हल्द्वानी, जेएनएन : पांच द‍िनों के अंतराल के बाद उत्तराखंड में कोरोना वायरस संक्रम‍ितों के केस अचानक से बढ़ गए हैं। प्रदेश में काेरोना संक्रमितों की संख्या 35 होने के बाद नए केस सामने न आने से स्थित नियंत्रित लग रही थी, उत्तराखंड को देश में सुरक्षित प्रदेश माना जा रहा था। लेकिन उसके बाद अलग-अलग दिनों में सात नए केस सामने आने के बाद प्रदेश में हड़कंप मच गया है। वर्तमान में कोरोना संक्रमितों की संख्या 42 है। ऐसे में प्रदेश सरकार ने अब नैनीताल को भी रेड जोन घाषित कर दिया है। प्रदेश में फिजहाल अब तीन नए देहरादून, हरिद्वार और नैनीताल रेड जोन हो गए हैं। ऐसे में जिले में जिन 70 प्रकार के जिन उद्यमों को शुरू करने की मंजूरी सरकार से मिली थी फिलहाल उन पर भी ग्रहण लग गया है।

शनिवार को रुड़की में एक महिला समेत दो लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद हरिद्वार जिले को रेड जोन घोषित कर दिया गया है। इसके साथ ही नैनीताल को भी रेड जोन में शामिल किया गया है। वहीं, देहरादून पहले ही बीस लोगों में कोरोना पॉजीटिव मिलने के बाद से रेड जोन घोषित कर दिया गया था। अपर सचिव स्वास्थ्य, युगल किशोर पंत ने बताया कि कोरोना संक्रमित मामलों के आधार पर प्रदेश को तीन जोन में बांटा गया है। प्रदेश में अब तक कुल कोरोना वायरस संक्रमित मामलों में से 80 फीसदी मामले देहरादून, नैनीताल और हरिद्वार में सामने आए हैं। इसलिए तीनों जिलों को रेड जोन में शामिल किया गया है। वहीं, ऊधमिसंह नगर, अल्मोड़ा और पौड़ी को ऑरेंज जोन में शामिल किया गया है। अन्य सात जिले ग्रीन जोन में शामिल हैं। बता दें कि देहरादून में 20, नैनीताल में नौ, हरिद्वार में सात, ऊधमसिंहनगर में चार और अल्मोड़ा में एक काेरोना वायरस संक्रमित मिल चुका है।

अल्मोड़ा जिले के लिए राहत भरी खबर

अल्मोड़ा जनपद के लिए राहत भरी खबर है। दिल्ली में तब्लीगी जमात के मरकज से कोरोना वायरस से संक्रमित जमाती की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। वह जिला मुख्यालय स्थित बेस चिकित्सालय में मेडिकल कॉलेज ब्लॉक में बने आइसोलेशन वार्ड में भर्ती है। उसके साथ ही तीन अन्य के स्वैब की जांच रिपोर्ट भी निगेटिव आने के बाद कोरोना मुक्त होने से 'बी-ग्रेड' में शामिल अल्मोड़ा जिले को अब 'ए ग्रेड' का दर्जा मिलने की संभाना है। बीती पांच अप्रैल की रात पर्यटन नगरी रानीखेत में कोरोना पॉजिटिव का पहला केस सामने आया था। तब उसे आइसोलेट कर तीन अन्य जमातियों के साथ ही संपर्क में रहे 12 लोगों को भी हॉस्पिटल क्वॉरंटाइन किया गया था। जिले का पहला कोरोना केस होने का खुलासा होने के बाद प्रशासन ने मोहल्ला कुरैशियान, सरना गार्डन समेत चार इलाके सील कर दिए थे। इधर 14वें दिन संक्रमित जमाती के साथ ही तीन लोगों के स्वैब नमूनों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आने से जिले के बाशिंदे खासतौर पर पर्यटन नगरी रानीखेत के लोगों ने बड़ी राहत महसूस की है।

यह भी पढ़ें

उत्तराखंड में फंसे दीपक डोबरियाल ने कहा, अपने स्टाफ को दूंगा पूरी सेलरी

माँ पूर्णागिरि मेले से हटाई जाएंगी सरकारी व्यवस्थाएं, नुकसान की होगी भरपाई

Ozone Layer में बना 10 लाख किमी का होल, यूरोप के उत्तरी क्षेत्र में आने वाले देशों को खतरा

Edited By: Skand Shukla

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट