैसी, अध्‍यक्ष एआईएमआईएम(अन्य)

    अब ये के. चंद्रशेखर राव की जिम्‍मेदारी बनती है कि राज्‍य में नॉन कांग्रेस सरकार बनाएं। मैं पूरी जिम्‍मेदारी से कहता हूं कि के चंद्रशेखर राव के पास पूरी क्षमता है कि वह सुनिश्चित कर सकें कि अगले लोकसभा चुनाव में गैर कांग्रेसी अस्तित्‍व में आए और इस देश को गैर कांग्रेसी व गैर भाजपा सरकार की जरूरत है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.OK