अपने पसंदीदा टॉपिक्स चुनें close
Associate Sponsor

भारतीय जनता पार्टी

भारतीय जनता पार्टी वोट प्रतिशत के साथ ही संसद और राज्य विधानसभाओं में प्रतिनिधित्व के मामले में देश की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी है। अगर प्राथमिक सदस्यों की संख्या की बात करें तो यह दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी है। इस समय केंद्र के साथ ही देश के 19 राज्यों में भाजपा की सरकार है। कुछ समय पहले तक यह संख्या 22 थी। पार्टी की बुनियाद श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने 1951 में बनी भारतीय जनसंघ के रूप में डाली थी। हालांकि 1977 में आपातकाल खत्म होने के बाद बनी जनता पार्टी में जनसंघ का विलय कर दिया गया था। 1980 में जनता पार्टी खत्म होने के बाद अटल बिहारी वाजपेयी ने पूर्व जनसंघ के नेताओं के साथ भारतीय जनता पार्टी का निर्माण किया। 1984 के लोकसभा चुनावों में केवल दो सीटें जीतने वाली पार्टी 1996 के संसदीय चुनावों में सबसे बड़े दल के रूप में उभरी और वाजपेयी के नेतृत्व में 13 दिनों की सरकार बनी। फिर 1998 में भाजपा के नेतृत्व में केंद्र में बनी एनडीए सरकार एक वर्ष चली। हालांकि इसके बाद 1999 में हुए संसदीय चुनावों में एनडीए को पूर्ण बहुमत मिला और वाजपेयी के नेतृत्व में बनी सरकार पूर्ण कार्यकाल पूरा करने वाली पहली गैर कांग्रेसी सरकार साबित हुई। हालाकि 2004 के आम चुनाव में भाजपा को हार खानी पड़ी और अगले 10 वर्षों तक उसने संसद में मुख्य विपक्षी दल की भूमिका निभाई। लेकिन 2014 में नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में उसे भारी जीत मिली और पूर्ण बहुमत के साथ केंद्र में सरकार बनी। राष्ट्रवादी सिद्धांतों के साथ जम्मू और कश्मीर के लिए विशेष संवैधानिक दर्जा ख़त्म करना, अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण करना और सभी के लिए समान नागरिकता कानून पार्टी के मुख्य मुद्दे हैं।

  • चंद्रबाबू नायडू(टीडीपी)

    के चंद्र शेखर राव गुंडागर्दी की राजनीति कर रहे हैं। वो कांग्रेस और टीडीपी के विधायकों को तोड़ रहे हैं। वहीं, बिहारी डकैत प्रशांत किशोर ने आंध्रप्रदेश के लाखों लोगों के वोट कटवा दिए हैं।

  • प्रशांत किशोर(जद [यू])

    एक तयशुदा हार सबसे अनुभवी राजनेता को भी विचिलत कर सकती है। इसीलिए मैं उनके निराधार बयानों से हैरान नहीं हूं। श्रीमान जी, अपमानजनक भाषा, जो कि बिहार के प्रति आपके पूर्वाग्रह और द्वेष को दिखाती है का प्रयोग करने की बजाए इस बात पर ध्यान दें कि लोग आपको दोबारा वोट क्यों नहीं देंगे?

  • अनिल विज(भाजपा)

    हमने अपने नाम के साथ #चौकीदार लिखा, तुम्हें तकलीफ हो रही है। तुम भी अपने नाम के आगे #पप्‍पू लिख लो, हम बिल्कुल भी एतराज नहीं करेंगे।

  • प्रियंका गांधी वाड्रा(कांग्रेस)

    उन्होंने 70 साल में क्या किया? इस तर्क का अब कोई औचित्य नहीं है। अब उन्हें (भाजपा) बताना चाहिए कि उन्होंने सत्ता में रहते हुए अपने पांच साल में क्या किया है।

  • प्रियंका गांधी वाड्रा(कांग्रेस)

    चौकीदार अमीरों का होता है, गरीबों का नहीं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.OK