नजरिया

स्मार्ट बनने की राह पर शिमला

Posted on:Sun, 25 Jun 2017 08:05 AM (IST)
        

शिमला अव्यवस्थित तरीके से आग बढ़ा है। जगह-जगह अतिक्रमण हो गया है। ऐसे में स्मार्ट सिटी की जरूरत के हिसाब से व्यवस्था को लागू करना काफी मुश्किल होगा।और पढ़ें »

स्मार्ट सिटी का तोहफा

Posted on:Sun, 25 Jun 2017 07:53 AM (IST)
        

स्मार्ट सिटी के तहत सभी को फ्लैट उपलब्ध करवाने का भी प्रावधान है।और पढ़ें »

उद्देश्य का सम्मान जरूरी

Posted on:Sun, 25 Jun 2017 07:43 AM (IST)
        

प्रदेश में होने वाले हादसों में सबसे बड़ी संख्या हाईवे के हादसों की ही होती थी। शराब का नशा ही इस हालात के पीछे सबसे बड़ा कारण थाऔर पढ़ें »

आंकड़ों की हकीकत

Posted on:Sun, 25 Jun 2017 07:37 AM (IST)
        

झारखंड ने इस मामले में पिछले साल भी बाजी मारी थी। इस एवज में उसे 7.28 करोड़ रुपये की प्रोत्साहन राशि मिली थी।और पढ़ें »

ड्रग माफिया का तंत्र

Posted on:Sun, 25 Jun 2017 07:33 AM (IST)
        

अपराध संहिता तैयार करते समय ऐसे अपराधों की कल्पना नहीं की गई होगी। राज्य सरकार को चाहिए कि इसके लिए कड़ा कानून बनाया जाए।और पढ़ें »

विद्यालयों का मुआयना

Posted on:Sun, 25 Jun 2017 07:21 AM (IST)
        

राज्य गठन के बाद अब तक प्राथमिक स्तर पर छात्रसंख्या में 50 फीसद की कमी आ चुकी है। उच्च प्राथमिक और माध्यमिक स्तर पर भी साल-दर-साल यह समस्या गंभीर होती जा रही है।और पढ़ें »

असुरक्षा के साये में ट्रेन यात्री

Posted on:Sun, 25 Jun 2017 07:14 AM (IST)
        

जब केंद्र में अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री थे तो मथुरा में उनकी बहन के पौत्र को ट्रेन से फेंककर मार डाला गया था।और पढ़ें »

लुभावनी योजना

Posted on:Sun, 25 Jun 2017 07:09 AM (IST)
        

अपनी छत देकर बगैर किसी प्रकार का निवेश किए सौर ऊर्जा का उत्पादन कर लोग न केवल अपने वास्ते बिजली तैयार कर सकते हैं बल्कि उससे लाभ भी अर्जित कर सकते हैं।और पढ़ें »

आतंक का वीभत्स रूप

Posted on:Sun, 25 Jun 2017 07:02 AM (IST)
        

एक अर्से से इसकी जरूरत महसूस की जा रही है कि जम्मू-कश्मीर पुलिस के साथ वहां तैनात सेना एवं सुरक्षा बलों को अतिरिक्त अधिकारों और संसाधनों से लैस किया जाना चाहिए।और पढ़ें »

अब संकट में जीटीए

Posted on:Sat, 24 Jun 2017 07:58 AM (IST)
        

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पहले ही कहा था कि जीटीए का कार्यकाल खत्म होनेवाला है। 2 अगस्त 2017 के पहले हर हाल में चुनाव कराना पड़ेगा। और पढ़ें »

हिमाचल में अवैध कब्जे

Posted on:Sat, 24 Jun 2017 07:50 AM (IST)
        

आखिर भरी बरसात में ये परिवार कैसे काटते? जैसे-तैसे इन लोगों ने समय काटा। आज भी कई रसूखदार लोग हैं, जो कब्जा जमा बैठे हैं। और पढ़ें »

नापाक मंसूबों को समझें

Posted on:Sat, 24 Jun 2017 07:45 AM (IST)
        

इस समय पुलिस का ध्यान 29 जून से शुरू हो रही अमरनाथ यात्र को सुचारु रूप से शुरू करने पर लगा हुआ है। ऐसे में शरारती तत्वों की कोशिश होती है कि शांत जम्मू के माहौल को बिगाड़ा जा सके। और पढ़ें »

सदन की मर्यादा

Posted on:Sat, 24 Jun 2017 07:37 AM (IST)
        

विधानसभा अखाड़ा बन गई। कुछ विधायकों की पगड़ियां उछल गईं तो कुछ महिला विधायकों की चुन्नियां खिंच गईं। दो विधायक मूर्छित हो गए। और पढ़ें »

शीघ्र नियुक्ति जरूरी

Posted on:Sat, 24 Jun 2017 07:14 AM (IST)
        

राज्य में योग्य और प्रशिक्षित शिक्षकों की भी भारी कमी है। इन कॉलेजों में व्याख्याताओं की नियुक्ति होने से इस समस्या से निजात मिल सकती है। और पढ़ें »

स्मार्ट होता बिहार

Posted on:Sat, 24 Jun 2017 07:00 AM (IST)
        

बिहार के शहर, खासकर पटना अपनी शानदार सांस्कृतिक व शैक्षिक विरासत के लिए इतिहास में खास दर्जा रखते हैं। और पढ़ें »

अतिक्रमण पर सख्ती

Posted on:Sat, 24 Jun 2017 06:34 AM (IST)
        

सरकार की सराहना इसलिए भी की जानी चाहिए कि अतिक्रमण को हटाने के लिए इस बार रणनीति कुछ हटकर बनी थी।और पढ़ें »

इस तरफ ध्यान दे सरकार

Posted on:Sat, 24 Jun 2017 06:30 AM (IST)
        

हरियाणा सरकार ने एक और अच्छा फैसला यह लिया है कि तीन गांवों को जोड़ने वाले संपर्क मार्गो की चौड़ाई 12 फीट से बढ़ाकर 18 फीट की जाएगी।और पढ़ें »

हक के लिए

Posted on:Sat, 24 Jun 2017 06:22 AM (IST)
        

गुलाबी गैंग अपने हक के लिए आवाज उठाने वाली महिलाओं का समूह है। नाम गुलाबी गैंग इसलिए क्योंकि सदस्य महिलाओं के लिए गुलाबी साड़ी पहनना अनिवार्य है।और पढ़ें »

ईमानदारी जरूरी

Posted on:Sat, 24 Jun 2017 06:16 AM (IST)
        

दिल्ली के विकास को गति देने के लिए मौजूदा स्थिति में भी सुधार की अत्यंत जरूरत है। आबादी बहुत ज्यादा होने से दिल्ली का बुनियादी ढांचा पहले ही चरमरा रहा है।और पढ़ें »

श्रीनगर में बर्बरता

Posted on:Sat, 24 Jun 2017 06:08 AM (IST)
        

अयूब की निर्मम हत्या के बाद अलगाव और आतंक समर्थक नेताओं की आंखें खुलेंगी, क्योंकि वे पाकिस्तान के हाथों खेलने के साथ ही उससे लाभान्वित भी रहे हैं।और पढ़ें »

    यह भी देखें