देहरादून, अशोक केडियाल। प्रदेश के पांच औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आटीआइ) को विश्व बैंक दो-दो करोड़ रुपये की ग्रांट देगा। ताकि प्रदेश के अधिक से अधिक युवाओं को रोजगार मिल सके। स्किल स्ट्रैंनथिंग फार इंडस्ट्रीयल वैल्यू इनहैंसमेंट (स्ट्राइव) योजना के लिए प्रदेश की 88 में से ये पांच आइटीआइ चयनित की गई हैं। योजना के अंतर्गत इन आइटीआइ की कायाकल्प कर अपग्रेड किया जाएगा। 

यह पहला अवसर होगा जब प्रदेश की आइटीआइ में ट्रेडों की पढ़ाई के संस्थान से बाहर उद्योगों में ट्रेनिंग कार्यक्रम का लक्ष्य सालभर के लिए निर्धारित होगा। जिसे पूरा करने पर ही उस आइटीआइ को ग्रांट की दूसरी किस्त जारी की जाएगी। विश्व बैंक की ओर से पांचों आइटीआइ को ग्रांट सीधे प्राप्त होगी। 

इन्हें मिलने वाली ग्रांट का सदुपयोग का पूरा विवरण आइटीआइ को विश्व बैंक को रिपोर्ट करना होगा। इन आइटीआइ में विशेषकर औद्योगिक क्षेत्रों की डिमांड के अनुरूप यह ट्रेनिंग, औद्योगिक भ्रमण, नए ऐसे ट्रेड जिनकी उद्योगों में डिमांड हो, रोजगार परख नए ट्रेड आदि शामिल करने होंगे। 

इस योजना का लक्ष्य केंद्र सरकार की स्किल डेवलपमेंट योजना को तहत युवाओं को औद्योगिक इकाइयों में रोजगार से पहले तकनीकी ट्रेडों में पूर्ण रूप से दक्ष बनाना है। आइटीआइ के निदेशक (परीक्षा नियंत्रक) जीएम नेगी ने योजना की पुष्टि की।  

इन क्षेत्रों में करना होगा फोकस 

- औद्योगिक क्षेत्र से आइटीआइ का सीधा संवाद प्रारंभ होगा।

- आइटीआइ के छात्र औद्योगिक क्षेत्रों का भ्रमण करेंगे।

- आइटीआइ में 15 से 30 दिनों की ट्रेनिंग दी जाएगी।

- विभिन्न ट्रेडों के छात्र-छात्राओं को स्किल डेवलपमेंट में दक्ष किया जाएगा।

-विभिन्न ट्रेडों की पढ़ाई के दौरान वैल्यू एडीशन पर जोर दिया जाएगा।

-उद्योगों में ट्रेनिंग कहां, कितने दिन और किस ट्रेड की होगी यह पहले निर्धारित किया जाएगा।

- उद्योगपति व उद्योग विशेषज्ञ छात्रों की कक्षाएं लेंगे।  

ये हैं पांच आइटीआइ

-राजकीय आइटीआइ हरिद्वार

- राजकीय महिला आइटीआइ हल्द्वानी

-राजकीय आइटीआइ बेतालघाट (नैनीताल)  

- राजकीय आइटीआइ टांडी (नैनीताल)

- राजकीय आइटीआइ रामनगर 

मिलेंगे रोजगार के अवसर 

इंडस्ट्रीयल एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड के अध्यक्ष पंकज गुप्ता के अनुसार, आइटीआइ में उद्योगों के अनुरूप मानव संसाधन तैयार करने की पहल बेहतर है। इससे उद्योगों को भी लाभ होगा और प्रदेश से आइटीआइ करने वाले युवाओं को भी रोजगार के बेहतर अवसर मिलेंगे। केंद्र सरकार की स्किल योजना आने वाले दिनों में युवाओं के लिए रोजगार से जोडऩे में अहम भूमिका निभाएंगी।

इंजीनियरिंग से अधिक से डिमांड 

फूड इंडस्ट्रीज ऑफ उत्तराखंड के संयोजक अनिल मारवाह के मुताबिक, आइटीआइ के छात्रों को उद्योगों में ट्रेनिंग देने की योजना बेहतर है। इस प्रकार की ट्रेनिंग से आइटीआइ से विभिन्न ट्रेडों की पढ़ाई करने वाले प्रदेश के युवा मानसिक रूप से उद्योगों में रोजगार के लिए परिपक्व होंगे। औद्योगिक क्षेत्रों में आइटीआइ ट्रेडों की डिमांड इंजीनियरिंग से अधिक है।

यह भी पढ़ें: पहली काउंसलिंग में भरी 93 आइटीआइ की 7904 सीटें, पढ़िए पूरी खबर Dehradun News

25 आइटीआइ का चयन आइएसपी योजना में

उत्तराखंड की 25 आटीआइ को उनकी डिमांड के बाद विश्व बैंक की ओर से फंड मिलेगा। इनस्ट्रैथिंग स्टेटजिक प्लान (आइएसपी) योजना के तहत चयनित 25 आइटीआइ की सभी जरूरतों को एक नोडल एजेंसी रिपोर्ट बनाएगी और फिर उसे विश्व बैंक के समक्ष प्रस्तुत करेगी। 

चयनित आइटीआइ को आधारभूत ढांचा अपग्रेड करने के अलावा नये कोर्स भी शुरू करेंगे। होंगे। जैसे होटल मैनेजमेंट, वाहनों की पेटिंग, मोटर साइकिल मैकेनिक, मोबाइल रिपेयङ्क्षरग जैसे कोर्स प्रारंभ करने होंगे। जब यह आइटीआइ सरकार की मदद से अपने यहां भवनों, मशीनों, कक्षाओं एवं ट्रेनिंग सेंटर आदि को अपग्रेड कर इसकी रिपोर्ट विश्व बैंक में प्रस्तुत करेगी। उसके बाद इन आइटीआइ को एक करोड़ रुपये तक की ग्रांट मिलेगी। 

प्रदेश के कौशल विकास मंत्री डॉ. हरक सिंह के मुताबिक पहले चरण में गढ़वाल एवं कुमाऊं की दो-दो आइटीआइ को अपग्रेड कर उन्हें मॉडल के तौर पर विकसित किया जाएगा।     

यह भी पढ़ें: आइटीआइ काउंसलिंग को दो दिन में 7400 पंजीकरण, पढ़िए पूरी खबर  

ये हैं चयनित आइटीआइ

राजकीय आइटीआइ टिहरी, कर्णप्रयाग, श्रीनगर, आइटीआइ रुद्रप्रयाग, बड़कोट, राजकीय आइटीआइ दुगड्डा, राजकीय (बालक) आइटीआइ देहरादून, विकासनगर, हरिद्वार, पीरानकलियर, राजकीय (महिला) आइटीआइ देहरादून, राजकीय आइटीआइ राजपुर, (देहरादून), राजकीय आइटीआइ देलना (हरिद्वार), नारसन (हरिद्वार), राजकीय आइटीआइ अल्मोड़ा, कांडा (बागेश्वर), राजकीय आइटीआइ पिथौरागढ़, हल्द्वानी, कालाढूंगी (नैनीताल), राजकीय आइटीआइ टनकपुर, राजकीय (बालक) आइटीआइ काशीपुर, राजकीय आइटीआइ बाजपुर, राजकीय आइटीआइ (बालिका) काशीपुर, राजकीय आइटीआइ सितारगंज।

यह भी पढ़ें: उत्‍तराखंड के 71 प्राइमरी स्कूलों में एक भी छात्र नहीं, पढ़िए पूरी खबर

Posted By: Bhanu

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप