मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

देहरादून, जेएनएन। पहली ही काउंसलिंग में प्रदेशभर की आइटीआइ की 7904 सीटें फुल हो गई हैं। शनिवार रात 12 बजे तक कुल 11501 छात्र-छात्राओं ने विभाग की वेबसाइट पर अपना पंजीकरण कराया। मंगलवार को मेरिट में स्थान प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राओं को सीटें आवंटित की गई। 14 से 19 अगस्त के बीच छात्र-छात्राएं आवंटित आइटीआइ में प्रवेश ले सकेंगे। नेशनल काउंसिल फॉर वोकेशनल ट्रेनिंग (एनसीवीटी) के तहत संचालित प्रदेशभर के 93 राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों (आइटीआइ) की काउंसलिंग का पहला चरण आठ से 11 अगस्त तक संचालित किया गया। इस दौरान रविवार रात 12 बजे तक 11501 छात्र-छात्राओं ने विभाग की वेबसाइट पर पंजीकरण कराया। 

शनिवार और रविवार को अवकाश के बावजूद ऑनलाइन काउंसलिंग प्रक्रिया जारी रही। अब 13 से 19 अगस्त के बीच आइटीआइ संस्थानों में छात्र दाखिला ले सकेंगे। विदित रहे कि प्रदेश के आइटीआइ में 7904 सीटों के लिए 15293 छात्र-छात्राओं ने आवेदन किया था, विभाग के प्रशिक्षण और सेवायोजन निदेशालय ने मेरिट लिस्ट छात्र-छात्राओं की च्वाइस फिलिंग के आधार पर तैयार की। प्रदेश में एनसीवीटी आइटीआइ के 32 ट्रेडों में दाखिला होंगे। राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आइटीआइ) में नेशनल काउंसिल फॉर वोकेशनल ट्रेनिंग (एनसीवीटी) के तहत संचालित ट्रेडों में इस बार छात्रों को प्रवेश परीक्षा से नहीं गुजरना पड़ा। 
10वीं परीक्षा पास के दस्तावेज आवेदन पत्र के साथ जमा मांगे गए थे। जमा आवेदनों की स्क्रटनी की गई। इसके बाद आठ से 11 अगस्त तक छात्रों ने ऑनलाइन काउंसिलिंग में पंजीकरण, च्वाइस फिलिंग और च्वाइस लॉक की। इन ट्रेडों में होगें दाखिले आइटीआइ में वर्तमान में 32 ट्रेड संचालित होते हैं। जिसमें फिटर, इलेक्ट्रिशियन, मोटर मैकेनिक, वेल्डर, टर्नर, मशीनिस्ट, स्वीविंग टेक्नोलॉजी, फैशन डिजाइनिंग टेक्नोलॉजी, कम्प्यूटर ऑपरेटर, ड्रेस मेकिंग, रेफ्रिजरेशन, पलंबर, पेंटर, ड्राप्समेन, ब्यूटीशियन, इलेक्ट्रानिक्स, जनरल आदि ट्रेडों की पढ़ाई होगी। इसकी पुष्टि प्रशिक्षण और सेवायोजन निदेशालय के उपनिदेशक जेएस नेगी ने की। 
फूड इंडस्ट्री एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड के संरक्षक अनिल मारवाह ने बताया कि औद्योगिक क्षेत्र में आइटीआइ पास युवाओं की हमेशा डिमांड रहती है। केंद्र सरकार के कौशल विकास कार्यक्रम को बढ़ावा देने के बाद आइटीआइ पास युवाओं को उत्तराखंड में ही रोजगार के अच्छे अवसर मिल रहे हैं। प्रदेश में 65 हजार से अधिक एमएसएमई और फूड प्रोसेसिंग इकाइयां कारोबार कर रही हैं। छोटी से लेकर बड़ी औद्योगिक इकाइयों में लगभग दो दर्जन आइटीआइ ट्रेड के अनुरूप जॉब वर्क होता है।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप