उत्तरकाशी, [जेएनएन]: हर्षिल-हरकीदून ट्रैकिंग के लिए आए छह सदस्य दल में एक ट्रैकर की मौत हृदय गति रुकने से हो गई है। ट्रैकर की मौत 16500 फीट की ऊंचाई पर ढुंगधार पास के निकट हुई है। ट्रैकर के शव को लेने के लिए एसडीआरएफ की टीम हर्षिल से रवाना हो गई है। इस टीम को ढुंगधार पास के निकट पहुंचने में दो दिन का समय लगेगा। जिलाधिकारी डॉ. आशीष श्रीवास्तव ने कहा कि जिस स्थान पर ट्रैकर की मौत हुई है उस स्थान पर हेलीकाप्टर से रेस्क्यू संभव नहीं है।

हर्षिल से बगोरी होते हुए एक ट्रैक हरकीदून सांकरी पहुंचता है। यह ट्रैक करीब 110 किलोमीटर है। जिसकी ट्रैकिंग करने में 12 दिन का समय लगता है। जानकारी के अनुसार नौ दिन पहले वन विभाग की बिना अनुमति के छह महाराष्ट्र पुणे के एक ट्रैकरों का दल हर्षिल से रवाना हुआ, लेकिन बीते मंगलवार को दल के सदस्य सेमअल कट एंटोनी (42 वर्ष) पुत्र बीडी क्लेयफोर्ट निवासी पुणे की हृदय गति रुकने से मौत हो गई। जिसके बाद एक पोर्टर सहित दो पर्यटक हर्षिल के लिए आए।

हर्षिल पहुंचने पर उन्होंने प्रशासन को इसकी सूचना दी। जिसके बाद गुरुवार दोपहर को उत्तरकाशी से एसडीआरएफ की टीम रवाना हुई। जानकारों के अनुसार टीम को घटना स्थल तक पहुंचने में दो दिन का समय लगेगा। वहीं जिलाधिकारी डॉ. आशीष श्रीवास्तव ने बताया कि ढुंगधार पास के निकट घटना हुई है वहां ऊंचाई काफी अधिक है। जिस कारण वहां हेलीकाप्टर के लैंडिाग के लिए परिस्थिति सही नहीं है।

एसडीआरएफ की टीम के जरिये ये संदेश दिया गया है कि वे किसी भी हाल में मृतक व अन्य तीन पर्यटकों को 12 हजार फीट के क्षेत्र तक पहुंचाए। जिससे हैली से रेस्क्यू किया जा सके। ट्रैकरों के पास अनुमति थी या नहीं थी इसकी कार्रवाई रेस्क्यू के बाद की जाएगी।

 

 यह भी पढ़ें: यमुनोत्री में हार्ट अटैक से मुंबई के यात्री की मौत

 यह भी पढ़ें: फूलों की घाटी की सैर करने आए पर्यटक को हुआ सीने में दर्द, मौत

By Sunil Negi