रामनगर, जागरण संवाददाता : कोविड के बाद पटरी पर आया रामनगर का पर्यटन कारोबार बारिश से फिर प्रभावित हो गया। बारिश से कार्बेट पार्क में जिप्सी सफारी के लिए बनाए गए कच्चे रूट के बह गए हैं। विभाग जंगल में निरीक्षण कर क्षतिग्रस्त रूटों की जानकारी जुटाकर नुकसान का आकलन करेगा। ऐसे में अभी पर्यटन शुरू होने में समय भी लग सकता है।

कार्बेट पार्क में 15 नवंबर को झिरना, बिजरानी, ढेला, दुर्गादेवी पर्यटन जोन डे सफारी के लिए खुला था। साथ ही कार्बेट पार्क में नाइट स्टे भी शुरू हो गया था। लोगों द्वारा कार्बेट पार्क के लिए अपनी एडवांस ऑनलाइन बुकिंग कराई गई थी। 15,16 व 17 अक्टूबर को पार्क खुलने के बाद चौथे दिन सोमवार को पार्क में बारिश ने पर्यटकों की राह में अवरोध पैदा कर दिया। मंगलवार को भी कार्बेट पार्क बंद रहेगा। पार्क प्रशासन का मानना है कि जिस तरह से लगातार बारिश हुई है।

उससे जंगल के नदी नाले उफान पर आ गए। ऐसे में सफारी के लिए जो रूट ठीक कराए गए थे, उसमें से कई रूट तेज बारिश में बहने की संभावना बनी हुई है। इसके अलावा सफारी के रूटों पर कीचड़ व जलभराव की स्थिति भी हो गई है। ऐसे में पार्क को एकदम खोलना ठीक नहीं है।

पार्क वार्डन आरके तिवारी ने बताया कि सभी रेंजर को अपनी रेंज में निरीक्षण करने के लिए कहा गया है। वन चौकियों में मौजूद स्टाफ से वन क्षेत्र की जानकारी जुटाई जा रही है। यदि सफारी के रूट खराब होंगे तो उन्हें ठीक कराया जाएगा। उसके बाद ही सफारी शुरू की जाएगी। वहीं सीतावनी पर्यटन जोन भी मंगलवार को बंद रहेगा। रेंजर शेखर तिवारी ने बताया कि पर्यटकों की सुरक्षा को देखते हुए फिलहाल सीतावनी पर्यटन जोन बंद रहेगा।

यह भी पढ़ें 

अल्‍मोड़ा जिले में बारिश बनी काल, पांच लोगों की मलबे में दबकर मौत 

बारिश में बह गए कार्बेट नेशनल पार्क में जिप्सी सफारी के रूट, पर्यटन शुरू होने में लगेगा वक्‍त 

गौला नदी ने दिखाया रौद्र रूप, विशालकाय हाथी फंसा, लोगों ने सुरक्षित स्‍थानों पर ली पनाह 

उत्‍तराखंड की नदियां उफान पर, 2013 जैसे आपदा के हालात 

गौला नदी ने दिखाया रौद्र रूप, बह गया काठगोदाम रेलवे स्टेशन का ट्रैक, कई ट्रेनें स्‍थगित 

गौला पुल की सड़क भरभरा कर नदी में समाई, पुलिस-प्रशासन ने आवागमन रोका 

हरिद्वार से एसडीआरएफ की दो टीमें बचाव कार्य के लिए पहुंचेंगी हल्द्वानी और रुद्रपुर 

Edited By: Skand Shukla