नई दिल्ली, जेएनएन। लीना मणिमेकलाई की फिल्म काली के पोस्टर पर शुरू हुआ विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। देश के बाद विवाद अब विदेश तक पहुंच गया है। एक तरफ लीना पर उत्तर प्रदेश और दिल्ली में एफआईआर दर्ज करा दी गई है तो वहीं, दूसरी तरफ कनाडा में भारतीय उच्चायोग ने स्थानिय प्रशासन को पत्र लिखा है और फिल्म की भड़काऊ सामग्री को तुरंत हटाने का अनुराध किया है। सोशल मीडिया पर शुरू हुए इस पोस्टर विवाद के पूरे घटनाक्रम की बात करें तो अब तक कि अपडेट कुछ इस तरह से है,

लीना मणिमेकलाई ने शेयर किया पोस्टर

तमिल नाडु में जन्मी और टोरंटो बेस्ड फिल्ममेकर लीना मणिमेकलाई ने 2 जुलाई को अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर फिल्म काली का पोस्टर साझा किया और जानकारी दी कि उनकी डॉकयूमेंट्री काली को आगा खान म्यूजियम में जगह मिली है, साथ ही इसे 'रिदम ऑफ कानाडा' फेस्टिवल में दिखाया जाएगा। शेयर किए गए पोस्टर में हिंदू देवी काली की वेशभूषा में एक लड़की को दिखाया गया, जो सिगरेट पी रही है और साथ ही एक हाथ में एलजीबीटीक्यू का झंडा लिए हुए है। मां काली को इस तरह सिगरेट पीते हुए दिखाए जाने को कुछ लोगों ने अपमानजनक बताया और इसे हिंदुओं की धार्मिक भावनाओं को भड़काए जाने वाला पोस्टर बताया।

'अरेस्ट लीना मणिमेकलाई' हुआ ट्रेंड

सोशल मीडिया पर शुरू हुआ विरोध 3 जुलाई तक बवाल में बदल गया और ट्विटर पर 'अरेस्ट लीना मणिमेकलाई' ट्रेंड करने लगा। कुछ लोगों ने लीना के खिलाफ शिकायत दर्ज कराने की भी बात भी कही।

यह भी पढ़ें: जानें कौन हैं लीना मणिमेकलाई, जिनकी फिल्म के पोस्टर पर मचा है घमासान, FIR तक हो चुकी है दर्ज

लीना ने रखा अपना पक्ष

पोस्टर को लेकर बढ़ते हुए बवाल पर लीना ने 4 जुलाई को अपनी प्रतिक्रिया दी और आखिरी दम तक अपनी बात पर टिके रहने की बात कही। साथ ही उन्होंने ट्विटर पर लोगों को नफरत की जगह प्यार को चुनने की सलाह दी और 'अरेस्ट लीना मणिमेकलाई' की जगह 'लव लीना मणिमेकलाई' को ट्रेंड कराने की बात कही।

दर्ज हुई शिकायत

एएनआई की खबर के अनुसार, 4 जुलाई को लीना के खिलाफ दो जगह शिकायत दर्ज कराई गई। एक शिकायत दिल्ली के वकील विनीत जिंदल ने लीना के खिलाफ दर्ज कराई है। उन्होंने आपत्तिजनक फोटो और डॉक्यूमेंट्री से क्लिप पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है। उनके अनुसार, "देवी काली के वेश में एक महिला सिगरेट पी रही है, जो हिंदू समुदाय की भावनाओं और विश्वासों को आहत कर रही है।" इसके अलावा एक और शिकायत लीना के खिलाफ दर्ज हुई है जो गौ महासभा सदस्य अजय गौतम ने कराई है।

यह भी पढ़ें: काली फिल्म के पोस्टर पर बढ़ा बवाल, जानिए- क्या बोलीं बंगाली एक्ट्रेस नुसरत जहां

दिल्ली और उत्तर प्रदेश में एफआईआर

शिकायत दर्ज होने के बाद 4 जुलाई को ही लीना पर दो एफआईआर भी दर्ज हो गईं। एक एफआईआर डायरेक्टर पर लखनऊ सेंटर के हजरतगंज थाना में दर्ज किया गया है। एएनआई की खबर के अनुसार, ''यूपी पुलिस ने आपराधिक साजिश, पूजा स्थल पर अपराध, जानबूझकर धार्मिक भावनाओं को आहत करने, फिल्म निर्माता लीना मणिमेकलाई के खिलाफ उनकी फिल्म 'काली' के लिए हिंदू के अपमानजनक चित्रण के लिए शांति भंग करने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज की है।''

लीना पर एफआईआर आईपीसी की धारा 120-बी, 153-बी, 295, 295-ए, 298, 504, 505 (1) (बी), 505 (2), 66 और 67 के तहत दर्ज किया गया है। वहीं, दूसरी एफआईआर दिल्ली के आईएफएसओ यूनिट ने दर्ज कराई है। जो कि आईपीसी की धारा 153A and 295A के तहत दर्ज की गई है।

भारतीय उच्चायोग ने कनाडा प्रशासन को लिखा पत्र

4 जुलाई को ही कनाडा के भारतीय उच्चायोग ने स्थानिय प्रशासन को पत्र लिखा और तुरंत फिल्म काली से अपमानजनक चित्र को हटाने का अनुरोध किया। उच्चायोग ने एक बयान जारी कर कहा, "हमें कनाडा के हिंदू समुदाय के नेताओं की ओर से एक फिल्म के पोस्टर पर देवी-देवताओं के अपमानजनक प्रस्तुतीकरण को लेकर शिकायत मिली है जो टोरंटो के अगा खान म्यूजियम के 'अंडर द टेंट प्रोजेक्ट' का हिस्सा है।"

"टोरंटो में मौजूद हमारे काउंसुलेट जनरल ने इवेंट के आयोजकों को इन चिंताओं की जानकारी दे दी है। हमें ये भी जानकारी मिली है कि कई हिंदू समूहों ने कार्रवाई किए जाने की मांग को लेकर कनाडा में प्रशासन से संपर्क किया है। हम कनाडा की सरकार और इवेंट के आयोजकों से ऐसी भड़काने वाली सामग्री वापस लेने की अपील करते हैं।" 

Edited By: Vaishali Chandra