जागरण संवाददाता, दुर्गापुर। आज कल के बच्चे मोबाइल पर गेम या इंटरनेट मीडिया पर व्यस्त रहते हैं। कभी-कभार वे गलत संगत का शिकार हो जाते हैं। ऐसी ही घटना दुर्गापुर के रहने वाले 17 वर्षीय छात्र के साथ हुई। बेनाचिटी भारतीय हिंदी हाई स्कूल में 11वीं कक्षा में पढ़ने वाले छात्र का फिलीपींस की रहने वाली युवती के साथ मोबाइल गेम से संपर्क हुआ। प्यार में छात्र इतना डूब गया कि वह युवती से मिलने के लिए फिलीपींस जाने के सपने देखने लगा। घरवालों से इस संबंध में बात की। जाने में असमर्थ रहने पर उसने जलाशय में छलांग लगाकर जान दे दी। गुरुवार को उसका शव बरामद हुआ।

मॉर्निंग वाक के लिए निकलकर लापता हुआ छात्र

छात्र 23 जनवरी की सुबह मार्निंग वाक के लिए घर से निकला था। काफी देर बाद भी जब वह नहीं लौटा तब स्वजनों ने उसकी खोजबीन शुरू की। उसके मोबाइल पर फोन किया, लेकिन वह भी स्विच आफ था। घर वालों ने परिचित, स्कूल के दोस्तों से पूछताछ की, लेकिन कोई सुराग नहीं मिला। अगले दिन दुर्गापुर के फरीदपुर फाड़ी में छात्र की गुमशुदगी की शिकायत दर्ज करवाई।

जलाशय में मिला छात्र का शव

गुरुवार को सिटी सेंटर स्थित पार्क के जलाशय में कर्मियों ने एक शव देखकर पुलिस को सूचना दी। पुलिस शव को दुर्गापुर अनुमंडल अस्पताल भेज दिया, जहां पहुंचकर स्वजनों ने शव की पहचान की। अनुमान किया जा रहा है कि यह आत्महत्या का मामला है।

गेम से इंटरनेट मीडिया पर चैटिंग, फिर हुआ प्यार

छात्र की मां ने कहा कि वह हर समय गेम खेलता था। पढ़ाई-खाने के लिए कहने पर भी गुस्सा हो जाता था। वह फिलीपींस की एक लड़की के साथ गेम खेलता था। फिर इंटरनेट मीडिया पर उसके साथ चैटिंग करता रहता था। वह बार-बार फिलीपींस जाने की बात कहता था। हम लोग कहते थे कि अभी उम्र नहीं हुआ, पढ़ाई करो, काम करो। वहां जाने के लिए पासपोर्ट, वीजा, रुपयों की जरूरत होगी। परिवार के पास उसे वहां भेजने का सामर्थ्य भी नहीं है।

दो-ढाई महीने से युवती के संपर्क में था छात्र

लड़के के भाई ने कहा कि वह सुबह चार बजे रोज की तरह मार्निंग वाक के लिए निकला था, फिर नहीं आया। अगले दिन मामला दर्ज किया। इंटरनेट मीडिया से ही वह युवती के संपर्क में आया। दो-ढाई माह से संपर्क में आया था। कैसे उसकी मौत हुई है, पुलिस को जांच कर सच्चाई सामने लानी चाहिए। गेम को लेकर घर में काफी अशांति होती थी। पूर्व पार्षद मानस राय ने कहा कि यह घटना काफी दुखद है।

यह भी पढ़ें- ममता बनर्जी ने कहा- 'एशिया में दूसरी सबसे बड़ी बोली जाने वाली भाषा है बंगाली, दुनिया में है पांचवां स्थान'

Edited By: Arijita Sen