अपनी बात

  • मानवीय संबंध

    मानवीय संबंधUpdated on: Wed, 21 Jun 2017 12:56 AM (IST)

    पारिवारिक संबंध भी तभी फलते-फूलते हैं जब तक तराशे जाते रहें, उनमें प्रेम रूपी जल डाला जाता रहे। और पढ़ें »

  • अंकों की अनावश्यक होड़

    अंकों की अनावश्यक होड़Updated on: Tue, 20 Jun 2017 01:02 AM (IST)

    भारत की शिक्षा व्यवस्था की साख अपेक्षित स्तर से बहुत नीचे हैं और इसमें लगातार कमी हो रही है। और पढ़ें »

  • रोजगार बचाने-बढ़ाने की चुनौती

    रोजगार बचाने-बढ़ाने की चुनौतीUpdated on: Tue, 20 Jun 2017 01:02 AM (IST)

    मशीन से बुनाई किए जाने के कारण कपड़ा उत्पादन की लागत बहुत कम हो गई। बुनाई में रोजगारों की संख्या कम नहीं हुई। और पढ़ें »

  • चरित्र

    चरित्रUpdated on: Tue, 20 Jun 2017 01:01 AM (IST)

    हमने पक्षियों की तरह उड़ना और मछलियों की तरह तैरना तो सीख लिया है, किंतु मनुष्य की तरह पृथ्वी पर चलना और जीना नहीं सीखा है। और पढ़ें »

  • अमेरिका से रिश्तों की परीक्षा

    अमेरिका से रिश्तों की परीक्षाUpdated on: Mon, 19 Jun 2017 12:59 AM (IST)

    जून के अंत में आखिरकार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की मुलाकात होने जा रही है। और पढ़ें »

  • मुफ्तखोरी की बढ़ती परिपाटी

    मुफ्तखोरी की बढ़ती परिपाटीUpdated on: Mon, 19 Jun 2017 12:59 AM (IST)

    रिजर्व बैंक ने एक बार फिर से उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा किसानों के 36,000 करोड़ रुपये के कर्ज को माफ किए जाने की आलोचना की है। और पढ़ें »

  • विचारों की शक्ति

    विचारों की शक्तिUpdated on: Mon, 19 Jun 2017 12:27 AM (IST)

    विचारों से ही कर्म करने की प्रेरणा मिलती है और कर्म से विचार पनपते हैं। विचार अपने में सबको और सभी में अपने को समेटे हुए हैं। और पढ़ें »

  • आफत बनी अच्छी उपज

    आफत बनी अच्छी उपजUpdated on: Sun, 18 Jun 2017 12:39 AM (IST)

    किसान आंदोलन से मोदी सरकार के समक्ष भी एक बड़ी चुनौती खड़ी हो गई है। विपक्ष ने भी राजनीतिक लाभ उठाने में देर नहीं लगाई। और पढ़ें »

  • बयानों में विवादों की खोज

    बयानों में विवादों की खोजUpdated on: Sun, 18 Jun 2017 12:39 AM (IST)

    जो भी बात हो विवादित होनी चाहिए, वरना कवरेज नहीं मिलेगा और टीवी चैनल वालों को यह शीर्षक लगाने का मौका न मिलेगा। और पढ़ें »

  • जीवन महोत्सव

    जीवन महोत्सवUpdated on: Sun, 18 Jun 2017 12:39 AM (IST)

    विश्व महामंच के जीवन महोत्सव में हम सभी जीव, पात्रों की भूमिका में हैं। हमारे अभिनय की सफलता हमारी भूमिका में निहित है। और पढ़ें »

  • साझा विकास का अधूरा एजेंडा

    साझा विकास का अधूरा एजेंडाUpdated on: Sat, 17 Jun 2017 05:01 AM (IST)

    सब परिस्थितियां भारत के पक्ष में हैं। भारत को इसका पूरा लाभ उठाना चाहिए। और पढ़ें »

  • लोक लुभावन वादों के बुरे नतीजे

    लोक लुभावन वादों के बुरे नतीजेUpdated on: Sat, 17 Jun 2017 04:57 AM (IST)

    0 साल से किसानों को अन्नदाता कहने वाले सत्ताभोगी वर्ग ने आज तक मात्र 45 प्रतिशत जमीन पर ही सिंचाई की व्यवस्था की है बाकि 55 प्रतिशत खेती अभी भी मानसून यानी भगवान के भरोसे होती है।  और पढ़ें »

  • संस्थाओं पर हमले का सिलसिला

    संस्थाओं पर हमले का सिलसिलाUpdated on: Fri, 16 Jun 2017 12:49 AM (IST)

    संविधान भारत का राजधर्म है। यहां संविधान की ही सत्ता है। संविधान उद्देश्यविहीन नहीं होते। हमारे संविधान के उद्देश्य सुस्पष्ट हैं। और पढ़ें »

  • आइएस की बढ़ती बौखलाहट

    आइएस की बढ़ती बौखलाहटUpdated on: Fri, 16 Jun 2017 12:49 AM (IST)

    कश्मीर में छह आतंकी हमले हुए। रमजान की 17 तारीख को पैगंबर हजरत मोहम्मद पर मक्का के सैन्य दलों ने हमला किया था। और पढ़ें »

  • श्रम का महत्व

    श्रम का महत्वUpdated on: Fri, 16 Jun 2017 12:49 AM (IST)

    प्राय: जो हमारे अत्यधिक नजदीक होता है या जो हमसे अत्यधिक दूर होता है उसकी हम उपेक्षा कर देते हैं। हमारा जीवन हमारे अति निकट है। और पढ़ें »

यह भी देखें

    जागरण RSS

    अपनी बातRssgoogle plusyahoo ad
    नजरियाRssgoogle plusyahoo ad

    और देखें