PreviousNext

फिदाइन हैं पटना सीरियल ब्लास्ट के आरोपी इम्तियाज व तारिक

Publish Date:Tue, 29 Oct 2013 12:04 PM (IST) | Updated Date:Tue, 29 Oct 2013 12:12 PM (IST)
फिदाइन हैं पटना सीरियल ब्लास्ट के आरोपी इम्तियाज व तारिक
पटना जंक्शन पर गिरफ्तार दोनों आतंकी तारिक व इम्तियाज फिदाइन हैं। दोनों पहले बस से उतरकर स्टेशन परिसर पहुंचे थे। वहां से चाय पीने के बाद वे जंक्शन के दस नंबर प्लेटफार्म के यात्री प्

पटना, जागरण संवाददाता। पटना जंक्शन पर गिरफ्तार दोनों आतंकी तारिक व इम्तियाज फिदाइन हैं। दोनों पहले बस से उतरकर स्टेशन परिसर पहुंचे थे। वहां से चाय पीने के बाद वे जंक्शन के दस नंबर प्लेटफार्म के यात्री प्रतीक्षालय में एक घंटे तक बैठे थे। परंतु कुछ और यात्रियों के बैठे रहने के कारण बम को शरीर से बांध नहीं पा रहे थे। इसी बीच आरपीएफ के दो जवान प्रतीक्षालय पहुंचे। दोनों की जांच किए बगैर बाहर भगा दिया।

पढ़ें:लादेन को पढ़ता था गिरफ्त में आया इम्तियाज

जक्शंन प्रतीक्षालय से हटने के बाद तारिक व इम्तियाज ने पूरे जंक्शन परिसर का मुआयना किया। बाद में सबसे महफूज जगह उन्हें शौचालय ही मिली। जिस वक्त दोनों शौचालय पहुंचे उस वक्त वहां काउंटर पर एक ही व्यक्ति बैठा था। एक अन्य यात्री अंदर जा ही रहा था तो दोनों ने उसे बाहर कर दिया। इसके बाद दोनों अपने-अपने शरीर में बम फिट करने चले गए। शरीर से बम बांधने के पहले उन्हें बैट्री सेट करनी थी। बैट्री सेट करने के दौरान ही बम विस्फोट हो जाने से उनकी पूरी योजना धरी की धरी रह गई।

पढ़ें:मुजफ्फरनगर दंगे का बदला था पटना सीरियल ब्लास्ट!

पूछताछ के दौरान इम्तियाज ने बताया कि पहले से ही गांधी मैदान के आसपास मोहम्मद वकास, तहसीन, हैदर अली उर्फ अब्दुल्ला एवं उसके दो और साथी मौजूद थे। दोनों को बम के साथ मंच के आसपास पहुंचना था। जैसे ही वे दोनों मंच के पास पहुंचते सौ मीटर दूर खड़ा मोहम्मद वकास रिमोट से उड़ा देता। एक बड़ी घटना को अंजाम देने ही दोनों आए थे। बम विस्फोट का मकसद था कि लोगों के बीच भगदड़ मचे और अधिक से अधिक लोग मारे जाएं।

पढ़ें: पटना सीरियल ब्लास्ट: सुरक्षा एजेंसियों को आइएम पर शक

इम्तियाज ने जांच टीम को कई अहम जानकारियां दी है। तहसीन के साथ ही लगभग एक दर्जन आतंकियों की सूची सौंपी है। हालांकि इस घटना का मास्टर माइंड भटकल को बताया जा रहा है, जिसके इशारे पर पाकिस्तान से आया आतंकी मोहम्मद वकास काम कर रहा है। तहसीन व वकास के साथ मिलकर इम्तियाज ने ही बोधगया बम विस्फोट की घटना को अंजाम दिया था। उस घटना में भी इसी लोटस कंपनी का टाइमर व चाइनिज बैट्री का उपयोग किया गया था। जांच टीम के समक्ष इम्तियाज ने इसके अलावा बोधगया से जुड़े मामले में कई अहम जानकारी दी है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:Imtiaz and Tariq are fidayeen(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

अहमदाबाद में एक मंच पर होंगे मनमोहन सिंह और मोदीशीला के दो मंत्रियों समेत, 13 विधायकों के टिकट अधर में
यह भी देखें
अपनी प्रतिक्रिया दें
    लॉग इन करें
अपनी भाषा चुनें




Characters remaining

Captcha:

+ =


आपकी प्रतिक्रिया
  • Sunil Yadav

    ये अतन्क्वदि का चेहरा धक के दिखते हैन मगर असाराम का चेह्रा नहि धकते, इसि लिये क्युन्कि नकाब के पिचेय कोइ भि हो, उस्को आतन्कि बता के पोलिस अप्ना काम कर लेगि, असाराम को तो सब पेह्चान्ते हैन, आम जन्ता मे कौन सम्झेग कि नकाब के पिचेय कोइ बे-कसुर हो

  • Ullu

    RANDI KI AULAD SALE kAMINE KISI BHI GAMBHIR MUDDO PAR APANI GALAT COMMENT SE BAJ NAHI ATE. LADEN KE AULAD LADEN KI KITAB NAHI RAKHEGA TO DESHDROHIYO BATAO KYA KURAN RAKHEGA?

  • SUNIL YADAV

    प्रश्न उठता है की क्या कोई ऐसे शांति प्रिय धर्म को मानने वाल बमब्लास्ट कर बेकसूरों को दुःख पहुंचा सकता है.....?? तो जवाब हैं हाँ क्यों नहीं.....हर संप्रदाय में गलत लोग हैं....पर किसी को भी इस आधार पर आतंकवादी घोषित कर देना के उसके पास से “जिहादी साहित्य” बरामद हुआ कतई उचित नहीं होगा.....अरे भाई.....मुसलमानों के पवित्र ग्रन्थ कुरान में अनेकों स्थान पर जिहाद शब्द का वर्णन है....और 99% मुसलमानों के घर में ये किताब (कुरान) पाई जाती है......अगर आपका आधार यही है की वो आतंकवादी हैं क्योंके उसके पास से “जिहादी साहित्य” आपको प्राप्त हुआ...तब तो आपको सभी मुसलमानों को आतंकवादी घोषित करना पड़ेगा......!!

  • Sanjay Kumar

    भत्कल केन्द्र सर्कार के कब्जे मे है तो ऐसा तो नहिन कि सजिश केन्द्र सर्कार और भत्कल ने मिल्कर कि इसिलिये सभी सुरक्षा प्रबन्ध धीले कर दिये गये वर्न फिदायीन हम्ले कि तय्यरिआ हो और कोइ मज्बूत इन्पुत न हो सम्भव तो नहि लगता... लगता है इस बार देश कि किस्मेत अच्चि है ....

  • ram

    mujhye sab se pahle tum media waale ye batao, k logo k marne k baad ye saari information tumhe kaha se milti hai,blast se pahle tumlog konse randi khaane ne baith kar aiyaashi kar rahe thhey. Aur Blast se pahle ye police wale kiski shaadi me barati ban kar gaye thhey,Is desh ki ekta aur akhandta ko 21wi sadi me agar sab se zeyada nuqsaan huwa hai to media k logo se,kuch media walon apni jhuti shorat aur naam k liye waqt se pahle hi saara information dedti hai,kisi ek khaas community ko lekar,jitni gandi rajniti is desh me neta nahi kar rahe usse kahi gandi aur gheenaoni stratigy media me banaya hai,aise maamlo me kisi community ko badnaam karne k liye aur uske saath saath hamare mulk ki khufya agencies,aaj k news me likha hai ki bodh gaya ka blast bhi inhi logo ne karwaya thhha,shayad ye pata nahi k bodh gaya k blast k peeche kiska haanth thha aur kon giraftaar huwa thha,ye poori dunya ko pata hai,magar chuke aap media waalon ne sapat hi is cheez ka liya hai k bas kuch bhi ho naam miya

  • chandra

    pyade ko pakar to liya hai par iska karo ge kya? high security me rakh kar karoro rupay kharch karoge, chicken briyani khilaoge ya bhir iske kahe baato ko bata kar pakistan v videsi mulko v sangthno se raham ki bhikh mangoge aur kahoge ham asakcham hai apni suraksha karne me in kaphiro v gddaro se hamari sahayta karo aur inko samjhao ki ye bichhu dank marna choor de. ye jis din chutega saah aalam ban jayga aur sab mukdarsak bankar dekhenge iske karname. Agar yahi islam ka rasta hai to hajrat muhammd ko apne paida hone par bhi afsos ho raha hoga jisne apni puri jindgi prem daya iman v aapsi bhichare ko kayam karne ke liye samarpit kar diya, jisne barbar jati ke kai samuho ko sabhya banakar ek dhage me piroya v sachhe rah par prem ke sath jina sikhaya

मिलती जुलती

यह भी देखें
Close