देहरादून, जेएनएन। उत्तराखंड में जगह-जगह टीएचडीसी के निजीकरण का विरोध हो रहा है। कांग्रेस ने टिहरी के भागीरभीपुरम में टीएचडीसी के कार्यालय परिसर में प्रदर्शन कर धरना दिया। इस दौरान कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह, विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष डॉ. इंदिरा हृदयेश समेत तमाम नेता और कार्यकर्ता मौजूद रहे। उन्होंने केंद्र सरकार की जन विरोधी नीतियों की आलोचना की।  

सोमवार बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता भागीरथीपुरम स्थित टीएचडीसी कार्यालय के बाहर एकत्रित हुए। टीएचडीसी के निजीकरण के विरोध में उन्होंने केंद्र और राज्य सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया और वहां धरने पर बैठ गए। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी भी की। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कहा कि टिहरी बांध से प्रभावित गांवों और परिवारों का पुनर्वास करने में सरकार पूरी तरह से नाकाम साबित हुई है। बिना विस्थापन के ही सरकार ने टीएचडीसी जैसे सरकारी उपक्रम को बेचने का काम किया है। 

उन्होंने कहा कि चार दिसंबर से शुरू हो रहे विधानसभा सत्र में इस मुद्दे को उठाया जाएगा। विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष डॉ. इंदिरा हृदयेश ने कहा कि देश की आर्थिक स्थिति संकट के दौर से गुजर रही है। युवा बेरोजगारों को रोजगार के दरवाजे केंद्र सरकार ने पूरी तरह से बंद कर दिए हैं। भाजपा जनता के हितों को दरकिनार कर बड़े उद्योगपतियों के हितों को पूरा कर अपने हित साधने का काम कर रही है। उनका कहना है कि कांग्रेस टीएचडीसी के निजीकरण के विरोध में प्रदेश भर में आंदोलन चलाएगी।

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार के लिए चेतावनी है भारत बचाओ रैली: प्रीतम सिंह

मौके पर पूर्व विधायक विक्रम सिंह नेगी, महिला कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सरिता आर्य, जिलाध्यक्ष सूरज राणा, अनिल शर्मा, मनीष खंडूड़ी, सूर्यकांत धस्माना, प्रकाश जोशी, देवेंद्र नौडिय़ाल, कुलदीप पंवार, दर्शनी रावत, नरेंद्र रमोला, रतन सिंह रावत, विक्रम बिष्ट, विजयपाल रावत सहित बड़ी संख्या में कार्यकर्ता मौजूद थे।

यह भी पढ़ें: दून के विकासनगर में कांग्रेसियों ने फूंका सांसद प्रज्ञा ठाकुर का पुतला Dehradun News

टिहरी कूच करने से पहले कांग्रेस के तमाम बड़े नेता ऋषिकेश के इंद्रमणि बडोनी चौक स्थित एक वेडिंग प्वाइंट में सभी कार्यकर्ता एकत्र हुए। यहां से बड़ी संख्या में कांग्रेसी कार्यकर्ता टिहरी रवाना हुए। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह और नेता प्रतिपक्ष डॉ. इंदिरा हृदेश ने आंदोलन का नेतृत्व किया। बता दें कि इस माह 14 तारीख को पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव हरीश रावत ने ऋषिकेश स्थित टीएचडीसी मुख्यालय के बाहर सांकेतिक धरना दिया था और टिहरी कूच की घोषणा की थी, जिसके तहत सोमवार को सभी लोग टिहरी रवाना हुए हैं।

यह भी पढ़ें: क्रूर राजनीति को धर्म ही सही रास्ते पर लाता है: डॉ. सुरेंद्र जैन

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस