हल्द्वानी, जागरण संवाददाता : बारिश का रौंद्र रूप पूरे कुमाऊं में देखने को मिल रहा है। तराई से पहाड़ तक जहां-तहां लोग फंसे हुई है। बचाव कार्य के लिए डीआइजी ने हरिद्वार से एसडीआरएफ की दो टीमें बुलाई हैं। जिन्हें रुद्रपुर व हल्द्वानी में भेजा जाएगा। वहीं एसएसपी प्रीति प्रियदर्शिनी ने आपदा ग्रस्त मार्गो में जाकर हालातों का जायजा लिया है।

डीआइजी कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार हरिद्वार से एसडीआरएफ की दो टीमें रवाना हो चुकी हैं। एक टीम में राजपाल सिंह, लखपति प्रसाद, महावीर नेगी, मनेंद्र्र सिंह, विनोद नेगी, कमल रावत, संदीप गोस्वामी, शैलेंद्र चमोली व अजय सिंह है। दूसरे टीम में रविंद्र सिंह, नरेंद्र सिंह, दलजीत सिंह, चंद्रमोहन, वेद किशोर, अनिल नेगी, हरीश प्रसाद, संदीप कुमार व विपिन राणा शामिल हैं। डीआइजी डा. नीलेश आनंद भरणे ने बताया कि एक टीम रुद्रपुर व दूसरी हल्द्वानी में बचाव कार्य करेगी।

इधर, हल्द्वानी-नैनीताल मार्ग में मलवा आने से वह बंद है। एसएसपी प्रीति प्रियदर्शिनी मंगलवार की सुबह उक्त मार्गो का निरीक्षण करने को पहुंची। उन्होंने बताया कि कई पर्यटक रविवार की रात कई पर्यटक मार्गो पर फंस गए थे। जिन्हें सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया। उन्होंने स्थानीय लोगों व पर्यटकों से अनुरोध किया है कि जहां हैं। वहीं पर सुरक्षित रहें। खासकर नैनीताल की ओर कुछ दिन तक न आएं।

एसपी सिटी पहुंचे गौला पुल के निरीक्षण को

एसपी सिटी डा. जगदीश चंद्र ने गौला पुल का निरीक्षण किया। उन्होंने बताया पुल के दोनों ओर पुलिस कर्मी तैनात कर दिए हैं। पुल पर भारी खतरा बना हुआ है। उन्होंने लोगों से नदी के आसपास न जाने की अपील की है।

Edited By: Skand Shukla