जागरण संवाददाता, फिरोजपुर। Punjab Farmers Protest: पंजाब में तीन कृषि सुधार कानूनों के बेवजह विरोध का असर व्यापक होता जा रहा है। लुधियाना में अदाणी ग्रुप का लाजिस्टिक पार्क बंद होने के बाद अब फिरोजपुर के वां गांव में साइलो प्लांट भी बंद हो गया है। यहां धान और चावल का भंडारण किया जाता है, लेकिन सात माह से किसान प्लांट के बाहर धरने पर बैठे हैं, लिहाजा अदाणी ग्रुप ने इसे बंद कर दिया है। इसके साथ ही ठेके पर रखे करीब 400 श्रमिकों को भी नौकरी से निकाल दिया है। गौरतलब है कि अदाणी लाजिस्टिक पार्क बंद होने से भी करीब इतने ही युवाओं को नौकरी से हाथ धोना पड़ा था।

ज्यादातर श्रमिक स्थानीय हैं और किसान परिवारों से ही संबंधित

हैरानी की बात यह है कि साइलो प्लांट से नौकरी से निकाले गए ज्यादातर श्रमिक स्थानीय हैं और किसान परिवारों से ही संबंधित हैं। अब वे दिहाड़ी पर काम के लिए भी तरस रहे हैं। उन्होंने फिरोजपुर के डीसी से भी गुहार लगाई, लेकिन मामला कोर्ट में होने के कारण प्रशासन भी असहाय नजर आ रहा है। पंजाब एंड हरियाणा हाई कोर्ट ने भी जून में जिला प्रशासन को आदेश दिए थे कि इस मामले को सुलझाने के लिए कोई रास्ता निकाला जाए। पूर्व डीसी गुरपाल सिंह चहल का कहना है कि हम किसानों से बात करके बीच का रास्ता निकालने का प्रयास कर रहे हैं। फिलहाल किसान हटने को तैयार नहीं है। गाैरतलब है कि पंजाब के कई जिलाें में कृषि कानूनाें काे लेकर प्रदर्शन हाे रहे हैं।

यह भी पढ़ें-आनलाइन गेम पर हुई दोस्ती, हाेशियारपुर के युवक ने घर में घुसकर जबरन शादी के लिए युवती पर किया हमला

यह भी पढ़ें-लुधियाना की घोड़ा मंडी में 'सिकंदर' और 'नवाब' पर सबकी नजर, 1.19 करोड़ मिलने पर भी मालिक बेचने काे तैयार नहीं

यह भी पढ़ें-होशियारपुर में महिला पुलिसकर्मियों को अजब ड्रेस काेड, जूड़ा बांधकर आना होगा ड्यूटी पर; हेयर स्‍टाइल नहीं चलेगा

Edited By: Vipin Kumar