देहरादून, जेएनएन। प्रदेश सरकार से प्रमोशन में आरक्षण के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई याचिका वापस लेने समेत 20 मांगों को लेकर संवैधानिक आरक्षण मंच ने बेमियादी धरना-प्रदर्शन शुरू कर दिया है। मंच ने चेतावनी दी है कि जब तक मांगें पूरी नहीं होतीं, तब तक आंदोलन जारी रहेगा। 

सोमवार को परेड ग्राउंड स्थित धरना स्थल पर मंच के प्रदेश संयोजक दौलत कुंवर ने कहा कि पर्वतीय जिलों में जंगली सुअर और बंदरों ने लोगों का जीना मुश्किल कर दिया है। मैदानी जिलों में गुलदार इंसानों को निवाला बना रहे हैं। फिर भी सरकार हाथ पर हाथ धरे बैठी है। 

धरनास्थल पर मौजूद लोगों ने प्रदेश सरकार से एससी-एसटी को पदोन्नति में आरक्षण के खिलाफ दायर याचिका वापस लेने, ओबीसी को प्रमोशन में आरक्षण देने, रोस्टर प्रणाली पर जारी शासनादेश वापस लेने, छात्रवृत्ति घोटाले की सीबीआइ जांच करा 40 हजार विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति देने, बैकलॉग पदों पर नियुक्ति आदेश जारी करने, सेलाकुई में दून, विकास नगर, ऋषिकेश का कूड़ा इकट्ठा करने वाले बिन हटाने, चारधाम की मंदिर समितियों में विभिन्न पदों पर एससी वर्ग को आरक्षण के तहत नियुक्ति देने, राज्य गठन से पहले से प्रदेश में रह रहे लोगों को स्थायी निवास प्रमाण पत्र देने, अल्पसंख्यक विवि का गठन करने की मांग की। 

यह भी पढ़ें: सरकारी उपक्रमों का निजीकरण करने के खिलाफ शिवसेना ने केंद्र सरकार का पुतला फूंका

धरना देने वालों में भोपाल सिंह चौधरी, मुरारी लाल खंडवाल, सरस्वती, लक्ष्मी, मुन्नी देवी, सुरेंद्र रावत, संजय सिंह, वीरेंद्र प्रताप सिंह, जसवंत सिंह पांगती आदि शामिल रहे। 

यह भी पढ़ें: टीएचडीसी के निजीकरण का विरोध, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष समेत कई बड़े नेताओं ने दिया धरना

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस