देहरादून, राज्य ब्यूरो। हरिद्वार जिले से भाजपा विधायकों देशराज कर्णवाल और कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन के मध्य छिड़े विवाद के बाद दोनों पार्टी की जांच का सामना कर रहे हैं। इस कड़ी में विधायक कर्णवाल भाजपा की ओर से गठित जांच समिति के समक्ष पेश हुए और अपना पक्ष रखा। समिति ने कर्णवाल, भाजपा की झबरेड़ा ग्रामीण व शहर मंडल अध्यक्षों समेत 23 लोगों से पूछताछ की और इसकी वीडियोग्राफी भी कराई गई। 

भाजपा के प्रदेश महामंत्री एवं विधायक खजानदास के संयोजकत्व में गठित तीन सदस्यीय जांच समिति ने दोनों विधायकों को बुधवार को पेश होने को कहा था। विधायक चैंपियन ने चुनाव प्रचार के सिलसिले में प्रदेश से बाहर होने की बात कहते हुए बाद में उपस्थित होने का आग्रह किया था। 

अलबत्ता, विधायक कर्णवाल प्रदेश भाजपा कार्यालय में जांच समिति के संयोजक खजानदास व सदस्य विश्वास डाबर के समक्ष पेश हुए। बंद कमरे में उन्होंने अपना पक्ष लिखित रूप में रखा। साक्ष्य के रूप में सीडी भी सौंपी। उनके अलावा भाजपा के मंडल अध्यक्ष सुरेंद्र कश्यप (झबरेड़ा ग्रामीण) व विपिन शर्मा (झबरेड़ा शहर) समेत 23 लोगों से भी समिति ने पूछताछ की। 

समिति के संयोजक खजानदास ने बताया कि अब समिति की बैठक 18 अथवा 19 मई को बुलाई जाएगी। इसमें विधायक चैंपियन के अलावा हरिद्वार के जिलाध्यक्ष, लोकसभा संयोजक, मंडल अध्यक्ष खानपुर को पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा। 

समय बढ़ाने का अनुरोध 

समिति संयोजक के मुताबिक वह हिमाचल प्रदेश जा रहे हैं और 17 मई को लौटेंगे। इस सबको देखते हुए उन्होंने प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट से जांच की समयावधि बढ़ाने का आग्रह किया है। उन्होंने बताया कि 24 या 25 मई तक जांच रिपोर्ट तैयार कर इसे प्रदेश नेतृत्व को सौंप दिया जाएगा। बता दें कि पूर्व में प्रदेश अध्यक्ष ने समिति को 15 दिन में जांच कर रिपोर्ट देने को कहा था, जिसकी अवधि 13 मई को खत्म हो रही है। 

मेरी कोई गलती नहीं : कर्णवाल 

जांच समिति के समक्ष पेश होने के बाद मीडिया से मुखातिब हुए विधायक कर्णवाल ने कहा कि उनकी कोई गलती नहीं है। जो भी गलती है वह बड़े भाई (विधायक चैंपियन) की है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री और संगठन की मौजूदगी में मामला निबटने के बाद उनकी ओर से कोई बयान नहीं दिया गया। 

कुत्ते वाले बयान के लिए मांगी माफी 

विधायक कर्णवाल ने कहा कि उनसे सामान्य बातचीत के आधार पर एक पत्र ने उनका कुत्ते वाला बयान छाप दिया था। इसका यह पत्र खंडन भी कर चुका है। इसके लिए उन्होंने जांच समिति से माफी मांगी है। 

..बड़े भाई भी माफी मांग लेंगे 

एक सवाल पर उन्होंने कहा कि बड़े भाई ने उन्हें व उनकी पत्नी को जेल न डलवाने पर मूंछें मुंडवाने की बात कही है। जब वारंट निकलेंगे तो जेल भी चला जाऊंगा, लेकिन मुझे विश्वास है कि बड़े भाई अपने प्रण को वापस ले लेंगे।

उन्होंने कहा कि मैं तो यही चाहूंगा कि बड़े भाई भी माफी मांग लें। वह मेरे बड़े भाई हैं। जो भी बोल रहे हैं, मेरे लिए आशीर्वाद है। एक अन्य प्रश्न पर उन्होंने कहा कि 12 साल पुराने मामले में उनके द्वारा कोर्ट की शरण ली गई। इसमें बड़े भाई खुद पार्टी बने हैं।

यह भी पढ़ें: मीडिया में आए भाजपा विधायकों के विवादित बयान जांच समिति ने जुटाए

यह भी पढ़ें: भाजपा विधायकों के बीच विवाद में अब शुरू होगी विधिवत जांच

यह भी पढ़ें: भाजपा नेता ने कहा, खूनी फ्लाईओवर पर श्वेत पत्र जारी करे सरकार

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप