नई दिल्ली, जेएनएन। देश में इन दिनों लीना मणिमेकलाई के निर्देशन में बनी डॉक्यूमेंट्री फिल्म काली को लेकर बवाल मचा हुआ है। लीना ने काफी उत्साहित होकर अपनी फिल्म का पोस्टर शेयर किया था, लेकिन मां काली को सिगरेट पीते हुए दिखाने उनके लिए काफी भारी पड़ गया।

सोशल मीडिया पर पोस्टर को लेकर शुरू हुआ विरोध अब पुलिस एफआईआर तक पहुंच गया है। ये पहली बार नहीं है जब लीना अपनी फिल्म को लेकर विवादों में घिरी हैं। काली से पहले भी लीना कई ऐसी फिल्में बना चुकी हैं जिनपर हंगामा खड़ा हो गया था। क्या आप जानते हैं कि ये लीना मेणिमेकलाई आखिर हैं कौन जिनका विवादित फिल्में बनाने से गहरा रिश्ता रहा है। चलिए हम आपको बताते है लीना के बार में...

यह भी पढ़ें: देश के बाद विदेश पहुंचा पोस्टर विवाद , जानें लीना मणिमेकलाई पर एफआईआर से लेकर उच्चायोग की आपत्ति तक पूरी अपडेट

लीना मणिमेकलाई तमिल नाडु के मदुरै में जन्मी हैं और कानाडा के टोरंटो बेस्ड फिल्ममेकर हैं। फिल्में बनाने के अलावा लीना एक अभिनेत्री और कवियत्री भी हैं। लीना ने अपने करियर की शुरुआत असिस्टेंट डायरेक्टर के तौर पर की थी। उन्होंने कई मेनस्ट्रीम फिल्ममेकर्स को असिस्ट किया। लीना ने साल 2002 में देवदासी प्रथा को लेकर 'मथम्मा' नाम की एक फिल्म बनाई। इस फिल्म को लेकर अरुंधत‍ियार समुदाय समेत खुद उनके पर‍िवार ने लीना का विरोध किया था।

यह भी पढ़ें: लीना मणिमेकलाई के खिलाफ दर्ज हुई शिकायत, डायरेक्टर बोलीं- मेरे पास खोने को कुछ नहीं

लीना रुकी नहीं उन्होंने इसके बाद साल 2004 में दलित मह‍िलाओं के ख‍िलाफ होने वाली हिंसा पर डॉक्यूमेंट्री फिल्म 'पाराई' बनाई। इस फिल्म पर भी खूब बवाल मचा था। इतने विरोध के बाद लीना डटी रहीं और उन्होंने साल 2011 में फीचर फिल्म 'सेनगदल' बनाई। यह इंडिया और श्रीलंका के बीच फंसे मछुवारों की कहानी पर बनी थी, जिसका फोकस तमिल नाडु के शहर धनुषकोडी पर था।

यह भी पढ़ें: काली फिल्म के पोस्टर पर बढ़ा बवाल, जानिए- क्या बोलीं बंगाली एक्ट्रेस नुसरत जहां

फिल्म में कई अपत्तिजनक टिप्पणियां होने की बात कहकर रीजनल सेंसर बोर्ड ने इस फिल्म की रिलीज पर बैन लगा दिया था, लेकिन लीना ने हार नहीं मानी और फिल्म को, फिल्म अपीलेट ट्रिब्यूनल के सामने रखी। जहां इसे बिना किसी कट के पास कर दिया गया। अपनी हर फिल्म को लेकर विरोध और अक्रोश देखने के बाद लीना अब एक बार फिर अपनी नई डॉक्यूमेंट्री काली के साथ हाजिर हैं।  

Edited By: Vaishali Chandra