PreviousNext

सीएम नीतीश ने की बड़ी घोषणा- बिहार में बदलेगा परीक्षा का पैटर्न

Publish Date:Tue, 21 Mar 2017 05:22 PM (IST) | Updated Date:Wed, 22 Mar 2017 10:57 PM (IST)
सीएम नीतीश ने की बड़ी घोषणा- बिहार में बदलेगा परीक्षा का पैटर्नसीएम नीतीश ने की बड़ी घोषणा- बिहार में बदलेगा परीक्षा का पैटर्न
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने यह घोषणा किया है कि राज्य में होने वाली सभी परीक्षाओं के प्रश्न और उत्तर के बाद मूल्यांकन की सारी प्रक्रिया को भी ऑनलाइन किया जायेगा।

पटना [जेएनएन]। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार में विभिन्न परीक्षाओं का पैटर्न शीघ्र बदलने की घोषणा की। श्रीकृष्ण मेमोरियल हाल में चौथे बिहार उद्यमी सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि प्रश्न से लेकर उत्तर और मूल्यांकन की संपूर्ण प्रक्रिया पारदर्शी बनाई जाएगी।

सभी जानकारी आनलाइन उपलब्ध करा दी जाएगी ताकि न तो किसी को कोई भ्रम रहे और न ही किसी गड़बड़ी की गुंजाइश ही बचे। इसके लिए अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए गए हैं। जल्द ही नया पैटर्न लागू कर दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में शिक्षा के क्षेत्र में बहुत काम हुए हैं। पोशाक और साइकिल योजनाओं के कारण बालिकाओं का स्कूलों में नामांकन कई गुना बढ़ा है। नवीं कक्षा में पहले बालिकाओं की संख्या 1.70 लाख थी, जो अभी बढ़कर 9 लाख से ऊपर हो गई है। इसके बावजूद उच्च शिक्षा में यानी 12वीं के बाद नामांकन मात्र 13 प्रतिशत है।

इसके लिए सात निश्चय कार्यक्रम के तहत स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना लागू की गई है। इतने काम करने के बावजूद परीक्षा एवं मूल्यांकन में गड़बड़ी हो जाती है और हमें जांच-पड़ताल में अपनी ऊर्जा लगानी पड़ती है। अब किसी के माथे पर तो लिखा नहीं होता है कि वह गलत करेगा। इसी कारण अब परीक्षा एवं मूल्यांकन का पैटर्न बदला जाएगा। किसी को भी यह जानने का अधिकार है कि उसे कम नंबर क्यों मिले, या किसी प्रतियोगिता परीक्षा में उसका चयन क्यों नहीं हुआ।

मुख्यमंत्री दरअसल हाल में मौजूद एक उद्यमी नेमी कुमार द्वारा स्टार्ट-अप स्कीम में चयन नहीं होने पर हंगामा करने पर उसे संतुष्ट करने के क्रम में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि उद्योग विभाग ने 700 में से 108 स्टार्ट-अप उद्यमियों का ही चयन किया है, लेकिन यह अभी फाइनल नहीं है। फिर भी व्यवस्था पारदर्शी होनी चाहिए। उसे यह जानकारी मिलनी चाहिए कि उसके प्रस्ताव का चयन क्यों नहीं हुआ। बाद में उन्होंने नेमी कुमार को अलग से बुलाकर उससे बातचीत भी की।

यह भी पढ़ें: नाले की सफाई में मिले 500 और 1000 के पुराने नोट, पुलिस हैरान

लागू हो गई है संशोधित स्टार्ट-अप नीति
मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले वर्ष बनी स्टार्ट-अप नीति में संशोधित कर इस साल नई स्टार्ट-अप नीति बनाई गई है, जिसे 17 मार्च से लागू कर दिया गया है। उन्होंने इस मौके पर नई स्टार्ट-अप नीति की प्रति भी रिलीज की। उन्होंने कहा कि युवा उद्यमियों को हर प्रकार की सुविधा दी जाएगी। सात निश्चय कार्यक्रम के तहत ही उन्हें वित्तीय सहायता देने के लिए 500 करोड़ रुपये का वेंचर कैपिटल फंड बना है। जिन स्टार्ट-अप उद्यमियों के प्रस्ताव स्वीकृति होंगे, उन्हें दस वर्षों तक के लिए दस लाख तक का ब्याजमुक्त ऋण दिया जाएगा।

कार्यक्रम में मौजूद ग्रामीण नवाचार गुरू के नाम से प्रसिद्ध विशेषज्ञ प्रो. अनिल गुप्ता की सलाह पर स्टार्ट-अप नीति के तहत गांवों में भी इनक्यूबेशन सेंटर बनाने पर सहमति जताई। उन्होंने कहा कि आप इसका मॉडल बना दें, हम कार्यान्वयन को तैयार हैं। अभी ये इनक्यूबेशन सेंटर विभिन्न शिक्षण संस्थाओं एवं विश्वविद्यालयों में खुलने हैं।

नीतीश कुमार ने कहा कि महिला उद्यमियों को भी प्रोत्साहित करने की आवश्यकता है। बिहार में नारी सशक्तीकरण पर बहुत काम हुआ है। उन्होंने सुझाव दिया कि नए उद्यमी जब आवेदन दें तब उसी समय से उन्हें गाइड किया जाए। स्टार्ट-अप उद्यमियों को प्रस्ताव एवं डीपीआर तैयार करने में मदद के लिए उद्योग विभाग में अलग से एक सेल गठित किया गया है।

यह भी पढ़ें:  PATNA SEX RACKET: निखिल को रिमांड पर लेकर पूछताछ कर रही है पुलिस      

उन्होंने कहा कि बिहार में काम करने का जबर्दस्त जज्बा है। काम के लिए यहां के लोग चांद पर भी जा सकते हैं। बिहार में शराबबंदी लागू की गई है, हालांकि कुछ लोग पीने के अधिकार का दावा कर इसका विरोध कर रहे हैं। परन्तु शराबबंदी से बेहतर माहौल बना है। अपराध की घटनाएं कम हुई हैं, सड़क दुर्घटनाओं में कमी आई है। यह माहौल युवा उद्यमियों को प्रोत्साहन एवं बढ़ावा देगा। बिजली की स्थिति यहां बहुत बेहतर है।

पिछले चुनाव में प्रधानमंत्री को किसी ने गलत फीडबैक दे दिया था जिसके कारण वह अपनी सभाओं में बिजली संकट की बात कर रहे थे। परन्तु बाद में जब वह बिहार आए तो विद्युत आपूर्ति की प्रशंसा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारा टारगेट युवाओं की क्षमता का बेहतर उपयोग कर बिहार को आगे बढ़ाना है।

नया कन्वेंशन सेंटर 10 अप्रैल तक चालू करने का प्रयास
मुख्यमंत्री ने कहा कि गांधी मैदान के सामने बन रहा नया सम्राट अशोक कन्वेंशन सेंटर 10 अप्रैल तक चालू कर देने का प्रयास है ताकि चंपारण यात्रा शताब्दी समारोह से जुड़े कार्यक्रम वहां आयोजित किए जा सकें। मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने आशा जताई है कि यह 10 अप्रैल तक तैयार हो जाएगा, देखें कहां तक काम होता है। वैसे, यह बता दूं कि अगला बिहार उद्यमी सम्मेलन आप चाहें तो वहां जरूर आयोजित कर सकेंगे।

सम्मेलन को उद्योग मंत्री जय कुमार सिंह, मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह, उद्योग विभाग के प्रधान सचिव डा. एस. सिद्धार्थ, प्रो. अनिल गुप्ता के अलावा बिहार उद्यमी संघ के अध्यक्ष कौशलेंद्र कुमार एवं महासचिव अभिषेक कुमार ने भी संबोधित किया।

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:CM Nitish announced that the pattern of exam will change in bihar(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

सुश्‍ाील मोदी को मंत्री तेजप्रताप की सलाह, काशी जाकर पढ़ें गीताधनबाद में पूर्व डिप्टी मेयर नीरज सिंह समेत चार को गोलियों से भूना
यह भी देखें