मीरजापुर/ वाराणसी, जेएनएन। जिले में रोप वे सहित विंध्‍य कारीडोर के उद्घाटन और शिलान्‍यास के लिए रविवार की दोपहर 2.45 बजे मुख्यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ और गृहमंत्री अमित शाह हेलिपैड पर पहुंचे। देवरी हेलीपैड पर उतरने के बाद विन्ध्याचल धाम के लिए कार से प्रस्थान किया। इस दौरान हेलीपैड पर गृहमंत्री अमितशाह व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का पार्टी के पदाधिकारियों ने स्‍वागत किया। हालांकि, इस दौरान लगातार बारिश होने की वजह से सभी जल्‍द ही आयोजन स्‍थल के लिए रवाना हो गए। मीरजापुर में आयोजन के बाद गृहमंत्री वाराणसी पहुंचे और शाम को बाबा दरबार में भी हाजिरी लगाई। 

बोले गृहमंत्री अमित शाह : शाम 4.50 बजे मंच पर गृह मंत्री अमित शाह ने प्रदेश में राज्‍य और केंद्र सरकार की प्राथमिकता वाली योजनाओं की जानकारी दी। अखिलेश और मायावती पर भी उन्‍होंने विकास को लेकर कटाक्ष किया। क्षेत्र के नक्‍सलवाद की समाप्ति, अपराधियों की संपत्ति सहित कानून व्‍यवस्‍था की उपलब्धियों का भी उन्‍होंने बखान किया। किसीन और गरीब लोगों के हितों की योजनाओं को भी उन्‍होंने विस्‍तार से बताया। बोले आपके आशीर्वाद से ही भाजपा को काम करने की ताकत मिलती है। देश के 135 करोड़ की जनता और 80 करोड जनता और बालिकाओं और बच्‍चों का हित होता है। आपने भाजपा को मौका दिया, 2022 में भी भाजपा को आपका आशीर्वाद मिलेगा। विंध्‍यवासिनी धाम के लिए यूपी सरकार का आभारी हूं। आप सभी का धन्‍यवाद। 

बोले मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ: मुख्यमंत्री के मंच पर पहुंचते ही भारत माता की जय और मां विंध्यवासिनी की जय के उद्घोष गूंज उठे। कहा कि मां विंध्यवासिनी से प्रार्थना करें कि पीएम व गृहमंत्री को इतनी शक्ति दे कि वह देश की तमाम समस्याओं का समाधान करते रहें। राजनीतिक स्वार्थों से पिछली सरकारों ने देश पर थोपा है उसका समाधान किया जा रहा है। प्रदेश धर्म, अर्थ, काम व मोक्ष के साथ भाजपा सरकार ने विजन के साथ सभी कार्य पूरे होते दिखाई दे रहे हैं। पांच अगस्त को पीएम द्वारा एक करोड़ लोगों को अन्न वितरण होगा। पांच अगस्त की तिथि इतिहास स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाएगा। इसी दिन सर्जिकल स्ट्राइक किया गया था। जब नेतृत्व कमजोर होता है तो स्वार्थ होता है। प्रधानमंत्री की कृपा से मेडिकल कालेज बन चुका है। यह शिक्षा का केन्द्र बनेगा। पर्यटन का केंद्र होने के साथ ही आस्था का केंद्र बनाने का काम शुरू किया है। पीएम ने काशी को नए कलेवर में साकार किया है। चित्रकूट और नैमिषारण्य भी आगे आया है। अष्टभुजा व कालीखोह में रोप वे चालू हो जाएगा। मां विंध्यवासिनी की शक्ति से पर्यटन की अपार सुविधाएं होंगी। रोजगार बढ़ेंगे। ग्रामीणा क्षेत्रों में पेयजल के लिए मीरजापुर सोनभद्र व बुंदेलखंड में हर घर नल की सुविधा हो जाएगी। इस दौरान विंध्य कॉरिडोर की परिकल्पना को स्पीकर से सभी को सुनाया गया।

मंच पर मंत्रियों का संबोधन : मंच पर सीएम और गृहमंत्री के आते ही हर हर महादेव का उद्घोष गूंज उठा। इसके बाद विंध्य कॉरिडोर का मॉडल सीएम ने गृहमंत्री अमित शाह को भेंट किया। इसके बाद भाजपा नेताओं और मंत्रियों का स्वागत किया गया। इसके बाद मंच से संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री नीलकंठ तिवारी स्वागत में बोले कि - आज गौरव का पुनीत दिवस पर हमें सौभाग्य है, संकल्प पत्र को ध्येय बनाकर मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री व गृहमंत्री के मार्गदर्शन में पूरा कर रहे हैं।आस्था के केंद्रों को विकसित किया जा रहा है। रामराज्य की परिकल्पना के साथ अयोध्या का भी विकास किया जा रहा है। इसके बाद सांसद व केंद्रीय राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल ने सभा को संबोधित किया। कहा कि गृहमंत्री ने 370 खत्म करके भारत का इतिहास व भूगोल भी बदल दिया है। देश की सीमाएं अब पहले से अधिक सुरक्षित हो गई हैं। मुख्यमंत्री ने कई बार विंध्य कॉरिडोर प्रोजेक्ट की समीक्षा कर इसे आगे बढ़ाया है। कोरोना महामारी में भी जिले के विकास को विराम नहीं लगा है। विंध्य पर्वत माला के बीच विंध्य कॉरिडोर का विकास किया जाएगा। सभी सड़कों का चौड़ीकरण किया जाएगा ताकि दर्शानार्थियों को कोई असुविधा न होने पाए। रोप वे का भी लोकार्पण होने से अब श्रद्धालुओं को काफी सुविधा होगी। पिछड़ा वर्ग के छात्रों को नीट परीक्षा में 27 फीसद आरक्षण देकर सरकार ने बड़ा काम किया है। इस दौरान विंध्य विश्वविद्यालय की स्थापना की अनुप्रिया पटेल ने मुख्यमंत्री से मांग उठाई।

यह भी पढ़ें विंध्‍यवासिनी का मिलेगा सुगम दर्शन, विंध्य कारिडोर से साकार होगी धार्मिक पर्यटन की संकल्पना

कारीडोर को मिली गति : बहुप्रतीक्षित विंध्य कारिडोर का शिलान्यास होने से सावन का दूसरा रविवार इसिहास के पन्नों पर दर्ज हो गया। काफी जद्दोजहद के बाद आखिरकार विंध्य कारिडोर का आकार तय हो गया। गृहमंत्री अमित शाह व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विंध्य कारिडोर का शिलान्यास व रोप-वे का उद्घाटन कर विंध्य क्षेत्र को 144 करोड़ रुपये के परियोजना की सौगात दी। तीन बजे हेलीपैड स्थल देवरी पहुंचे गृहमंत्री व मुख्यमंत्री सड़क मार्ग से सीधे विंध्यवासिनी मंदिर की ओर निकले। 03:10 बजे मंदिर पहुंचकर मां विंध्यवासिनी का दर्शन-पूजन किया। इसके बाद 03:15 बजे जर्मन हैंगर पंडाल के बीच भूमि-पूजन कर विंध्य कारिडोर की आधारशिला रखी। काशी विश्वनाथ मंदिर के तीन व विंध्याचल के दो विद्वान पंडितों ने मंत्रोच्चारण के बीच भूमि-पूजन कराया। भूमि-पूजन के बाद 03:15 बजे गृहमंत्री अमित शाह व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जनसभा स्थल महुवरिया के लिए प्रस्थान किए। इससे पूर्व सेफ हाउस में गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फोटो प्रदर्शनी का अवलोकन कर कर परियोजना और इसके महत्‍व के बारे में जानकारी ली।

यह भी पढ़ें विंध्य की पहाड़ियों पर रोमांचक होगा रोप-वे का सफर, दिखेगा विंध्‍य पर्वत का प्राकृतिक सौंदर्य

कारीडोर का शिलान्‍यास : गृह मंत्री अमित शाह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मां विंध्यवासिनी धाम परिसर में विन्ध्य कॉरिडोर का शिलान्यास किया तो पूरा परिसर मां विंध्‍यवासिनी के जय जयकार के उद्घोष से गूंज उठा। मैप के माध्‍यम से गृहमंत्री को कारीडोर के बारे में भी जानकारी दी गई। मां विंध्यवासिनी मंदिर कॉरिडोर का शिलान्यास दर्शन पूजन गङ्गा पूजन के दौरान 50 फिट मंदिर के चारों परकोटा तथा चार प्रमुख गलियों का इस दौरान शिलान्यास किया गया। विंध्य कारिडोर के प्रथम फेज की लागत 128 करोड़ व रोपवे पर लागत 16 करोड़ है। इस प्रकार कुल 144 करोड़ की योजना का शिलान्यास व लोकार्पण होगा।

विंध्‍य कारीडोर के शिलान्‍यास के मौके पर जिले की सांसद व केंद्रीय राज्‍य मंत्री अनुप्रिया पटेल के अलावा काशी विश्‍वनाथ मंदिर के मुख्य अर्चक पं. श्रीकांत मिश्र भी पूजन और शिलान्‍यास के दौरान मौजूद रहे। इस दौरान मार्ग के सभी होटलों को खाली कराने के साथ सुरक्षा के व्‍यापक प्रबंध किए गए थे।    

वैदिक परंपराओं का निर्वहन : दोपहर बाद 3.10 बजे विंध्‍यधाम के पूजन स्‍थल पर मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के साथ ही गृहमंत्री अमित शाह भी पहुंचे और मां विंध्‍यवासिनी के दरबार में दर्शन पूजन के बाद विंध्‍यधाम कारीडोर का पूजन ब्राह्मणों के वैदिक मंत्रोच्‍चार के साथ शुरू किया। इस दौरान प्रशासनिक अधिकारियों से लेकर पार्टी पदाधिकारी और मंदिर प्रबंधन के लोग भी मौजूद रहे। दर्शन पूजन के दौरान पूरा परिसर मां विंध्‍यवासिनी के जयकारे से गूंज उठा। मीरजापुर के जीआइसी मैदान में विंध्‍यधाम कारीडोर के शिलान्यास के बाद जनसभा के लिए मंच भी तैयार किया गया है। मीरजापुर के जीआइसी ग्राउंड में दोपहर से ही लोगों की भीड़ गृहमंत्री और मुख्‍यमंत्री को सुनने के लिए मौजूद रही।

यह भी पढ़ेंमीरजापुर में शिलान्यास के बाद साकार होगा विंध्य कारिडोर, जानिए पूरी परियोजना के बारे में

पर्यटन के मानचित्र पर मीरजापुर : गृहमंत्री व मुख्यमंत्री ने आज रविवार को विंध्य कारिडोर के 128 करोड़ के कार्य के शिलान्‍यास के अतिरिक्‍त विंध्य कारिडोर के पास 16 करोड़ के रोप-वे का लोकार्पण पूजन के बाद किया। इसके साथ ही मीरजापुर जिले में धार्मिक आध्‍यात्मिक और रोमांचक सफर के लिए रोपवे सरीखे उपक्रम जनता के उपयोग के लिए आसानी से उपलब्‍ध हो गए हैं। इसकी वजह से जिले में पर्यटन और आध्‍यात्मिक दर्शन पूजन के लिए नए सिरे से मेगा परियोजनाएं अब जमीन पर आकार लेने लगी हैं। 

यह भी पढ़ें मीरजापुर में गृहमंत्री और सीएम का आगमन, 144 करोड़ की परियोजना का करेंगे शिलान्यास और लोकार्पण

यह भी पढ़ें मीरजापुर में गृहमंत्री से पहले समाजवादी पार्टी कार्यकर्ताओं ने रोप-वे का कर दिया उद्घाटन

Edited By: Abhishek Sharma