सितारगंज, जेएनएन : सुबह 9:45 मोबाइल की घंटी बजी...नमस्‍कार मैं प्रधानमंत्री जी के कार्यालय से बोल रहा हूं...रतनलाल जी से प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी बात करना चाहते हैं। अचानक आए इस फोन कॉल से कुछ देर के ल‍िए सन्‍नाटा पसर गया। फि‍र कुछ ही पलों में फोन पर खुद प्रधानमंत्री की आवाज आई, रतनलाल जी बोल रहे हैं...कुछ सकुचाते और कांपती हुई आवाज में रतनलाल ने उत्‍तर दि‍या जी बोल हूं...प्रणाम...मैं नरेन्‍द्र मोदी बोल रहा हूं...यूं ही आज आपसे बात करने का मन हुआ, तो सोचा आपका आशीर्वाद ले ल‍िया जाए...। इसके बाद पीएम मोदी ने भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष व वरिष्ठ और बुजुर्ग नेता रतनलाल गुप्ता से करीब तीन से चार म‍िनट तक फोन बातचीत की। पीएम मोदी की अचानक कॉल आने से वर‍िष्‍ठ बुजुर्ग नेता अभीभूत हैं। उनका कहना है कि पीएम से बात होने के बाद से शरीर में नई ऊर्जा का संचार हो गया है।

तीन से चार मिनट तक हुई पीमए मोदी से बात

भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष श्री गुप्ता ने बताया कि गुरुवार सुबह 9:45 पर प्रधानमंत्री आवास से फोन आया था। उनके सच‍िव ने फोन कर कहा कि प्रधानमंत्री मोदी आपसे बात करना चाह रहे हैं। फिर तत्काल बाद मोदी जी फोन लाइन पर आ गए । उन्होंने सबसे पहले उन्हें प्रणाम करते हुए उनका हालचाल जाना। पीएम ने कहा कि लंबे समय से पार्टी और संगठन के लिए कार्य कर रहे हैं। इस अवस्था में भी सक्रिय है। आप जैसे कर्मठ कार्यकर्ताओं की वजह से ही पार्टी का संगठन बहुत मजबूत है। इसके बाद प्रधानमंत्री ने क्षेत्र में कोरोना वायरस की स्थिति के बारे में पूछा। जिस पर रतनलाल गुप्ता ने बताया कि कोरोनावायरस मरीज सितारगंज क्षेत्र में नहीं है। सभी लोग सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार लॉकडाउन का पालन कर रहे हैं। यही कारण है क्षेत्र में कोरोना का अभी एक भी मरीज नहीं मिला है।

पीएम से बात कर अभीभूत हैं वरिष्ठ नेता

भाजपा के वरिष्ठ नेता रतनलाल गुप्ता की प्रधानमंत्री माेदी के साथ उनकी करीब तीन से चार मिनट तक बातचीत हुई। रतनलाल पीएम मोदी से बात करने के बाद से अभीभूत हैं। उनका कहना है कि प्रधानमंत्री का पार्टी के एक कार्यकर्ता के साथ इतनी आत्मीयता से बात करना बहुत बड़ी बात है। यूं ही नहीं पूरी दुनिया उनके नेतृत्व का लोहा मानती है। उन्होंने कहा कि कभी सोचा नहीं था कि देश के सबसे लोकप्रिय प्रधानमंत्री उन जैसे कार्यकर्ताओं से कभी फोन से बात करेंगे। उनसे बात करने के बाद से जैसे उनके शरीर में नई ऊर्जा का संचार हो गया है।

यह भी पढ़ें

लॉकडाउन के कारण बिगड़ी अर्थव्यवस्था, पीएफ फंड आ रहा काम

गाइडलाइन के फेर में फंसे नेपाल, उप्र और बिहार के लोग

हवा में जहर और पानी की गंदगी में कमी, आराम कर रही जमीं

लॉकडाउन में पहाड़ी उत्पादों ने दिखाई स्टार्टअप की राह, विदेशों में बढ़ी डिमांड

सोपस्टोन माइनों में कार्य शुरू, एक महीने बाद 1000 मजदूरों को मिला रोजगार

 

Edited By: Skand Shukla