कीव, एपी। Russia Ukraine War: यूक्रेन में रूसी सेना ने रविवार-सोमवार की रात फिर से जोरदार हमला किया। बंदरगाह शहर ओडेसा में रात में कई बार ड्रोन से लक्ष्यों को निशाना बनाया गया। इन हमलों में यूक्रेनी सेना का गोला-बारूद का गोदाम भी निशाना बना। हमले से उसमें आग लग गई, जो बाद में बड़े क्षेत्र में फैल गई, वहां पर रह-रहकर धमाके हो रहे हैं। आग बुझाने का कार्य जारी है। इस बीच रूस के कब्जे वाले यूक्रेन के चार क्षेत्रों में जनमत संग्रह जारी है।

यूक्रेन ने कहा है कि इन क्षेत्रों में रूसी सैनिक घर-घर जाकर लोगों से रूस में शामिल होने के प्रस्ताव के पक्ष में मतदान करवा रहे हैं। इस बीच यूक्रेन की नागरिक सुविधाओं के संचालन के लिए अमेरिका ने उसके लिए 45.75 करोड़ डालर की ताजा सहायता की घोषणा की है।

यूक्रेन के नागरिकों में भय

ताजा बनी स्थितियां यूक्रेन के नागरिकों में भय पैदा कर रही हैं। उन्हें लग रहा है कि लुहांस्क, डोनेस्क, खेरसान और जपोरीजिया में हो रहे जनमत संग्रह में रूस को अपेक्षित नतीजे मिले तो यूक्रेन में टकराव बढ़ेगा।

रूस ने साफ कह दिया है कि इन इलाकों के लोगों ने रूस में शामिल होने की इच्छा जता दी, तब उन्हें रूसी नागरिक मानकर पूर्ण सुरक्षा दी जाएगी। उनकी सुरक्षा में इलाके में परमाणु हथियार तैनात किए जाएंगे। उन पर हमला होने की स्थिति में रूस पूरी ताकत से जवाब देगा।

परमाणु हथियारों के इस्तेमाल का संकेत दे चुके हैं पुतिन

रूसी राष्ट्रपति पुतिन परमाणु हथियारों के इस्तेमाल का संकेत दे चुके हैं। उसके बाद रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव न्यूयार्क में अंतरराष्ट्रीय मीडिया के सामने रूस में शामिल होने वाले लोगों की पूर्ण सुरक्षा का संकल्प जता चुके हैं।

उल्लेखनीय है कि रूस के पास दुनिया के सबसे ज्यादा परमाणु हथियार हैं। अमेरिका ने कहा है कि रूस ने यूक्रेन में परमाणु हथियारों का इस्तेमाल किया तो उसके रूस के लिए विनाशकारी परिणाम होंगे। सुलीवान ने बताया कि उचित जरिये से रूस को यह बता दिया गया है।

इस बीच ब्रिटिश खुफिया विभाग ने कहा है कि पुतिन की घोषणा के अनुरूप रूसी सैनिकों का यूक्रेन पहुंचना शुरू हो गया है। आरक्षित सैनिकों की पहली टुकड़ी यूक्रेन में बनाए गए रूसी सैन्य ठिकाने पर पहुंच गई है। ये सैनिक हथियारबंद हैं लेकिन युद्ध के लिए पर्याप्त प्रशिक्षित नहीं हैं।

ब्रिटेन ने रूस के 59 लोगों पर लगाया प्रतिबंध

रूसी जनमत संग्रह को जालसाजी करार देते हुए ब्रिटेन ने सोमवार को रूस पर नए प्रतिबंधों की घोषणा की। नए प्रतिबंधों के तहत रूस के महत्वपूर्ण संस्थानों के 55 अधिकारी और चार धनाढ्य लोग प्रतिबंधित किए गए हैं। इनके ब्रिटेन की यात्रा पर प्रतिबंध लग गया है और ब्रिटेन में स्थित धनाढ्यों की छह अरब डालर से ज्यादा की संपत्ति जब्त कर ली जाएगी।

रूस की सभी सीमाएं पूर्ववत खुली हुईं हैं: क्रेमलिन

मीडिया में नागरिकों के रूस छोड़कर भागने की चर्चा को रूसी राष्ट्रपति के कार्यालय क्रेमलिन ने बेबुनियाद करार दिया है। कहा है कि रूस की पड़ोसी देशों से लगने वाली सभी सीमाएं पूर्व की भांति खुली हुई हैं, उनके जरिये होने वाली आवाजाही पूर्ववत है, लोगों के देश छोड़कर जाने की चर्चा में कोई दम नहीं है।

मीडिया में चर्चा है कि रूसी राष्ट्रपति पुतिन की तीन लाख आरक्षित सैनिकों की यूक्रेन में तैनाती की घोषणा के बाद लोग सेना में शामिल होने से बचने के लिए भाग रहे हैं।

ये भी पढ़ें: Russia Ukraine War: जेलेंस्की ने परमाणु हमले की जताई आशंका; पुतिन ने कुछ दिन पहले दी थी धमकी

ये भी पढ़ें: Russia Ukraine War: यूक्रेन में जनमत संग्रह के बीच रूस का हमला, पश्चिमी देशों ने कहा- और कड़े प्रतिबंध लगाएंगे

Edited By: Achyut Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट