नई दिल्ली/सोनीपत, जागरण संवाददाता। कृषि कानूनों के विरोध में चल रहे आंदोलन को तेज करने के लिए संयुक्त किसान मोर्चा हर मुमकिन कोशिश कर रहा है। आंदोलन के चलते साढ़े चार माह से बॉर्डर बंद होने के कारण आम लोगों को होने वाली परेशानियों के लिए माफी मांगते हुए मोर्चा ने 17 अप्रैल तक सद्भावना मिशन का एलान किया है। इसके तहत आंदोलन स्थल पर मंगलवार से निश्शुल्क मेडिकल कैंप लगाए हैं। इस कैंप में विभिन्न स्थानों से आए विशेषज्ञ चिकित्सक मरीजों का इलाज कर रहे हैं और जरूरतमंद को मुफ्त ऑपरेशन की भी सुविधा देने की बात की जा रही है। इसको लेकर मोर्चा की ओर से एक पर्चा भी वितरित किया गया है और इसे इंटरनेट मीडिया के माध्यम से भी प्रसारित किया जा रहा है।

सच्चाई तो यह है कि संयुक्त किसान मोर्चा भी यह समझने-जानने लगा है कि किसान आंदोलन के प्रति लोगों में अच्छी राय नहीं हैं, क्योंकि इससे लोग परेशान है। आर्थिक दिक्कत भी है, स्थानीय लोगों की नौकरी चली गई तो लोगों को कारोबार तक बर्बाद हो गया।

संयुक्त किसान मोर्चा के नेतृत्व में कुंडली बॉर्डर पर 26 नवंबर से आंदोलन चल रहा है। 11 दौर की बातचीत में सरकार के संशोधन के प्रस्ताव को नहीं मानने और कानूनों को रद्द करवाने की जिद के कारण आंदोलन लंबा खींचता जा रहा है। आंदोलन का समाधान नहीं होता देख धीरे-धीरे आंदोलन स्थल पर भीड़ कम होती गई। स्थिति यह है कि फिलहाल टेंट तो लगे हैं, लेकिन इनमें बहुत ही कम आंदोलनकारी बचे हैं।

ये भी पढ़ेंः Delhi Metro में सफर करने के दौरान 400 से ज्यादा यात्रियों पर लगा जुर्माना, आप भी न करें ये गलती

 

Coronavirus: मेट्रो सिटी में रहने वालों को बुलाने लगे उनके परिजन, अब तो घर आ जा परदेशी, तेरी जन्मस्थली बुलावे रे

 लगातार आंदोलनकारियों की घटती संख्या को देखते हुए और आसपास के लोगों को आंदोलन से जोड़ने के लिए अब संयुक्त मोर्चा की ओर से कई तरह के प्रयास किए जा रहे हैं। इसी के तहत मोर्चा की ओर से एक पर्चा जारी कर सबसे पहले आंदोलन के कारण क्षेत्र के लोगों को हुई असुविधा के लिए क्षमा मांगी है।

ये भी पढ़ेंः दिल्ली में एमएसपी से ज्यादा पर बिकी गेहूं की फसल, किसान हुए खुश

इसके साथ ही आंदोलनकारियों द्वारा आसपास के ग्रामीणों के साथ भी दु‌र्व्यवहार की घटना सामने आने पर भी मोर्चा ने माफी मांगते हुए भविष्य में ऐसी घटना नहीं होने दी जाएगी, इसका वचन दिया है। साथ ही किसी भी प्रकार की शिकायत या सुझाव के लिए कमेटी भी गठित कर स्थानीय नुमाइंदों के मोबाइल नंबर भी जारी किए हैं। इसके अलावा लोगों को धरनास्थल पर आकर्षित करने के लिए 17 अप्रैल तक सद्भावना मिशन के तहत मोर्चा के कार्यालय कजारिया टाइल्स में सद्भावना मेडिकल कैंप लगाया गया है।

Indian Railway News: रेलवे अगले 3 दिन में शुरू करेगा कई अनारक्षित ट्रेनें, बिना रिजर्वेशन भी कर सकेंगे यात्रा

इसमें ओपीडी के अलावा पैथोलाजिकल टेस्ट, आंखों की जांच, चश्में, दवाइयां भी वितरित की जा रही हैं। पहले दिन करीब 200 मरीजों का इलाज यहां हुआ। सद्भावना मिशन के बाद मोर्चा की ओर से स्थानीय लोगों के लिए 18 अप्रैल को सहयोग दिवस मनाने का ऐलान भी किया है। इस दिन मंच संचालन की कमान स्थानीय लोगों के हाथों में देने की बात की जा रही है, ताकि उन्हें भी इस आंदोलन से जोड़ा जा सके।

ये भी पढ़ें-फिल्म अभिनेता राजेश खट्टर कोरोना पॉजिटिव, गाजियाबाद के अस्पताल में चल रहा है इलाज

ये भी पढ़ेंः बाबा साहेब डिजिटल कला महोत्सवः आप भी घर बैठे आसानी से जीत सकते हैं 75 हजार रुपये इनाम, जानिए तरीका


ये भी पढ़ेंः डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला को थी काला झंडा दिखाने की तैयारी, भारतीय किसान यूनियन के नेता हिरासत में

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप