नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। राजधानी में लगातार बढ़ रहे कोरोना के मरीजों की वजह से स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा गई है। अस्पतालों में आइसीयू बेड खत्म हो गए हैं, जीवन देने वाली आक्सीजन की कमी हो गई है। दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कुछ दिन पहले ही इस तरह के संकेत दिए थे कि यदि मेडिकल व्यवस्था चरमरा गई तो राजधानी में लॉकडाउन लगाना पड़ सकता है। आज उन्होंने इस बात की घोषणा भी कर दी। घोषणा करने के दौरान उन्होंने कहा कि हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं, मेडिकल व्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गई है। अस्पतालों से जो रिपोर्ट मिल रही है उनके पास न तो बेड बचे हैं और न ही जीवन देने वाली आक्सीजन, ऐसे में लॉकडाउन लगाने के अलावा कोई चारा नहीं बचता है।

उन्होंने लोगों से अनुरोध किया है कि लॉकडाउन छह दिन का है। उन्होंने कामगारों और मजदूरों से निवेदन किया कि इस दौरान आप लोग अपने गांव न चले जाएं। उम्मीद है कि लॉकडाउन आगे नहीं बढ़ाना पड़ेगा। मैं लॉकडाउन के खिलाफ रहा हूं। मगर अब ऐसा करना पड़ रहा है। मैंने और उपराज्यपाल जी ने मिलकर फैसला लिया है। पहले भी जीत मिली है, अभी भी जीत मिलेगी। हमने जब भी कड़े फैसले लिए जनता काे बताया।

ये भी पढ़ें:- जानिए कोरोना वायरस से बचाव में डॉक्टर किस मास्क को बता रहे सबसे ज्यादा कारगर

उन्होंने कहा कि दिल्ली में कोरोना की स्थिति बहुत गंभीर है। दिल्ली का हेल्थ सिस्टम तनाव में है। मैं यह नहीं कह रहा कि सिस्टम ठप हो गया है। मगर अब और केस बढ़े तो हेल्थ सिस्टम ठप हो जाएगा। पिछले 24 घंटे में दिल्ली में कोरोना के 23,500 मरीज आए हैं। आक्सीजन की कमी बनी हुई है। दिल्ली में शुक्रवार को कोरोना के रिकॉर्ड 19,486 नए केस मिले और 141 मरीजों की जान चली गई। बीते एक सप्ताह में ही 97,097 मामले सामने आ चुके हैं। इस तरह सक्रिय केसों की संख्या 61,005 हो गई है। हालांकि, पिछले 24 घंटे में 12,649 मरीज स्वस्थ भी हुए हैं।

मीडिया के सामने आए सीएम केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के लगभग 25,500 केस सामने आए हैं। चिंता की बात है कि पिछले 24 घंटे में पॉजिटिविटी रेट बढ़कर क़रीब 30% हो गया है। मामले बहुत तेज़ी से बढ़ रहे हैं। बेकाबू होते रफ्तार को देखते हुए उन्होंने केंद्र सरकार से भी मदद मांगी है। उन्होंने बताया कि मरीजों की संख्या बढ़ने की वजह से आईसीयू बेड कम होते जा रहे हैं। केंद्र सरकार से आक्सीजन, बेड और कोरोना को लेकर दवाइयां तुरंत मांगी गई हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई के दौरान हमें केंद्र सरकार से हमेशा मदद मिली है।

ये भी पढ़ें:- Coronavirus: जिसके सपने भी न आए, वो हालात देख रही दिल्ली, अंतिम संस्कार के लिए बनाने पड़ रहे नए प्लेटफार्म

उन्होंने बताया कि बेडों की कमी को सामाजिक संस्थाओं के माध्यम से इंतजाम किया जा रहा है। चार दिन के अंदर 6 हजार बेड जुटा लिए जाएंगे। केंद्र सरकार के दिल्ली में 10 हजार बेड हैं। उनसे बेड मांगे गए हैं। साथ ही उन्होंने अफसरों के साथ बैठक की और सख्त निर्देश दिए कि कोई भी दवाईयों की कालाबाजारी करता है तो उस पर कड़ी कार्रवाई की जाए।
राजधानी में बीते 24 घंटे में कोरोना के लगभग 25,500 मामले
दिल्ली में पिछले 24 घंटे में कोरोना के लगभग 24,000 मामले सामने आए हैं। पॉजिटिविटी दर 24 फीसद से ज्यादा हो गई है। स्थिति काफी गंभीर है। दिल्ली में अब ऑक्सीजन और रेमडेसिविर की कमी होने लगी है। ऑक्सीजन और आइसीयू बेड खत्म हो चुके हैं। सरकार कोशिश कर रही है कि बेड बढ़ाया जाए। उम्मीद है कि अगले 2-4 दिन में हम बड़े स्केल पर बेड बढ़ा पाएंगे। यमुना स्पोर्टस कॉम्पलेक्स और कॉमनवेल्थ गेम्स में लगभग 1300 ऑक्सीजन बेड का इंतजाम किया जा रहा है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप