जागरण संवाददाता, मीरजापुर। विंध्य कारिडोर के शिलान्यास के बाद निर्माण की प्रक्रिया अब तेज होगी। प्रथम चरण में विंध्यवासिनी मंदिर के चारों तरफ 50 फीट परिक्रमा पथ खाली कराया गया है। इसके साथ न्यू वीआइपी, पुरानी वीआइपी, थाना कोतवाली गली, पक्का घाट सड़क के 35 फीट तक चौड़ीकरण के लिए ध्वस्तीकरण कर खाली कराया गया है। अब कारिडोर निर्माण के लिए सारी प्रक्रियाएं पूर्ण कर ली गई है।

विंध्य कारिडोर योजना को 30 अक्टूबर 2020 को मंजूरी मिलने के बाद नवंबर 2020 में काम शुरू हुआ। इसके अक्टूबर 2021 तक साकार होने की संभावना जताई गई है। विंध्य कारिडोर की कुल लागत 331 करोड़ रुपये है। विंध्य कारिडोर के अंतर्गत मां विंध्यवासिनी मंदिर के चारों तरफ 50 फीट परिक्रमा पथ निर्माण के लिए 92 भवनों की प्रशासन ने रजिस्ट्री कराने के बाद ध्वस्तीकरण कराया है। यही नहीं, मलबा हटाकर परिक्रमा पथ साफ करा दिया गया है। इसके साथ ही न्यू वीआइपी गली, पुरानी वीआइपी गली, थाना कोतवाली गली, पक्का घाट की गली की जद में 195 संपत्तियां आ रही थीं। सभी की खरीदारी करने के बाद भवनों का ध्वस्तीकरण किया गया है। साथ ही इन मार्गों के 35 तक चौड़ीकरण के लिए मलबा हटाकर साफ कर दिया गया है। अब शिलान्यास के बाद परिक्रमा पथ का निर्माण शुरू हो जाएगा। इसके साथ ही विंध्य कारिडोर साकार होने लगेगा।

गलियों के चौड़ीकरण के लिए यह होंगे कार्य

विकास कार्य : लंबाई : लागत

परिक्रमा पथ : 50 फीट : 1941.41 लाख रुपये

न्यू वीआइपी गली : 35 फीट : 666.02 लाख रुपये

पुरानी वीआइपी गली : 40 फीट : 1567.28 लाख रुपये

कोतवाली गली : 35 फीट : 235.07 लाख रुपये

पक्का घाट की गली : 35 फीट : 902.24 लाख रुपये

Edited By: Abhishek Sharma