देहरादून, जेएनएन। स्पेशल बैक परीक्षा के नियम बदलने से आक्रोशित अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने गढ़वाल विश्वविद्यालय के कुलपति का पुतला दहन किया। साथ ही उच्च शिक्षा राज्यमंत्री के खिलाफ भी प्रदर्शन किए गए। 

डीबीएस कॉलेज में प्रदर्शन के दौरान इस दौरान छात्र संघ अध्यक्ष मनबीर सिंह नेगी ने कहा कि विवि प्रशासन ने प्रति छात्र 2500 रुपये शुल्क लेकर बैक पेपर आयोजित करने का पत्र सभी कॉलेजों को भेजा था। जब सैंकड़ों छात्रों ने फार्म भर दिया तो विवि ने इस संबंध में नया आदेश जारी कर दिया। इस आदेश के तहत बैक पेपर परीक्षा केवल छठे सेमेस्टर के छात्रों की ली जाएगी। पिछले वर्ष यह परीक्षा सभी छात्रों के लिए रखी गई थी। 

उन्होंने कहा विवि प्रशासन अपने नए नियम को रद कर सभी छात्रों के लिए बैक पेपर परीक्षा आयोजित कराए। पुतला फूंकने वालों में पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष योगेश घाघट,  सत्यम कन्नौजिया, अभिजीत पाल, सौरभ ठाकुर, हिमांशु आदि शामिल थे। 

एबीवीपी ने फूंका उच्च शिक्षा राज्यमंत्री का पुतला

राज्य के कॉलेजों में सेमेस्टर प्रणाली को समाप्त करने की मांग पूरी नहीं होने से नाराज अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने उच्च शिक्षा राज्य मंत्री डॉ. धन सिंह रावत का पुतला फूंका। अभाविप लंबे समय से कॉलेजों में सेमेस्टर प्रणाली का विरोध करता रहा है। गत वर्ष उच्च शिक्षा राज्यमंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने इसे समाप्त करने का भरोसा भी दिया था। मगर, अभी तक इस मामले में अभी कोई निर्णय नहीं हुआ है। 

इससे नाराज छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने ऋषिकेश कॉलेज के सम्मुख उच्च शिक्षा राज्मंत्री डॉ. धन सिंह रावत का पुतला फूंका। इस दौरान परिषद के कार्यकर्ताओं ने सेमेस्टर प्रणाली के खिलाफ नारेबाजी कर विरोध भी जताया। छात्रों का कहना था कि अधिकांश कॉलेजों में सेमेस्टर प्रणाली लागू करने लायक आधारभूत सुविधाएं भी नहीं हैं। 

इस मौके पर विभाग सह संयोजक विनोद चौहान, जिला संयोजक संदीप शर्मा, छात्रा प्रमुख अंजली शर्मा, अनुराग पयाल, शुभम शर्मा, विवेक भारती, चेतन शर्मा आदि मौजूद थे।

वहीं अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की डोईवाला इकाई ने भी उच्च शिक्षा राज्यमंत्री डॉ. धन सिंह रावत का पुतला फूंका। जिला इकाई के अभिषेक पूरी व पंकज यादव ने कहा कि सेमेस्टर प्रणाली को बिना इंफ्रास्ट्रक्चर व बगैर तैयारी के ही यूजी में लागू कर दिया गया। इससे पूरे प्रदेश में साल भर केवल खानापूर्ति के लिए ही परीक्षाएं होंगी। 

पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष प्रकाश कोठारी, आयुष मल्ल, हिमांशु भट्ट, महासचिव पंकज कुमार व परिषद के नगर मंत्री श्रेय वेदवाल ने शिक्षकों की कमी को भी प्रणाली के लिए घातक बताया। छात्र नेता अंकित बहुखंडी ने चेतावनी दी कि अगर इस सेमेस्टर प्रणाली को जल्द से जल्द हटाया नहीं गया तो अभाविप की डोईवाला इकाई सड़कों पर उतर कर आंदोलन करेगी। 

इस मौके पर छात्र नेता विकास रावत, इकाई अध्यक्ष नवनीत रावत, मोहन पुंडीर, सतनाम ङ्क्षसह, जसप्रीत ङ्क्षसह आर्यन, आर्यन, श्रद्धा, अभिषेक, गौरव, आभा, रितु, आकाश, अमन आदि कार्यकर्ता उपस्थित थे।

डाकपत्थर में भी एबीवीपी ने फूंका पुतला

डाकपत्थर महाविद्यालय में स्नातक स्तर पर सेमेस्टर प्रणाली लागू किए जाने के विरोध में एबीवीपी ने प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत के पुतले को आग के हवाले किया। संगठन ने मंत्री पर विद्यार्थियों के साथ अन्याय करने का आरोप भी लगाया, साथ ही जल्द इस प्रणाली को वापस लिए जाने की मांग की।

डाकपत्थर महाविद्यालय में प्रदर्शन के दौरान एबीवीपी की प्रदेश सहमंत्री दिव्या राणा ने कहा कि पिछले वर्ष स्नातक स्तर पर सेमेस्टर प्रणाली को लेकर गढ़वाल विश्वविद्यालय के प्रबुद्ध प्राध्यापकों की उपस्थिति में एक सेमिनार का आयोजन किया गया था, जिसमें सेमेस्टर प्रणाली की खामियां भी सामने आई थीं। इसके बावजूद सेमेस्टर प्रणाली को लागू कर दिया गया। 

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में 10 सितंबर से पहले होंगे छात्रसंघ चुनाव, पोस्टर और बैनर प्रतिबंधित

उन्होंने कहा सरकार व मंत्रालय को महविद्यालयों में अध्यापकों की कमी, समय से रिजल्ट न आना, कम समय की पढ़ाई के बाद पेपर देने की मजबूरी जैसी समस्याओं पर ध्यान देना चाहिए। जिसके चलते विद्यार्थियों को न सिर्फ परेशानी उठानी पड़ रही है, बल्कि उनका एक साल भी खराब हो रहा है। 

यह भी पढ़ें: चुनाव प्रचार सामग्री छापी तो नपेंगे प्रिंटिंग प्रेस संचालक Dehradun News

प्रदर्शन व पुतला दहन में प्रांत छात्रावास प्रमुख शुभम गर्ग, जिला संगठन मंत्री शैलेस सती, अभिषेक चौहान, रजत राणा, हर्षित चौधरी, हिमांशु, अरुण कश्यप, आवेश, अजय, साहिब, शिवानी मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें: चुनाव से पहले अभाविप में गुटबाजी से विरोधियों का पलड़ा भारी Dehradun News

Posted By: Bhanu

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप