नई दिल्ली, एजेंसी। हवाई यात्रा के दौरान यात्रियों द्वारा गुपचुप तरीके से एयर होस्टेस की अश्लीले तस्वीरें  खींचने और वीडियो बनाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। हिडन कैमरे या मोबाइल से बनाई गई इन अश्लील तस्वीरों और वीडियो को इंटरनेट पर वायरल किया जा रहा है। खास बात ये है, इस तरह की हरकत करने वाले यात्री सीक्रेट फोटो या वीडियो बनाने के लिए जिन तरीकों का इस्तेमाल कर रहे हैं, वह महिला यात्रियों के लिए भी खतरनाक साबित हो सकता है।

ये सनसनीखेज खुलासा, पहली बार किए गए इस तरह के एक विदेशी सर्वे में हुआ है। ये सर्वे जापान की बहुत सी एयर होस्टेस की लगातार मिल रही शिकायतों के बाद किया गया, जिसमें चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। जापानी एयर होस्टेस की शिकायत पर जापान फेडरेशन ऑफ एविएशन इंडस्ट्री यूनिअन्स (Japan Federation of Aviation Industry Unions) ने ये सर्वे किया है।

संस्था, टोक्यो स्थित लेबर यूनियन है, जो एविएशन इंडस्ट्री के कर्मचारियों के लिए काम करती है। संस्थान ने इस मुद्दे पर राष्ट्रीय स्तर पर अप्रैल से जून 2019 के बीच सर्वे किया है। सर्वे में पता चला है कि जापानी एयर लाइन्स (Japanese Airlines) की 60 फीसद एयर होस्टेस की सीक्रेट तरीके से आपत्तिजनक फोटो या वीडियो बनाई गई है। खास बात ये है कि ये सभी फोटो या वीडियो उड़ान के दौरान यात्रियों द्वारा गुपचुप तरीके से ली गई हैं।

मोजे में खुफिया कैमरा छिपा बना रहा था वीडियो
सर्वे के दौरान एक एयर होस्टेस ने बताया कि एक बार उसने एक यात्री को पकड़ा था जो मोजे में छिपे खुफिया कैमरे से उसकी आपत्तिजनक वीडियो बनाने का प्रयास कर रहा था। उससे बरामद खुफिया कैमरे की जांच में पता चला कि उसके कैमरे में कई एयर होस्टेस की आपत्तिजनक वीडियो और फोटो कैद हैं। तकरबीन 60 फीसद एयर होस्टेस को इस समस्या का सामना करना पड़ रहा है। बावजूद कानूनी व तकनीकी पेचीदगियों की वजह से ऐसी घटना का शिकार होने वाली मात्र 40 फीसद एयर होस्टेस ने मामले में पुलिस से शिकायत की। इनमें भी ज्यादातर केस में आरोपित को चेतावनी देकर और आपत्तिजनक फोटो या वीडियो डिलीट करा मामले को निपटा दिया गया।

पुख्ता कानून बनाने की मांग
बावजूद इस तरह की घटनाओं को लेकर जापान में कोई स्पष्ट दिशा-निर्देश या कानून नहीं है। उड़ान के दौरान इस तरह की घटना पकड़े जाने पर ये स्पष्ट करना बहुत मुश्किल होता है कि उस वक्त जहाज किस शहर के ऊपर था। ऐसे में सीमा विवाद की वजह से आरोपित के खिलाफ सख्त कार्रवाई नहीं हो पाती है। ऐसे में कई बार एयर होस्टेस भी अपनी फोटो व वीडियो डिलीट करा कानूनी पचड़े में फंसने से बचती हैं। घटना भले उड़ान के दौरान हुई हो, लेकिन कंपनी की तरफ से भी उन्हें कानूनी प्रक्रिया में कोई मदद प्रदान नहीं की जाती है।

एयर होस्टेस ने साझा किए अनुभव
सर्वे में 60 फीसद एयर होस्टेस ने बताया कि कभी न कभी उन्हें ऐसी परिस्थिति का सामना करना पड़ा है, जब किसी यात्री ने चोरी-छिपे उनकी आपत्तिजनक फटो या वीडियो बनाने का प्रयास किया है। ज्यादातर एयर होस्टेस ने बताया कि यात्री अक्सर बिना उनकी मंजूरी लिए या उन्हें भरोसे में लिए उड़ान के दौरान उनकी तस्वीरें या वीडियो बनाते हैं। ये परिस्थिति उनके लिए काफी असहज होती है। जापानी एयर होस्टेस इस तरह की गतिविधियों को रोकने या ऐसी घटना का शिकार होने पर सही इंसाफ पाने के लिए पुख्ता कानून की मांग कर रही हैं।

फोटो व वीडियो बनाने का मकसद
सर्वे में पता चला है कि इन एयर होस्टेस की सीक्रेट तरीके से फोटो या वीडियो बनाने के पीछे अक्सर यात्रियों की गलत नीयत होती है। सर्वे में शामिल बहुत सी एयर होस्टेस ने बताया कि यात्री खुफिया कैमरे या मोबाइल कैमरे का इस्तेमाल उनकी अश्लील फोटो अथवा वीडियो बनाने के लिए करते हैं। एयर होस्टेस ने बताया कि अक्सर उन्हें इसका पता दूसरे यात्रियों या अपने किसी सहकर्मी के द्वारा चलता है। सर्वे में शामिल एयर होस्टेस ने आशंका व्यक्त की है कि बहुत से मामलों में इस तरह की फोटो या वीडिया का मकसद, उसे इंटरनेट पर वायरल करना हो सकता है।

सोशल मीडिया की धमकी देते हैं आरोपित
एयर होस्टेस ने अपने अनुभव साझा करते हुए बताया कि बहुत से मामलों में उन्हें आपत्तिजनक फोटो या वीडियो बनाने का संदेह होता है। ऐसे में यात्री से पूछने पर वो सख्ती से मना कर देते हैं। उनकी तलाशी लेने का प्रयास करने या मोबाइल की जांच करने का प्रयास किया जाए तो वह सोशल मीडिया पर क्रू मेंम्बर्स द्वारा अशोभनीय व्यवहार करने की शिकायत पोस्ट करने की धमकी देते हैं। कई बार उन्हें संबंधित व्यक्ति की बर्बता का भी सामना करना पड़ता है।

क्या हैं फोटो या वीडियो बनाने के नियम

  • दुनिया के अलग-अलग देशों में एयरपोर्ट व प्लेन के अंदर फोटो या वीडियो खींचने को लेकर कई तरह के नियम व कानून हैं।
  • भारत में भी डीजीसीए द्वारा उड़ान के दौरान कैमरे के इस्तेमाल को लेकर वक्त-वक्त पर दिशा-निर्देश जारी किए जाते हैं।
  • भारतीय एयरपोर्ट के सार्वजनिक स्थलों पर सेल्फी लेने या फोटो खींचने की मनाही नहीं है।
  • भारत में उन एयरपोर्ट पर फोटो नहीं खींची जा सकती, जो डिफेंस एरिया में आते हैं।
  • उड़ान के दौरान भी यात्रियों को सामान्य तौर पर खुद की फोटो खींचने या वीडियो बनाने की मनाही नहीं है।
  • डीजीसीए के निर्देशानुसार प्लेन पर चढ़ते या उतरते वक्त गेट अथवा गैलरी में फोटो या वीडियो नहीं बना सकते।
  • अगर आपके कैमरा इस्तेमाल से अन्य यात्रियों को असुविधा होती है तो क्रू मेंम्बर्स द्वारा आपको रोका जा सकता है।
  • किसी भी तरह की आपत्ति जनक फोटो खींचना या ऐसा प्रयास करना संगीन अपराध की श्रेणी में आता है।
  • क्रू मेंम्बर्स की मंजूरी के बिना उनके साथ या उनकी फोटो खींचना मना है।
  • उड़ान के दौरान क्रू मेंम्बर्स को फोटो खींचना बिल्कुल मना है।
  • उड़ान के दौरान यात्री किसी तरह का अतिरिक्त फोटोग्राफी उपकरण साथ नहीं रख सकते।

(DGCA के पास अधिकार है कि वह सुरक्षा वजहों से किसी भी वक्त और कहीं भी यात्रियों को फोटो खींचने से रोक सकती है। एजेंसी इसमें जरूरत अनुसार वक्त-वक्त पर संशोधन भी करती रहती है।)

यह भी पढ़ें-
हिन्दू ही नहीं मुस्लिम भी हैं प्रभु राम के वंशज, भारतीय वैज्ञानिकों ने किया था DNA शोध
Photos: सात देशों को जोड़ती है दुनिया की सबसे बड़ी पर्वतमाला, लेकिन ये हिमालय नहीं
पाकिस्तान ने ही दिखाई J&K से Article 370 खत्म करने की राह, फिर क्यों मचा रहा शोर
Article 370 पर मलाला ने पाकिस्तान को दिखाया आईना, जानें- अन्य देशों की प्रतिक्रिया

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Amit Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप