फिल्म समीक्षा

  • फिल्‍म रिव्‍यू: दम लगा के हईशा (4 स्‍टार)

        
    Dum Laga Ke HaishaUpdated on: Fri, 27 Feb 2015 06:05 PM (IST)

    अगर आप दो घंटे के लिए एक शानदार अनुभव में खो जाना चाहते हैं तो 'दम लगा के हईशा' जरुर देखें। इस फिल्म में दिखाया गया है कि खूबसूरती वो नहीं होती जो हमें आंखों से नजर आती है। यह बहुत ही खूबसूरत फिल्म है जिसमें दिल को छू लेनेऔर पढ़ें »

  • फिल्‍म रिव्‍यू: अब तक छप्पन 2 (डेढ़ स्‍टार)

        
    Ab Tak Chhappan 2Updated on: Fri, 27 Feb 2015 10:33 AM (IST)

    शिमित अमीन की 'अब तक छप्पन' 2004 में आई थी। उस फिल्म में नाना पाटेकर ने साधु आगाशे की भूमिका निभाई थी। उस फिल्म में साधु आगाशे कहता है कि एक बार पुलिस अधिकारी हो गए तो हमेशा पुलिस अधिकारी रहते हैं। आशय यह है कि मानसिकता वैसी बन जातीऔर पढ़ें »

  • फिल्‍म रिव्‍यू: बदलापुर (4 स्‍टार)

        
    BadlapurUpdated on: Fri, 20 Feb 2015 10:23 AM (IST)

    श्रीराम राघवन की 'बदलापुर' हिंदी फिल्मों के प्रचलित जोनर बदले की कहानी है। हिंदी फिल्मों में बदले की कहानी अमिताभ बच्चन के दौर में उत्कर्ष पर पहुंची। उस दौर में नायक के बदले की हर कोशिश को लेखक-निर्देशक वाजिब ठहराते थे। उसके लिए तर्क जुटा लिए जाते थ... और पढ़ें »

  • फिल्‍म रिव्‍यू: रॉय (डेढ़ स्‍टार)

        
    RoyUpdated on: Fri, 13 Feb 2015 09:07 AM (IST)

    बहुत कम फिल्में ऐसी होती हैं,जो आरंंभ से अंत तक दर्शकों को बांध ही न पाएं। विक्रमजीत सिंह की 'रॉय' ऐसी ही फिल्म है। साधारण फिल्मों में भी कुछ दृश्य, गीत और सिक्वेंस मिल जाते हैं,जिसे दर्शकों का मन बहल जाता है। 'रॉय' लगातार उलझती और उलझाती जाती है। ह... और पढ़ें »

  • फिल्‍म रिव्‍यू: षमिताभ (साढ़े तीन स्‍टार)

        
    ShamitabhUpdated on: Fri, 06 Feb 2015 09:42 AM (IST)

    'षमिताभ' अनोखी व प्रयोगवादी किस्सागोई करने को मशहूर फिल्मकार आर. बाल्की की फिल्म है। 'षमिताभ' की कहानी एक गूंगे शख्स की है, जो हिंदी फिल्म इंडस्ट्री का सुपरस्टार बन जाता है। वह भी तब, जब वह न किसी फिल्मकार का सगा-संबंधी है। न उसके पास संसाधन हैं। न ... और पढ़ें »

  • फिल्‍म रिव्‍यू: हवाईजादा (ढाई स्‍टार)

        
    HawaizaadaUpdated on: Fri, 30 Jan 2015 03:01 PM (IST)

    विभु पुरी निर्देशित 'हवाईजादा' पीरियड फिल्म है। संक्षिप्त साक्ष्यों के आधार पर विभु पुरी ने शिवकर तलपड़े की कथा बुनी है। ऐसा कहा जाता है कि शिवकर तलपड़े ने राइट बंधुओं से आठ साल पहले मुंबई की चौपाटी में विश्व का पहला विमान उड़ाया था। अंग्रेजों के शा... और पढ़ें »

  • फिल्‍म रिव्‍यू: रहस्य (2 स्‍टार)

        
    RahasyaUpdated on: Fri, 30 Jan 2015 10:38 AM (IST)

    मनीष गुप्ता की 'रहस्य' हत्या की गुत्थियों को सुलझाती फिल्म है, जिसमें कुछ कलाकारों ने बेहतरीन परफॉर्मेंस की हैं। उन कलाकारों की अदाकारी और लंबे समय तक हत्या का रहस्य बनाए रखने में कामयाब निर्देशक की सूझ-बूझ से फिल्म में रोचकता बनी रहती है। अगर पटकथा... और पढ़ें »

  • फिल्‍म रिव्‍यू: खामोशियां (डेढ़ स्‍टार)

        
    KhamoshiyanUpdated on: Fri, 30 Jan 2015 09:28 AM (IST)

    भट्ट कैंप की 'खामोशियां' नए निर्देशक करण दारा ने निर्देशित की है। उन्हें दो नए कलाकार गुरमीत चौधरी और सपना पब्बी दिए गए हैं। उनके साथ अली फजल हैं। कहानी विक्रम भट्ट ने लिखी है और एक किरदार में वे स्वयं भी मौजूद हैं। ऐसा लगता है कि अभी तकऔर पढ़ें »

  • फिल्‍म रिव्‍यू: बेबी (4 स्‍टार)

        
    BabyUpdated on: Fri, 23 Jan 2015 01:57 PM (IST)

    लंबे समय के बाद... जी हां, लंबे समय के बाद एक ऐसी फिल्म आई है, जो हिंदी फिल्मों के ढांचे में रहते हुए स्वस्थ मनोरंजन करती है। इसमें पर्याप्त मात्रा में रहस्य और रोमांच है। अच्छी बात है कि इसमें इन दिनों के प्रचलित मनोरंजक उपादानों का सहारा नहीं लियाऔर पढ़ें »

  • फिल्‍म रिव्‍यू: डॉली की डोली (साढ़े तीन स्‍टार)

        
    Dolly Ki DoliUpdated on: Fri, 23 Jan 2015 12:25 PM (IST)

    अभिषेक डोगरा और उमाशंकर सिंह की लिखी कहानी पर अभिषेक डोगरा निर्देशित 'डॉली की डोली' ऊपरी तौर पर एक लुटेरी दुल्हन की कहानी लगती है, लेकिन लेखक-निर्देशक के संकेतों पर गौर करें तो यह परतदार कहानी है। लेखक और निर्देशक उनके विस्तार में नहीं गए हैं। उनका ... और पढ़ें »

  • फिल्‍म रिव्‍यू: अलोन (3 स्‍टार)

        
    AloneUpdated on: Fri, 16 Jan 2015 12:46 PM (IST)

    डरावनी फिल्मों का भी एक फॉर्मूला बन गया है। डर के साथ सेक्स और म्यूजिक मिला कर उसे रोचक बनाने की कोशिश की जारी है। भूषण पटेल की 'अलोन' में डर, सेक्स और म्यूजिक के अलावा सस्पेंस भी है। इस सस्पेंस की वजह से फिल्म अलग किस्म से रोचक होऔर पढ़ें »

  • फिल्‍म रिव्‍यू: शराफत गई तेल लेने ( 3 स्‍टार)

        
    Sharafat Gayi Tel LeneUpdated on: Fri, 16 Jan 2015 12:37 PM (IST)

    महानगरीय जीवन की अपनी संभावनाएं, समस्याएं और चुनौतियां हैं। वहां रह रहे युवा अपने-अपने तरीकों से जिंदगी में ऊंचा मुकाम हासिल करना चाहते हैं। कुछ शांत और संयमित तरीका अपनाते हैं तो कई सफलता की शॉर्ट कर्ट राह पकड़ते हैं। मुंबई, दिल्ली जैसे जगहों पर उन... और पढ़ें »

  • फिल्‍म रिव्‍यू: क्रेजी कुक्कड़ फैमिली (3 स्‍टार)

        
    Crazy Cukkad FamilyUpdated on: Fri, 16 Jan 2015 12:32 PM (IST)

    रितेश मेनन की 'क्रेजी कुक्कड़ फैमिली' भिन्न किस्म की कॉमेडी फिल्म है। चार असफल संतानों के पिता बेरी एक बार फिर कोमा में चले गए हैं। इस बार नालायक संतानों को उम्मीद है कि उनका इंतकाल हो जाएगा। इसी उम्मीद में वे एकत्रित होते हैं। सभी को धन की जरूरतऔर पढ़ें »

  • फिल्‍म रिव्‍यू: तेवर (3 स्‍टार)

        
    TevarUpdated on: Fri, 09 Jan 2015 04:40 PM (IST)

    लड़के का नाम घनश्याम और लड़की का नाम राधिका हो और दोनों ब्रजभूमि में रहते हों तो उनमें प्रेम होना लाजिमी है। अमित शर्मा की फिल्म 'तेवर' 2003 में तेलुगू में बनी 'ओक्काड़ु' की रीमेक है। वे शांतनु श्रीवास्तव की मदद से मूल कहानी को उत्तर भारत में रोपते ... और पढ़ें »

  • फिल्म रिव्यूः अग्ली (4 स्टार)

        
    UglyUpdated on: Fri, 26 Dec 2014 08:33 AM (IST)

    अनुराग कश्यप की फिल्म 'अग्ली' के इस शीर्षक गीत को चैतन्य की भूमिका निभा रहे एक्टर विनीत कुमार सिंह ने लिखा है। फिल्म निर्माण और अपने किरदार को जीने की प्रक्रिया में कई बार कलाकार फिल्म के सार से प्रभावित और डिस्टर्ब होते हैं,लेकिन उनमें से कुछ ही भू... और पढ़ें »

स्थानीय

    जागरण RSS

    बॉलीवुडRssgoogle plusyahoo ad
    मिर्च-मसालाRssgoogle plusyahoo ad
    बॉक्स ऑफिसRssgoogle plusyahoo ad
    फिल्म समीक्षाRssgoogle plusyahoo ad

    और देखें

    यह भी देखें