जागरण संवाददाता, मीरजापुर। गृहमंत्री अमित शाह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के लोकार्पण करने से पहले समाजवादी पार्टी के कुछ कार्यकर्ता शनिवार को सुरक्षा में सेंध लगाते हुए विंध्याचल पहुंच गए और रोप-वे का उद्घाटन कर दिया। यह कारनामा जब फोटो सहित सोशल मीडिया पर वायरल होने लगा तो पुलिस प्रशासन के होश उड़ गए। हालांकि अब पुलिस अधिकारी ऐसे लोगों को चिन्हित करने की कवायद करने में जुटे हैं, लेकिन इस कार्य से विंध्याचल में सुरक्षा व्यवस्था की पोल खुल गई। अब इसके बाद हर तरफ सुरक्षा व्यवस्था मजबूत की जा रही है।

अष्टभुजा और कालीखोह में दर्शनार्थियों को दर्शन-पूजन करने की सुविधा प्रदान करने के लिए रोप-वे का निर्माण कराया गया है। वर्ष 2020 में रोप-वे बनकर तैयार हो गया था, लेकिन इसका लोकार्पण नहीं हो सका था। अब विंध्य कारिडोर के शिलान्यास के साथ ही रोप-वे का लोकार्पण भी गृहमंत्री अमित शाह व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा एक अगस्त को किया जाना है। इसके मद्देनजर प्रशासन की ओर से सारी तैयारी की जा रही है। विंध्याचल से लेकर जीआइसी तक सैंकड़ों की संख्या में पुलिस फोर्स लगाई गई है। बावजूद इसके समाजवादी छात्र सभा के पूर्व अध्यक्ष आकाश यादव सुरक्षा में सेंध लगाते हुए अपने समर्थकों के साथ विंध्याचल पहुंच गए और रोप-वे का उद्घाटन कर दिया। सोशल मीडिया पर इसकी फोटो व खबर वायरल होते ही प्रशासन में हड़कंप मच गया। भाजपा के लोग भी हैरान हो गए। पुलिस अधिकारियों ने तत्काल राेप-वे का उदघाटन करने वालों को चिन्हित करने का कार्य शुरू कर दिया। देर शाम तक एक व्यक्ति को चिन्हित कर लिया गया था।

बोले अधिकारी : रोप-वे का फीता काटने के मामले की जांच की जा रही है। ऐसे लोगों को चिन्हित किया जा रहा है और सख्त कार्रवाई की जाएगी। विंध्यधाम व अष्टभुजा पर पीएसी के साथ ही बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स लगा दी गई है। -अजय कुमार सिंह, पुलिस अधीक्षक

बोले जिम्‍मेदार : रोप-वे का फीता काटकर उद्घाटन करने की जानकारी मुझे सोशल मीडिया से हुई है। इन लोगों ने मुझे कोई जानकारी नहीं दी है और न ही अब तक पहले पूछा है। - देवी प्रसाद चौधरी, जिलाध्यक्ष समाजवादी पार्टी।

Edited By: Abhishek Sharma