नई दिल्ली, टेक डेस्क। एन्क्रिप्टेड चैट की निगरानी करने के GCHQ योजना के विरोध में दुनियाभर की 47 कंपनियों ने एक साथ आवाज उठाई है। इन कंपनियों ने एक ओपन लेटर पर साइन किया है जिसमें एजेंसी के इस कदम की निंदा की है। साथ ही योजना को छोड़ने का भी आग्रह किया है। ऐसा इसलिए क्योंकि अगर यूजर की एन्क्रिप्टेड चैट की निगरानी की गई तो उनकी स्वतंत्रता और नागरिक अधिकारों की सुरक्षा में खलल पड़ सकती है। इन 47 कंपनियों में Apple, Google, Microsoft और WhatsApp जैसी कंपनियां भी शामिल है। ये कंपनियां इस प्रस्ताव की कड़ी निंदा कर रही हैं।

एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इस निगरानी योजना का प्लान नवंबर 2018 में यूके के दो साइबर सिक्योरिटी अधिकारियों इयान लेवी और क्रिस्पिन रॉबिन्सन निबंधों की एक श्रृंखला में प्रकाशित किया था। इसमें उन्होंने एक उदाहरण देते हुए एक सुझाव दिया था कि WhatsApp में एक तीसरे पार्टिसिपेंट को भी जोड़ा जाए। इस तीसरे पार्टिसिपेंट को हमेशा मैसेज भेजने वाले और मैसेज रिसीव करने वाले के मैसेज रिसीव होंगे। हालांकि, यह तरीका किसी पर निगरानी रखने वाला है।

WhatsApp से संबंधित कई बुक्स Amazon पर उपलब्ध हैं। अगर आप इन्हें खरीदना चाहते हैं तो इस लिंक पर क्लिक कर सकते हैं। Whatsapp - Complete Guide: How to use Whatsapp and exchange messages without having to pay for SMS

हालांकि, यह सब सिर्फ प्रस्ताव है। GCHQ ऐसा कुछ भी प्लान नहीं कर रहा है। वहीं, नेशनल साइबर सिक्योरिटी सेंटर के Ian Levy ने ओपन लेटर पर जवाब देते हुए कहा है कि वो कंपनियों की तरफ आए प्रस्ताव का स्वागत करते हैं। यह केवल बातचीत की शुरुआत है। उन्होंने कहा है कि हम सभी पार्टियों से बात कर इस पर कोई निष्कर्ष निकालेंगे।

WhatsApp से संबंधित कई बुक्स Amazon पर उपलब्ध हैं। अगर आप इन्हें खरीदना चाहते हैं तो इस लिंक पर क्लिक कर सकते हैं। Whatsapp Messenger guide

यह भी पढ़ें:

Realme C2 की फ्लैश सेल दोपहर 12 बजे होगी शुरू, मिल रहा ₹7,350 रुपये तक का ऑफर

32MP फ्रंट कैमरे वाला स्मार्टफोन मात्र ₹49 में खरीदने का मौका, जानें ऑफर डिटेल्स

आपको भी है गेमिंग का शौक तो ये स्मार्टफोन्स बन सकते हैं आपकी पहली पसंद

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Shilpa Srivastava