पानीपत/कुरुक्षेत्र, जेएनएन। जिला खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के निरीक्षक आशीष डांगी के आत्महत्या करने के मामले में रोज नए-नए खुलासे हो रहे हैं। रविवार रात को वीडियो वायरल होने के बाद सोमवार को विभाग के निरीक्षक भी उसके समर्थन में उतर आए हैं। वहीं विपक्ष भी निरीक्षक आशीष डांगी के समर्थन में उतार गया है। पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने मामले की जांच सीबीआइ से कराने की मांग की है। इसके साथ ही मृतक की पत्नी को सरकारी नौकरी देने की मांग की है।

विभाग के निरीक्षकों ने एसपी के रीडर के माध्यम से मांग पत्र सौंप कर मामले में वीडियो में लिए गए नामों के अधिकारियों को तुरंत गिरफ्तार किया जाए, ताकि ये अधिकारी अपने पद का दुरुपयोग कर जांच को प्रभावित न कर सकें।

यह है मामला  

डीएफएससी विभाग के निरीक्षक आशीष डांगी ने शुक्रवार शाम को जहरीला पदार्थ निगल आत्महत्या कर ली थी। निरीक्षक की पत्नी ने पुलिस को दी शिकायत में विभाग के अधिकारियों पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया था। इस मामले में रविवार रात को वीडियो वायरल हुआ। यह वीडियो अस्पताल का है, जिसमें आशीष डांगी उपचार के दौरान जिला खाद्य एवं आपूर्ति अधिकारी नरेंद्र सहरावत, निरीक्षक अंकुर जांगड़ा व प्रवीण कुमार पर मंडी में पोस्टिंग के लिए पैसे लेने की बात कह रहे थे। वायरल वीडियो में आरोप लगाया था कि उसने मंउी में पोस्टिंग के लिए 50 हजार रुपये दिए हैं। अब और पैसे मांगे जा रहे हैं।

अस्पताल के चिकित्सक के मोबाइल से बनाई गई है वीडियो

जांच अधिकारी भाग सिंह ने बताया कि जो वीडियो वायरल हुई है। वह एक निजी अस्पताल के एक चिकित्सक के मोबाइल से बनाई है। पुलिस ने इस मोबाइल को कब्जे में ले लिया है। वीडियो की लैब में जांच कराई जाएगी।

विभाग के निरीक्षकों ने सौंपा एसपी को ज्ञापन

विभाग के निरीक्षक अंकित, सज्जन मान, संदीप अहलावत, रिंकू, करनाल के निरीक्षक कपिल देव, नवीन कुमार, निदरेष डांगी, योगेश, मनदीप कैथल, पानीपत, यमुनानगर व अंबाला के निरीक्षक मामले में निष्पक्ष जांच की मांग लेकर एसपी आस्था मोदी से मिलने के लिए पहुंचे। निरीक्षकों का कहना था कि वायरल वीडियो में जिन तीन अधिकारियों का नाम लिया गया है पुलिस उन्हें तुरंत गिरफ्तार करे।

निरीक्षक की आत्महत्या मामले में हो सीबीआइ जांच : विपक्ष

पूर्व सीएम एवं नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा से इनेलो नेता अभय सिंह चौटाला ने फोन पर बात की। मामले की गंभीरता को देखते हुए दोनों ने कहा कि इसकी उच्च स्तरीय जांच जरूरी है। मरने से पहले निरीक्षक के आखिरी बयान की वीडियो भी सामने आई है। इसमें वे अधिकारियों पर भ्रष्टाचार के आरोप लगा रहे हैं।

ये भी पढ़ें: Live Panipat Coronavirus News Update पानीपत में दिल्ली-सोनीपत वासियों ने बढ़ाई कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या, 14 दिनों में चार, 27 दिनों में 10 केस

 

 

 

ये भी पढ़ें: रूठी पत्नी को दिल्ली से लाया, उसे कोरोना निकला, पानीपत में 14वां केस

 

 

ये भी पढ़ें: ट्रॉली से गेहूं उतार रहे युवक का अपहरण, कांग्रेसी नेता के फार्म हाउस ले जाकर पीटा

 

 

ये भी पढ़ें: ग्लूकोज की ताकत देगी अदृश्य शत्रु सेे लड़ने का हौसला, गर्मी में ऊर्जा बनाए रखने के लिए उठाया कदम

 

 

ये भी पढ़ें: आइसोलेट महिला की मौत, संस्‍कार कराने पहुंचे तो अफवाह ने बिगाड़ा माहौल, ग्रामीणों ने की पत्थरबाजी

 

 

ये भी पढ़ें: अंबाला में एक और कोरोना वायरस पॉजिटिव केस, 63 वर्षीय बुजुर्ग महिला संक्रमित

 

 

पानीपत की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें