पानीपत/करनाल, जेएनएन। पुरानी अनाजमंडी गोहाना के कमीशन एजेंटों (आढ़ती) से निसिंग के राइस मिलर्स द्वारा धान खरीद की आड़ में करीब 22 करोड़ की धोखाधड़ी का मामला सामने आया है। एक कमीशन एजेंट के माध्यम से इस धोखाधड़ी की मार करीब 120 कमीशन एजेंटों पर पड़ी है। 

पुलिस ने कार्रवाई नहीं की तो मामला गृह मंत्री अनिल विज तक पहुंचा, जिसके बाद करनाल रेंज की आइजी भारती अरोड़ा के आदेश पर निसिंग थाना पुलिस ने तीन फर्मो से जुड़े एक ही परिवार के नौ आरोपितों के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। पीडि़त ने धोखाधड़ी के साथ-साथ आरोपितों पर जान से मारने की धमकी देने के भी आरोप लगाए हैं।

2007 से शुरू हुआ धोखे का खेल

पीडि़त कमीशन एजेंट मनीष कुमार ने बताया कि उनकी गोहाना की पुरानी अनाजमंडी में लक्ष्मी सेल्स कंपनी के नाम से दुकान है। उनकी मुलाकात 2007 में निसिंग के नव ज्योति एग्रो फूड मिल पर राजेंद्र, सुशील व अनिल सिंगला से हुई थी। आरोप है कि इस दौरान राजेंद्र सिंगला ने उन्हें नवज्योति एग्रो फूड व ताराचंद राइस मिल में धान सप्लाई करने पर बातचीत की और कहा कि सप्लाई के साथ ही भुगतान भी किया जाता रहेगा। 

 fraud

विश्वास पर दूसरे कमीशन एजेंट से दिलाई धान

इस पर विश्वास करके वह गोहाना मंडी से अलग-अलग कमीशन एजेंटों से अपनी जिम्मेवारी पर धान खरीद करके उपरोक्त तीनों के राइस मिल में 2008 से सप्लाई करने लगे। शुरू में भुगतान समय पर दिया जाता रहा। पीडि़त ने आरोप लगाते हुए बताया कि 2013-14 मे सुशील सिंगला ने अपनी तीसरी फर्म केटीसी फूड बनाकर धान की सप्लाई लेनी शुरू कर दी। 19 नवंबर 2013 से आठ जनवरी 2016 तक उक्त तीनों आरोपितों की नवज्योति एग्रो फूड में कुल 1,54,732 क्विंटल, तारा चंद राइस मिल में 1,24,857 क्विंटल व केटीसी फूड में 81,108 क्विंटल धान सप्लाई किया। इस धान का 112 करोड 21 लाख 67 हजार 919 रुपये भुगतान 2018 तक कर दिया जबकि 22 करोड़ 63 लाख 64 हजार 116 रुपये का भुगतान आज भी अटका हुआ है। यह भुगतान देने को लेकर पहले आरोपित आश्वासन देते रहे कि जल्द भुगतान कर दिया जाएगा, लेकिन अब आरोपितों ने उन्हें यह रकम लौटाने से इंकार कर दिया है। उन्होंने आरोप लगाए कि अब उन्हें जान से मारने की धमकी दी जाने लगी है।

दिलाया 120 कमीशन एजेंटों से धान

पीडि़त मनीष कुमार ने बताया कि जब आरोपित शुरू में उसके साथ कारोबार करने लगे तो भुगतान भी समय पर दिया जाता रहा। इसी से विश्वास भी बन गया और मांग के अनुसार उन्होंने धीरे-धीरे दूसरे कमीशन एजेंटों से भी अपने विश्वास पर धान दिलानी शुरू कर दी। 120 कमीशन एजेंट (आढ़ती) अपना धान सप्लाई कर चुके हैं। अब भुगतान न देने के चलते ये कमीशन एजेंट उस पर दबाव बना रहे हैं जबकि आरोपितों ने बकाया रकम देने से इंकार कर दिया है।

मामले की जांच शुरू : सुखबीर

जांच अधिकारी सुखबीर सिंह का कहना है कि पीडि़त की ओर से दी गई शिकायत में राजेंद्र सिंगला, पंकज, मनोज, विपिन, सुशील, सचिन, अंकित, अनिल व हितेष को आरोपित बनाया गया है। पुलिस ने विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

यह भी पढ़ें: मवेशियों के लिए संजीवनी है निरगुंडी का पौधा, जानिए देसी फार्मूले के फायदे

यह भी पढ़ें: CM की घोषणा में अधिकारियों का भ्रष्टाचार, का पर्दाफाश, RTI से सामने आई सच्चाई

यह भी पढ़ें: फाइनेंस कंपनी से सीखे गुर, निकाले गए तो गैंग बना रिकवरी एजेंट बन लूटी गाडि़यां

यह भी पढ़ें: किराये पर लिया टाटा मैजिक, रास्ते में मारपीट कर लूटा

यह भी पढ़ें: विश्वास की नींव में जमाया व्यापार, जब उधार दिए रुपये मांगे तो दी जान से मारने की धमकी

यह भी पढ़ें: करोड़ों के नुकसान से बचेंगे पशुपालक, पशु की हीट में फायदेमंद होगी NDRI की तकनीक

यह भी पढ़ें: इस गाय की सुंदरता का जवाब नहीं, देश भर में जीते 16 खिताब, देसी घी खाती, गद्दे पर सोती

Posted By: Anurag Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस