Move to Jagran APP

Amit Shah: तेलंगाना के लिए भाजपा का प्लान तैयार, शाह ने समझाया आरक्षण की नीति पर कैसे होगा काम

Amit Shah News अमित शाह ने कांग्रेस पर तेलंगाना को दिल्ली का एटीएम बनाने का आरोप लगाया। गृह मंत्री ने कहा कि भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार ने देश में लंबित समस्याओं को खत्म करने का काम किया है। अयोध्या में भव्य राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा मोदी सरकार के शासनकाल में हुई और जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाया गया।

By Jagran News Edited By: Narender Sanwariya Published: Thu, 25 Apr 2024 05:52 PM (IST)Updated: Thu, 25 Apr 2024 05:52 PM (IST)
Amit Shah: तेलंगाना के लिए भाजपा का प्लान तैयार, शाह ने समझाया आरक्षण की नीति पर कैसे होगा काम

एएनआई, सिद्दीपेट/तेलंगाना। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने गुरुवार को तेलंगाना के सिद्दीपेट में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि अगर हम सत्ता में आए तो भाजपा तेलंगाना में मुसलमानों के लिए आरक्षण खत्म कर देगी और अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग को इसका लाभ देगी।

केवल एससी, एसटी और ओबीसी को मिलेगा आरक्षण

अमित शाह ने कहा कि बीजेपी ने फैसला किया है कि वे तेलंगाना में कांग्रेस और टीआरएस द्वारा मुसलमानों के लिए किए गए आरक्षण को खत्म करेगी। यह आरक्षण एससी, एसटी और ओबीसी को दिया जाएगा।

अमित शाह ने काग्रेस पर लगाया आरोप

अमित शाह ने कांग्रेस पर तेलंगाना को 'दिल्ली का एटीएम' बनाने का आरोप लगाया। गृह मंत्री ने कहा कि भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार ने देश में लंबित समस्याओं को खत्म करने का काम किया है। अयोध्या में भव्य राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा मोदी सरकार के शासनकाल में हुई और जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाया गया।

शाह ने कांग्रेस पर पिछली भारत राष्ट्र समिति सरकार द्वारा किए गए घोटालों की जांच नहीं करने का आरोप लगाया। तेलंगाना राष्ट्र समिति ने बाद में इसका नाम बदलकर भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) कर दिया।

कांग्रेस और टीआरएस मजलिस से डरते हैं

टीआरएस द्वारा किए गए सभी घोटालों में से कांग्रेस ने एक की भी जांच नहीं करवाई। टीआरएस और कांग्रेस दोनों एक साथ हैं। पीएम मोदी तेलंगाना को भ्रष्टाचार से मुक्त करने के लिए काम करेंगे। कांग्रेस और टीआरएस दोनों तेलंगाना मुक्ति दिवस नहीं मनाते क्योंकि वे मजलिस (एआईएमआईएम) से डरते हैं।

तेलंगाना में 13 मई को मतदान

अमित शाह ने कहा कि भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार ने फैसला किया है कि वह 17 सितंबर को तेलंगाना मुक्ति दिवस के रूप में मनाएगी। तेलंगाना के लोगों ने लोकसभा चुनाव में भाजपा उम्मीदवारों को चुनने का फैसला किया है। तेलंगाना की 17 संसदीय सीटों पर 13 मई को मतदान होगा।

बता दें कि तेलंगाना के मुख्यमंत्री ए रेवंत रेड्डी ने पिछले महीने कहा था कि राज्य की कांग्रेस सरकार शिक्षा और रोजगार में मुसलमानों को चार प्रतिशत आरक्षण देगी। गौरतलब है कि 2019 के आम चुनाव में तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) ने नौ सीटें, भारतीय जनता पार्टी ने चार, कांग्रेस ने तीन और एआईएमआईएम ने एक सीट जीती थीं।

यह भी पढ़ें: Lok Sabha Election: अमरावती में कांग्रेस पर बरसे अमित शाह, आरक्षण को लेकर अफवाह फैलाने का लगाया आरोप


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.