देहरादून, जेएनएन। नेशनल काउंसिल फॉर वोकेशनल ट्रेनिंग (एनसीवीटी) के तहत संचालित प्रदेशभर के 93 राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों (आइटीआइ) की काउंसलिंग के दूसरे दिन शुक्रवार शाम तक 7466 छात्र-छात्राओं ने विभाग की वेबसाइट पर पंजीकरण कर लिया है। अगले दो दिन यानि शनिवार और रविवार को भी ऑनलाइन काउंसलिंग प्रक्रिया चलेगी। 13 अगस्त को सीट आवंटित की जाएंगी। जबकि 14 से 19 अगस्त के बीच आवंटित संस्थानों में छात्र दाखिला ले सकेंगे। 

प्रदेश के आइटीआइ में 7904 सीटों के लिए 15293 छात्र-छात्राएं मेरिट में लिए गए थे। आठ अगस्त से काउंसिलिंग प्रक्रिया शुरू हुई। प्रशिक्षण एवं सेवायोजन निदेशालय की वेबसाइट पर शुक्रवार शाम तक 6965 छात्र-छात्राओं ने च्वाइस फिलिंग कर दी हैं। जबकि 6662 छात्र-छात्राओं ने च्वाइस भी लॉक कर दी है। 

प्रदेश में एनसीवीटी आइटीआइ के 32 ट्रेडों के लिए 16210 आवेदन प्राप्त हुए हैं। आइटीआइ में सीटों की संख्या 7904 हैं। राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आइटीआइ) में नेशनल काउंसिल फॉर वोकेशनल ट्रेनिंग (एनसीवीटी) के तहत संचालित ट्रेडों में इस बार छात्रों को प्रवेश परीक्षा से नहीं गुजरना पड़ा है। 10वीं परीक्षा पास के दस्तावेज आवेदन पत्र के साथ जमा मांगे गए थे। जमा आवेदनों की स्क्रटनी की गई और सही पाए गए 15293 छात्र-छात्राओं की मेरिट लिस्ट तैयार की गई। अब मेरिट में आए हुए छात्रों को आठ  से 11 अगस्त तक ऑनलाइन पंजीकरण, च्वाइस फिलिंग और च्वाइस लॉक करना है। 

प्रदेश के एनसीवीटी आइटीआइ में वर्तमान में फिटर, इलेक्ट्रिशियन, मोटर मैकेनिक, वेल्डर, टर्नर, मशीनिस्ट, स्वीविंग टेक्नोलॉजी, फैशन डिजाइनिंग टेक्नोलॉजी, कम्प्यूटर ऑपरेटर, ड्रेस मेकिंग, रेफ्रिजरेशन, पलंबर, पेंटर, ड्राप्समैन, ब्यूटीशियन, इलेक्ट्रानिक्स, जनरल आदि ट्रेडों की पढ़ाई हो रही है। 

दूरदराज की आइटीआइ में मौका 

देहरादून और हरिद्वार जैसे जिलों के छात्र-छात्राओं में ही आइटीआइ करना का क्रेज नहीं बढ़ रहा है, बल्कि चंपावत, पिथौरागढ़, उत्तरकाशी, चमोली और रुद्रप्रयाग जैसे पहाड़ी जिलों की दूरदराज आइटीआइ में भी दाखिले लेने के प्रति युवाओं में खासा उत्साह है। यही कारण है कि एक सीट पर करीब दो युवाओं की दावेदारी है। मेरिट लिस्ट में प्रवेश से वंचित रहने वाले छात्र-छात्राओं निजी आइटीआइ की ओर रुख करेंगे।   

उद्योगों में बढ़े रोजगार के अवसर 

आइटीआइ के तकनीकी ट्रेडकी पढ़ाई पूरी करने वाले ट्रेंड युवाओं की डिमांड उद्योगों में बढ़ती जा रही है। केंद्र सरकार के कौशल विकास कार्यक्रम के बढ़ावा के कारण आइटीआइ पास युवाओं को नौकरी के अच्छे अवसर उपलब्ध हो रहे हैं। 

इंडस्ट्रीज एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड के अध्यक्ष पंकज गुप्ता कहते हैं कि प्रदेश में 59 हजार से अधिक एमएसएमई सेक्टर के उद्यम हैं। जबकि 1500 से अधिक लघु, मध्यम एवं बड़े उद्योग चल रहे हैं। राज्य की जीडीपी में उद्योगों का महत्वपूर्ण योगदान है। आइटीआइ ट्रेंड युवाओं को उद्योगों में अच्छे अवसर मिल रहे हैं। 

यह भी पढ़ें: उत्‍तराखंड के 71 प्राइमरी स्कूलों में एक भी छात्र नहीं, पढ़िए पूरी खबर

यह भी पढ़ें: यहां नौ साल बाद खुले जूनियर हाईस्कूल डांगूठा के ताले, जानिए

यह भी पढ़ें: प्राथमिक शिक्षकों का अब होगा स्कूल कैडर, नई भर्तियों से किया जाएगा प्रभावी

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Raksha Panthari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप