नई दिल्‍ली (आनलाइन डेस्‍क)। पाकिस्‍तान के पूर्व पीएम इमरान खान के बीते कुछ दिनों में राष्‍ट्रपति भवन जाने और वहां पर आर्मी चीफ के अलावा अन्‍य शीर्ष अधिकारियों से मिलने को लेकर देश की राजनीति में बवाल मचा हुआ है। हालांकि, इमरान खान से एक इंटरव्‍यू में जब ये पूछा गया कि वो पिछले कुछ दिनों में पीएम हाऊस गए थे या नहीं, इसके जवाब में उन्‍होंने कहा कि झूठ मैं बोलना नहीं चाहता हूं और सच मैं कह नहीं सकता हूं। ये इंटरव्‍यू उन्‍होंने एक निजी चैनल को दिया था। पाकिस्‍तान की मीडिया में कहा जा रहा है कि इस मीटिंग में कोई हल नहीं निकल सका। उनका एक आडियो क्लिप भी लीक हुआ है जिसको उन्‍होंने सुरक्षा में लापरवाही करार दिया है।

चुनाव हो गए होते तो नहीं आती बाढ़

इमरान ने कहा कि उन्‍होंने अपने ही समय में चुनाव का ऐलान कर दिया था, लेकिन सरकार ने इन्‍हें अपने फायदे के लिए टाल दिया। पीटीआई पिछले 5 माह से लगातार सरकार से चुनावों का ऐलान करने की मांग कर रही है, लेकिन सरकार ऐसा नहीं कर रही है। यदि सरकार शुरुआत में ही चुनावों का ऐलान कर देती तो आज जो देश में इतनी भीषण प्राकृतिक आपदा आई हुई है वो नहीं आती। न ही महंगाई इतनी चरम पर होती। न ही पाकिस्‍तानी रुपये की स्थिति इतनी खराब होती। इमरान खान के इस जवाब से ये समझपाना बेहद टेढ़ी खीर है कि आखिर ऐसा कैसे हो सकता था। उन्‍होंने इंटरव्‍यू में ये नहीं बताया कि उनके पास प्राकृतिक आपदा को आने ही न देने के लिए क्‍या प्‍लान था। न ही उन्‍होंने ये बताया कि पाकिस्‍तानी रुपये को कैसे स्थिर करते।

एक्‍सपोर्ट गिर रहा है तो देश तरक्‍की कैसे करेगा

इस इंटरव्‍यू में उन्‍होंने सरकार पर ये भी आरोप लगाया कि देश का एक्‍सपोर्ट लगातार नीचे जा रहा है। ऐसे में देश तरक्‍की कर ही नहीं सकता है। हालांकि इमरान इन सभी आरोपों को लगाते समय में ये भूल गए कि एक्‍सपोर्ट उनके सरकार में बने रहने के दौरान भी नहीं बढ़ा था। महंगाई ने तब भी अपने नए रिकार्ड बनाए थे। जरूरी चीजों के भाव उनकी सरकार में भी सातवें आसमान पर चले गए थे। उनके मुताबिक आज देश के लोग पूरी तरह से हताश हो चुके हैं। ये सरकार जितने दिन और बनी रहेगी, देश की हालत उतनी और खराब होती ही रहेगी।

1100 अरब के भ्रष्‍टाचार के आरोप

इस इंटरव्‍यू में पीटीआई चीफ ने मौजूदा शहबाज शरीफ की सरकार और उनके सहयोगियों के ऊपर 1100 अरब रुपये के भ्रष्‍टाचार का आरोप लगाया है। इंटरव्‍यू में उन्‍होंने कहा है कि सरकार ने जो कानूनों में बदलाव किए हैं उसके बाद इन्‍हें पकड़ना नामुमकिन हो जाएगा। इंटरव्‍यू के दौरान सवालों के जवाब देते हुए इमरान खान ने ये भी कहा कि वो मानते हैं कि आपसी बातचीत बंद नहीं होनी चाहिए। इस बातचीत का मकसद केवल देश की तरक्‍की से जुड़ा है। पीटीआई देश की तरक्‍की चाहती है।

अब इन्‍हें पकड़ना नामुमकिन

पीटीआई चीफ ने कहा कि मौजूदा सरकार ने अपने नेताओं को भ्रष्‍टाचार के मामलों से बचाने के लिए कानून में बदलाव किए हैं। इसके बाद कोई भी बड़ा आदमी जो भ्रष्‍टाचार से कमाई रकम को विदेशों में भेज देता है उन्‍हें पकड़ना नामुमकिन हो जाएगा। इमरान ने आरोप लगाया कि मौजूदा बदलावों के बाद इन नेताओं को कोई फर्क नहीं पड़ेगा, लेकिन जब तक ये सरकार बनी रहेगी पाकिस्‍तान गर्त में धंसता ही जाएगा। इंटरव्‍यू में उन्‍होंने कहा कि देश में जो हालात पैदा हो गए हैं वो भयावह है। देश ने पिछले 50 वर्षों में इतनी महंगाई नहीं देखी है जितनी अब है।

(पाकिस्‍तान मीडिया की खबर के मुताबिक)

पाकिस्‍तान की राजनीति से जुड़ी सभी खबरों को पढ़ने के लिए क्लिक करें 

डिप्‍लोमेटिक छूट का फायदा उठाकर अमेरिका भाग जाना चाहते हैं पाकिस्‍तान के पूर्व पीएम इमरान खान, पीपीपी का दावा

आडियो लीक से सहमी पाकिस्‍तान की शहबाज सरकार ने उठाया बड़ा कदम, पीएम आफिस में बैन हुई कई चीजें

Edited By: Kamal Verma

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट