Move to Jagran APP

क्‍या मैं ताली बजाऊं? पुरी के शंकराचार्य रामलला की प्राण प्रतिष्ठा में नहीं होंगे शामिल, कहा- हमसे नहीं ली गई सलाह

Odisha News पुरी के शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा में शामिल नहीं होंगे। उन्‍होंने कहा कि मुझे निमंत्रण मिला है लेकिन अधिकतम एक व्‍यक्ति के साथ आने का। उन्होंने आगे यह भी कहा कि अगर 100 लोगों को साथ ले जाने की भी इजाजत मिलती तो भी मैं नहीं जाता। आरोप लगाया कि इस समारोह को लेकर न उनसे सलाह ली गई न मार्गदर्शन मांगा गया।

By Jagran News Edited By: Arijita Sen Published: Fri, 05 Jan 2024 03:02 PM (IST)Updated: Fri, 05 Jan 2024 03:02 PM (IST)
क्‍या मैं ताली बजाऊं? पुरी के शंकराचार्य रामलला की प्राण प्रतिष्ठा में नहीं होंगे शामिल, कहा- हमसे नहीं ली गई सलाह
पुरी के शंकराचार्य राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा में नहीं होंगे शामिल।

संतोष कुमार पांडेय, अनुगुल। देश के श्रेष्ठतम संतों में से एक ओडिशा के जगन्नाथ पुरी में गोवर्धन पीठ के शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती ने घोषणा की है कि वह 22 जनवरी को अयोध्या में राम मंदिर के गर्भगृह में भगवान राम की मूर्ति की स्थापना के लिए नहीं जाएंगे।

loksabha election banner

बुधवार को मध्य प्रदेश के रतलाम शहर में सनातन धर्म सभा के एक धार्मिक कार्यक्रम के मौके पर पत्रकारों से बात करते हुए, शंकराचार्य (जो आदि शंकराचार्य द्वारा स्थापित चार मठों में से एक के प्रमुख हैं) ने स्पष्ट किया कि वह 22 जनवरी को अयोध्या नहीं जा रहे हैं।

बाद में कभी जाऊंगा अयोध्‍या: शंकराचार्य

उन्होंने कहा कि हमारे मठ को अयोध्या में 22 जनवरी के कार्यक्रम के लिए निमंत्रण मिला है, जिसमें कहा गया है कि अगर मैं वहां आना चाहता हूं, तो मैं अधिकतम एक व्यक्ति के साथ वहां आ सकता हूं। अगर मुझे वहां 100 लोगों के साथ रहने की इजाजत होती, तो भी मैं उस दिन वहां नहीं जाता।

उन्होंने कहा कि मैं पहले भी अयोध्या जाता रहा हूं और भविष्य में भी भगवान राम के दर्शन के लिए उसी धार्मिक शहर का दौरा करूंगा, खासकर तब जब सदियों से अवरुद्ध काम आखिरकार हो रहा है, लेकिन मंदिर में रामलला की मूर्ति की स्थापना शास्त्रीय विधि यानी हमारे शास्त्रों के सिद्धांत के अनुसार की जानी चाहिए।

मैं क्‍या वहां ताली बजाने जाऊंगा?: शंकराचार्य

गोवर्धन पीठ/मठ का अधिकार क्षेत्र प्रयाग तक है, लेकिन पूरे 22 जनवरी के धार्मिक अभ्यास के लिए न तो हमारी सलाह ली गई और न ही हमारा मार्गदर्शन मांगा गया।

शंकराचार्य ने कहा कि मैं बिल्कुल भी परेशान नहीं हूं, लेकिन किसी भी अन्य सनातनी हिंदू की तरह खुश हूं, खासकर इसलिए क्योंकि वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद को धर्मनिरपेक्ष के रूप में चित्रित करने में विश्वास नहीं करते हैं।

वह बहादुर हैं और हिंदुत्व और मूर्ति पूजा की अवधारणा पर गर्व करते हैं। वह कायर नहीं है, जो खुद को धर्मनिरपेक्ष दर्शाते हैं। लेकिन मैं शंकराचार्य के रूप में वहां क्या करूंगा, जब मोदीजी मूर्ति को छूएंगे और उसे वहां स्थापित करेंगे, तो क्या मैं ताली बजाऊंगा और उनकी जय-जयकार करूंगा।

पीएम मोदी हिंदुत्‍व के प्रति प्रतिबद्ध: शंकराचार्य

उन्होंने यह भी बताया कि कैसे नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री के रूप में शपथ लेने से पहले उनसे मुलाकात की थी और यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कोविड ​​​​-19 महामारी से पहले साल में कम से कम दो या तीन बार उनसे मुलाकात की थी तथा विश्व हिन्दू परिषद के पूर्व अध्यक्ष स्वर्गीय अशोक सिंघल मुझसे कम से कम 70 बार मिले थे।

पुरी के शंकराचार्य ने हिंदुत्व के प्रति प्रतिबद्धता के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा की, उन्होंने यह भी कहा कि तीर्थयात्राओं को अब विकास के नाम पर पर्यटन के केंद्रों में बदल दिया जा रहा है, जिसका अर्थ है कि तीर्थ स्थलों को भोग स्थलों में बदल दिया जा रहा है, शायद यही कारण है कि तीर्थ स्थल अपनी संस्कृति और मर्यादा खो रहे हैं। 

यह भी पढ़ें: 'किसी को शायद नहीं है मेरी परवाह'...सूरत के एक कार्यक्रम में छलका पुरी शंकराचार्य का दर्द, कहा- कोई नहीं लेता मुझसे सलाह

यह भी पढ़ें: ओडिशा को कम नहीं आंकती भाजपा: प्रदेश में आज पार्टी की चिंतन बैठक, वंदे भारत से पहुंचे तमाम दिग्‍गज

यह भी पढ़ें: Ayodhya Ram Mandir: 'जगन्नाथ' महाप्रभु को अयोध्या से आया निमंत्रण, स्वागत समिति ने इन सामानों के साथ किया आमंत्रित


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.