हरिद्वार, जेएनएन। छात्रवृत्ति घोटाले में एसआइटी ने अब नौ शिक्षण संस्थानों के खिलाफ अलग-अलग मुकदमे दर्ज कराए हैं। इनमें हरिद्वार जनपद के अलावा उत्तर प्रदेश और हिमाचल प्रदेश के संस्थान भी शामिल है। शुरुआती जांच में धोखाधड़ी और गबन पाए जाने पर एसआइटी की ओर से जिले के अलग-अलग थानों में एफआइआर कराई गई है। जल्द ही कुछ गिरफ्तारियां होने की उम्मीद है।

देहरादून और हरिद्वार जनपद के समाज कल्याण विभाग से छात्रवृत्ति के नाम पर करोड़ों रुपये लेकर ठिकाने लगाए गए हैं। इस मामले की जांच कर रही एसआइटी अभी तक 22 शिक्षण संस्थानों के खिलाफ मुकदमे दर्ज करा चुकी है, जबकि विभिन्न संस्थाओं से जुड़े 13 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। साथ ही समाज कल्याण विभाग के एक रिटायर्ड सहित पांच अधिकारियों को भी जेल भेजा जा चुका है। घोटाला करने वाले संस्थानों की लिस्ट काफी लंबी है। 

एसआइटी प्रभारी मंजूनाथ टीसी के निर्देश पर सोमवार को कुल नौ संस्थानों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है। इनमें हिमालयन दून एकेडमी गागलहेड़ी रोड, सिकंदरपुर के खिलाफ थाना भगवानपुर में, ओम बायो साइंस एंड टेक्नॉलोजी रुड़की और ओम बायो सांइस फार्मा कॉलेज निकट पतंजलि योगपीठ बहादराबाद के खिलाफ थाना बहादराबाद, ग्रीनवे इंस्टीटयूट ऑफ मैनेजमेंट, पुहाना चौक रुड़की के खिलाफ थाना भगवानपुर, सुभारती प्राइवेट आइटीआइ सैनी कैंपस मानुबास रोड बेड़पुर के खिलाफ थाना कलियर में मुकदमा दर्ज कराया गया है। 

वहीं, यूपी कॉलेज ऑफ पॉलीटेक्निक फोर रिसर्च, कमालपुर छुटमुलपुर सहारनपुर, कृष्णा कॉलेज ऑफ लॉ कमालपुर छुटमुलपुर, हिमालयन ग्रुप ऑफ प्रोफेशनल इंस्टीटयूट सिरमौर हिमाचल प्रदेश, स्वामी विवेकानंद पॉलीटेक्निक मांडूवाला, पोस्ट खुजनावर फतेहपुर सहारनपुर और एमआइएमटी छुटमुलपुर सहारनपुर के खिलाफ हरिद्वार के सिडकुल थाने में अलग-अलग मुकदमे दर्ज कराए गए हैं। एसआइटी प्रभारी मंजूनाथ टीसी ने बताया कि कुछ और कॉलेजों की जांच अभी चल रही है। धोखाधड़ी के पुख्ता सुबूत मिलने पर उनके खिलाफ भी मुकदमा दर्ज कराते हुए कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें: छात्रवृत्ति घोटाला: जगमोहन मानव प्राइवेट आइटीआइ का चेयरमैन गिरफ्तार

दो कॉलेजों ने हजम किए पांच करोड़ रुपये

निजी शिक्षण संस्थानों ने विभागीय अधिकारी कर्मचारियों और सफेदपोश की मदद से छात्रवृत्ति की रकम दोनों हाथों से लूटी है। इनमें पांच करोड़ की रकम तो दो कॉलेजों ने ही हड़प ली। एसआइटी की शुरूआती जांच में हिमालयन दून एकेडमी गागलहेड़ी रोड, सिकंदरपुर भगवानपुर में करीब 2.54 करोड़, ओम बायो साइंस एंड टेक्नॉलोजी रुड़की और ओम बायो सांइस फार्मा कॉलेज निकट पतंजलि योगपीठ बहादराबाद में 2.48 करोड़ रुपये का घोटाला किया गया है। 

यह भी पढ़ें: छात्रवृत्ति घोटाले में सहायक समाज कल्याण अधिकारी समेत तीन आरोपितों की जमानत याचिका खारिज

ग्रीनवे इंस्टीटयूट आूफ मैनेजमेंट, पुहाना चौक रुड़की में 1.91 करोड़ रुपये, सुभारती प्राइवेट आइटीआइ सैनी कैंपस मानुबास रोड बेड़पुर में 1.18 करोड़, यूपी कॉलेज आफ पॉलीटेक्निक फोर रिसर्च, कमालपुर छुटमुलपुर सहारनपुर में 30.27 लाख, कृष्णा कॉलेज आफ लॉ कमालपुर छुटमुलपुर में 19.26 लाख रुपये, हिमालयन ग्रुप ऑफ प्रोफेशनल इंस्टीटयूट सिरमौर हिमाचल प्रदेश ने 16.34 लाख, स्वामी विवेकानंद पॉलीटेक्निक मांडूवाला, पोस्ट खुजनावर फतेहपुर सहारनपुर ने 11.75 लाख और एमआइएमटी छुटमुलपुर सहारनपुर में लगभग 10 लाख रुपये का गबन किया गया है।               

यह भी पढ़ें: छात्रवृत्ति घोटाले में समाज कल्याण विभाग का कैंप प्रभारी गिरफ्तार