देहरादून, जेएनएन। प्रदेश के सबसे बड़े डीएवी पीजी कॉलेज में लगातार 12 सालों से छात्रसंघ अध्यक्ष पद पर कब्जा जमाने वाली अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद इस बार चुनाव से पहले ही कमजोर पड़ती नजर आ रही है। संगठन के दो फाड़ होने से डीएवी में उनकी पैठ पर निश्चित तौर पर असर देखने को मिलेगा। हालांकि, अभाविप की बढ़ती गुटबाजी से भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन (एनएसयूआइ) को खासा लाभ मिल सकता है। एनएसयूआइ इसी सप्ताह अपना उम्मीद्वार भी घोषित करेगी और पूरी ताकत से साथ डीएवी में अभाविप का वर्चस्व समाप्त करने की कोशिश करेगी। 

नया शिक्षा सत्र शुरू होते ही अभाविप में मतभेद गहराने लगे। अभाविप से कॉलेज के वर्तमान छात्रसंघ अध्यक्ष जितेंद्र सिंह बिष्ट, पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष शुभम सिमल्टी, राहुल लारा, आशीष रावत और अंशुल चावला ने संगठन पर मनमानी करने का आरोप लगाए हुए करीब एक माह पूर्व अपनी ओर से निखिल शर्मा उर्फ कल्ली को अध्यक्ष पद का दावेदार घोषित कर दिया। इस बीच उनके नेतृत्व में कॉलेज कैंपस में पौधारोपण करने के साथ ही बैनर-पोस्टर का परित्याग करने का अभियान चलाया गया। दूसरी ओर अभाविप के प्रांत संगठन मंत्री प्रदीप शेखावत पहले ही कह चुके हैं कि सर्वसम्मति से छात्र संघ अध्यक्ष पद का उम्मीदवार चुना जाएगा।

यह भी पढ़ें: प्रदेश में शिक्षकों की कमी को मुद्दा बनाएगी एनएसयूआइ, होगा आंदोलन 

अभाविप अधिकृत रूप से दयाल बिष्ट पर दांव खेल सकती है, जिसकी औपचारिक घोषणा सोमवार को होगी। उधर, भाजपा युवा मोर्चा के नगर उपाध्यक्ष संजय तोमर सागर तोमर को अध्यक्ष का दावेदार बताते हुए जोरशोर से उनका प्रचार कर रहे हैं। वहीं, एनएसयूआइ के जिलाध्यक्ष सौरभ ममगाईं ने बताया कि संगठन डीएवी में अपने स्तर पर चुनाव को लेकर पूरी तैयारी कर चुका है, इसी सप्ताह अध्यक्ष पद का उम्मीदवार घोषित कर दिया जाएगा। 

शिक्षा मंत्री लेंगे बैठक 

छात्रसंघ चुनाव को लेकर उच्चशिक्षा राज्य मंत्री धन सिंह रावत सोमवार को दोपहर एक बजे सचिवालय में गृह विभाग, पुलिस के आलाधिकारियों और उच्च शिक्षा निदेशक के साथ बैठक करेंगे। जिसमें आगामी छात्रसंघ चुनाव को लेकर रूपरेखा तैयार की जाएगी। चुनाव की तिथि और कॉलेजों में सुरक्षा व्यवस्था पर भी चर्चा होगी। 

सेमेस्टर की प्रवेश तिथि बढ़ाने की मांग 

छात्र नेता निखिल शर्मा के नेतृत्व में छात्रों ने शनिवार को प्राचार्य डॉ. अजय सक्सेना को ज्ञापन सौंपा। छात्रों ने स्नातक कक्षाओं के तृतीय व पंचम सेमेस्टर की प्रवेश की तिथि बढ़ाने की मांग की। कहा कि कॉलेज में शौचालयों की सफाई और पीने की पानी का उचित प्रबंध, कैंपस स्थित पेयजल टंकी और प्रांगण की सफाई की व्यवस्था की जाए। इस दौरान छात्र संघ अध्यक्ष जितेंद्र सिंह बिष्ट, राहुल लारा, हन्नी सिसौदिया, सुमित कुमार, वासु शर्मा आदि मौजूद रहे। 

यह भी पढ़ें: पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत बोले, कुछ ताकतें मुझे मिटा देना चाहती हैं

अभाविप ने कुलपति का पुतला फूंका 

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के डीएवी कॉलेज इकाई ने विभिन्न सेमेस्टर का परीक्षाफल घोषित नहीं किए जाने रोष जाहिर करते हुए कॉलेज गेट के सामने गढ़वाल विवि के कुलपति का पुतला फूंका। इकाई के अध्यक्ष राहुल चौहान के नेतृत्व में छात्रों ने बताया कि कॉलेज में बीए पाठ्यक्रम का द्वितीय, चतुर्थ, पंचम और षष्ठम सेमेस्टर का परीक्षाफल घोषित नहीं किया गया। विवि के दून स्थिति कैंप कार्यालय में वर्षों से प्रशासनिक अधिकार नियुक्त नहीं किया गया है। इस दौरान दीक्षा बनर्जी, सागर तोमर, दयाल बिष्ट, गौरव तोमर, हर्ष चौहान आदि रहे। 

एनएसयूआइ 31 को करेगा सचिवालय कूच 

प्रदेश के महाविद्यालयों में शिक्षकों के रिक्त पद नहीं भरे जाने के विरोध में एनएसयूआइ 27 अगस्त को प्रदेश के कॉलेजों में तालाबंदी और 31 अगस्त को सचिवालय कूच करेगा। शनिवार को डीएवी कॉलेज के सभागार में पत्रकार वार्ता के दौरान एनएसयूआइ के जिला उपाध्यक्ष नित्यानंद कोठियाल ने बताया कि पूर्व में संगठन को उच्च शिक्षा राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार डॉ. धन सिंह रावत ने आश्वासन दिया था कि सत्र शुरू होते शिक्षकों की भर्ती पूरी कर ली जाएगी, लेकिन अभी तक रिक्त सीटों पर शिक्षकों की तैनाती नहीं की गई। 

यह भी पढ़ें: गढ़वाल केंद्रीय विश्वविद्यालय बिड़ला परिसर छात्रसंघ चुनाव तीन सितंबर को

Posted By: Raksha Panthari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप