देहरादून, राज्य ब्यूरो। Uttarakhand Lok sabha election 2019 result live: देवभूमि उत्तराखंड ने एक बार फिर 'नमो लहर' के साथ खुद को आत्मसात करते हुए लोकसभा चुनाव में राष्ट्रीय सुर में सुर मिलाया। भाजपा ने एक बार फिर से राज्य की पांचों लोस सीटों पर परचम फहराया। हरिद्वार में भाजपा प्रत्याशी पूर्व मुख्यमंत्री रमेश पोखरियाल निशंक, नैनीताल में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष अजय भट्ट, टिहरी में माला राज्यलक्ष्मी शाह, पौड़ी में राष्ट्रीय सचिव तीरथ सिंह रावत और अल्मोड़ा में केंद्रीय राज्यमंत्री अजय टम्टा निर्वाचित घोषित किए गए। भाजपा प्रत्याशियों की जीत का अंतर 2.33 लाख से 3.39 लाख मतों के बीच रहा। निशंक और टम्टा की यह लगातार दूसरी जीत है, जबकि माला राज्यलक्ष्मी शाह ने हैट्रिक लगाई है। भट्ट और रावत पहली बार संसद की सीढिय़ां चढ़ेंगे। इसके साथ ही कांग्रेस का राज्य में सूपड़ा साफ हो गया। साख बचाने की उसकी मुहिम मोदी के नाम की सुनामी में गुम हो गई। पराजय का स्वाद चखने वालों में कांग्रेस के दिग्गजों में राष्ट्रीय महासचिव एवं पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह, राज्यसभा सदस्य प्रदीप टम्टा शामिल हैं। चार सीटों पर महागठबंधन के प्रत्याशियों को मन मसोसकर रहना पड़ा। 

राज्य में प्रथम चरण में हुए लोकसभा चुनाव के लिए 11 अपै्रल को मतदान हुआ था। दिग्गजों की मौजूदगी के चलते सभी सीटें वीआइपी की श्रेणी में शामिल थीं और नतीजों पर मुख्य प्रतिद्वंद्वियों भाजपा एवं कांग्रेस की नजरें टिकी हुई थीं। पांचों सीटों पर किस्मत आजमा रहे 52 प्रत्याशियों का ईवीएम में बंद पिटारा गुरुवार को मतगणना में खुला। जिला मुख्यालयों में सुबह आठ बजे से शुरू हुई मतगणना देर रात पूरी हुई। इसके साथ ही जनादेश को लेकर तस्वीर भी साफ हो गई। सभी सीटों पर भाजपा ने एक बार फिर कब्जा जमाकर पिछला प्रदर्शन दोहराने में कामयाबी हासिल की। इसके साथ ही राज्य में लोस चुनाव में लगातार दूसरी बार क्लीनस्वीप करने वाली भाजपा पहली पार्टी बन गई है।

उत्तराखंड की तस्वीर

लोकसभा क्षेत्र-नैनीताल

  • अजय भट्ट (भाजपा)-772195
  • हरीश रावत (कांग्रेस )-433099
  • नवनीत अग्रवाल (बसपा)-28455

लोकसभा क्षेत्र-हरिद्वार

  • रमेश पोखरियाल निशंक (भाजपा)-  665674
  • अंबरीश कुमार (कांग्रेस)-406945
  • अंतरिक्ष सैनी (बसपा)-173528

लोकसभा क्षेत्र-अल्मोड़ा

  • अजय टम्टा (भाजपा)-444651
  • प्रदीप टम्टा (कांग्रेस)-211665

लोकसभा क्षेत्र-पौड़ी

  • तीरथ सिंह रावत (भाजपा)-506980
  • मनीष खंडूरी (कांग्रेस)-204311

लोकसभा क्षेत्र-टिहरी

  • माला राज्य लक्ष्मी शाह (भाजपा)- 565333
  • प्रीतम सिंह (कांग्रेस)-264747

ईवीएम की मतगणना पूरी होने के साथ ही भाजपा प्रत्याशियों ने अजेय बढ़त हासिल कर ली थी। रात साढ़े ग्यारह बजे तक पोस्टल बैलेट की गिनती के बाद नतीजे घोषित कर दिए गए। 

नैनीताल सीट पर पहली बार चुनाव मैदान में उतरे भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट रिकार्ड मतों से निर्वाचित घोषित किए गए। भट्ट ने 772195 मत हासिल कर अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव एवं पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत (433099) को 339096 मतों के बड़े अंतर से पराजित किया।

अल्मोड़ा सीट पर भाजपा प्रत्याशी केंद्रीय राज्यमंत्री अजय टम्टा ने 444651 मत हासिल लगातार दूसरी जीत दर्ज की। उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी राज्यसभा सदस्य एवं कांग्रेस प्रत्याशी प्रदीप टम्टा को 211665 मत प्राप्त हुए।

हरिद्वार सीट पर भी भाजपा प्रत्याशी पूर्व मुख्यमंत्री एवं सांसद रमेश पोखरियाल निर्वाचित घोषित किए गए। निशंक ने  665674 मत हासिल कर अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के अंबरीष कुमार (406945) पर 258729 मतों से पराजित किया।

टिहरी सीट पर भाजपा प्रत्याशी सांसद माला राज्यलक्ष्मी शाह ने 565333 मत हासिल कर जीत दर्ज की। उन्होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह (264747) को 300587 मतों से हराया। माला राज्यलक्ष्मी शाह की लोस चुनाव में यह तीसरी जीत है। इससे पहले वह उप चुनाव और फिर 2014 में भी इस सीट पर जीती थी।

पौड़ी सीट पर भाजपा के राष्ट्रीय सचिव तीरथ सिंह रावत ने 302669 मतों से जीत हासिल की। उन्होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के मनीष खंडूड़ी (204311) को शिकस्त दी। उधर, रिकार्ड मतों से मिली जीत की खुशी में भाजपा ने जश्न मनाया, जबकि कांग्रेस खेमे में मायूसी छायी रही।

बोले मुख्‍यमंत्री

त्रिवेंद्र सिंह रावत (मुख्यमंत्री उत्तराखंड) का कहना है कि लोकतंत्र की आज फिर जीत हुई है। भाजपा की ऐतिहासिक जीत के लिए मतदाताओं और कार्यकर्ताओं का आभार। जनता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व और विकासवादी नीतियों पर भारी बहुमत से विश्वास जताया है। प्रधानमंत्री ने उत्तराखंड को भी विकास की कई अहम योजनाओं को तोहफा दिया है। विपक्ष अपनी हार से बौखलाया हुआ है। यही कारण है कि वह इसका ठीकरा ईवीएम पर फोड़ रहा है, जबकि ईवीएम से चुनाव प्रक्रिया पारदर्शी हुई है। कांग्रेस ने ईवीएम के जरिये ही कई राज्यों में चुनाव जीते हैं। ऐसे में उसे ईवीएम की निष्पक्षता पर सवाल नहीं उठाने चाहिए। 

यह भी पढेें: Lok Sabha Election: लापरवाही: ईवीएम मशीनों से नहीं हटाए गए मॉक पोल के वोट  

Lok Sabha Election 2019: एग्जिट पोल से भाजपा में खुशी की लहर, कांग्रेस को 23 का इंतजार

एग्जिट पोल पर हरदा ने तोड़ी चुप्‍पी, बोले- विश्वास करने लायक नहीं एग्जिट पोल के नतीजे

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sunil Negi