नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। Lockdown news 2021:  दिल्ली में पिछले 15 दिनों से लॉकडाउन को लेकर जारी संशय मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक झटके में यह कहकर खत्म कर दिया है कि देश भले ही कोरोना की दूसरी लहर का सामना कर रहा है और दिल्ली चौथी लहर का सामना कर रही है। इसके बाद भी राज्य सरकार लॉकडाउन लगाने पर विचार नहीं कर रही है। हालांकि, हालात के मद्देनजर लॉकडाउन लगाने के मुद्दे पर यह भी कहा कि विचार किया जा सकता है और बातचीत के बाद ही फैसला लिया जाएगा, लेकिन फिलहाल लॉकडाउन नहीं लगेगा।

शुक्रवार को ही अरविंद केजरीवाल ने जानकारी देते हुए बताया कि राजधानी दिल्ली में 3594 केस आए हैं। इससे पहले पिछले महीने 16 मार्च को तकरीब 425 केस थे। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि कोरोना के केस तेजी से केस बढ़ रहे हैं। ये चिंता की बात है। साथ ही अरविंद केजरीवाल ने यह भी कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण से बने हालात पर आम आदमी पार्टी सरकार की नजर बनी हुई है। इस दिशा में जो भी उचित कदम उठाने की जरूरत है वह हम उठा रहे हैं। इस दौरान उन्होंने साफ तौर पर कहा कि दिल्ली में लॉकडाउन का कोई विचार नहीं है। हां, उन्होंने यह भी कहा कि भविष्य में अगर जरूरत हुई तो बातचीत के बाद ही फैसला लिया जाएगा।

एक पखवाड़े से इंटरनेट मीडिया पर चल रही थी दिल्ली में लॉकडाउन की बात

बता दें कि पिछले एक पखवाड़े के दौरान दिल्ली में कोरोना के मामले बढ़ने के साथ लॉकडाउन लगाने की चर्चा इंटरनेट मीडिया पर छिड़ी हुई थी। महाराष्ट्र के कई शहरों में लॉकडाउन और कई राज्यों में नाइट कर्फ्यू के बीच दिल्ली में लॉकडाउन को लेकर चर्चा थी।

जानिये- Naresh Tikait यूपी गेट पर आकर क्यों हुए मायूस, उड़ गई BKU के बाकी नेताओं की भी नींद

क्या लगाया जा सकता है दिल्ली में लॉकडाउन?

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के इस बयान 'फिलहाल राजधानी में लॉकडाउन नहीं लगेगा' को लेकर कयास लगाए जा रहे हैं कि क्या हालात ज्यादा बिगड़ने पर लॉकडाउन लगाया जा सकता है? बता दें कि दिल्ली में लॉकडाउन लगाने या फिर नहीं लगाने का फैसला अकेले दिल्ली सरकार का नहीं हो सकता है? इसके लिए एक प्रस्ताव उपराज्य पाल अनिल बैजल के पास भेजना होगा, जो दिल्ली में केंद्र सरकार के प्रतिनिधि के तौर पर काम करते हैं। उनकी अनुमति के बाद ही दिल्ली में लॉकडाउन लगाया जा सकता है।

जानें- दिल्ली के साथ नोएडा-गाजियाबाद और गुरुग्राम-फरीदाबाद में कौन सी क्लास तक स्कूल होंगे बंद, कौन से खुलेंगे

लॉकडाउन क्या होता है?

लॉकडाउन महामारी जैसे हालात या फिर आपात स्थिति में लगाया जाता है। इस दौरान लोगों को घरों से निकलने की अनुमति नहीं होती। सिर्फ आवश्यक चीजों मसलन दवा, अनाज या फिर बैंक व एटीएम से पैसा निकालने जैसी जरूरी चीजों के लिए बाहर निकलने की अनुमति आम जनता को दी जाती है। दौरान आवश्यक काम मसलन मेडिकल इमरजेंसी की जरूरत में एंबुलेंस की सेवाएं ली जा सकती हैं। इसके लिए पुलिस प्रशासन से अनुमति मांगी जाती है। मानवीयता के आधार पर अनुमति मिल भी जाती है।

पढ़ेंः एक तरफा प्यार में पागल हुआ हरियाणा पुलिस का सिपाही, हेड कांस्टेबल की बेटी को अगवा करने का प्रयास

लॉकडाउन में ये चीजें होती हैं बंद

  • दुकानें
  • बड़े स्टोर
  • फैक्ट्रियां/कंपनियां
  • वर्कशॉप
  • आम दफ्तर
  • गोदाम
  • साप्ताहिक बाजार
  • मॉल
  • रेस्तरां
  • होटल 

दिल्ली मेट्रो में सफर के दौरान बच के रहना शाहरुख और अमित से, चुटकियों में यात्रियों को लगाते हैं चूना

कोरोना के मामले बढ़े, मौतें घटीं

सीएम केजरीवाल शुक्रवार को यह स्वीकारा कि दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। साथ ही यह भी कहा कि कोरोना की ये लहर पिछली लहर से कम खतरनाक है। उन्होंने तर्क दिया है कि दिल्ली में कोरोना के मामले तो बढ़े हैं, लेकिन तुलनात्मक रूप से इससे होने वाली मौतें घटी हैं। उन्होंने कहा कि टेस्ट, ट्रेसिंग और आइसोलेशन का काम बहुत तेजी से किया जा रहा है। इस दौरान उन्होंने दिल्ली की जनता से अपील की है कि सभी मास्क जरूर पहनें और शारीरिक दूरी के नियमों का पालन करें।

Rakesh Tikait Latest News: गुजरात जा रहे राकेश टिकैत ने हमले के लिए केंद्र सरकार को लिया निशाने पर

बता दें कि दिल्ली में मास्क नहीं लगाने और शारीरिक दूरी समेत कई अन्य नियमों का पालन नहीं करने पर 2000 रुपये चालान करने का प्रावधान है। इसी के साथ दिल्ली मेट्रो में मास्क नहीं लगाने और शारीरिक दूरी के नियम नहीं मानने पर 200 रुपये जुर्माना लगाया जाता है।

 ये भी पढ़ेंः दिल्ली-NCR में धड़ाधड़ शूट हो रही फिल्में, जूही चावला को भाया गाजियाबाद तो परेश रावल को दिल्ली की गलियां

Edited By: Jp Yadav