उत्तरकाशी, [जेएनएन]: सुबह उत्तरकाशी जिले की गंगा और यमुनाघाटी में भूकंप के झटके महसूस होने से लोग दहशत में आ गए। आनन फानन लोग घरों से बाहर निकल गए। कहीं किसी नुकसान की सूचना नहीं है। 

उत्तराखंड भूकंप के दृष्टि से जोन आठ में है। यहां पहले भी बड़े भूकंप आ चुके हैं। उत्तरकाशी के लोग वर्ष 1991 में आए विनाशकारी भूकंप को अभी भूले नहीं हैं। उस दौरान करीब सात सौ लोगों की मौत हो गई थी। यहां हाल ही में छह जून को भी भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। हालांकि उस दिन केंद्र टिहरी जनपद था, इसकी तीव्रता ज्यादा नहीं थी। 

आज सुबह करीब 6.12 बजे भूकंप के पहला झटका महसूस किया गया। इससे लोग घरों से बाहर निकल गए। इसके बाद 6 बजकर 23 मिनट पर दूसरा झटका महसूस किया गया। 

आपदा प्रबंधन केंद्र के मुताबिक भूकंप की तीव्रता 4.0 आंकी गई। इसका केंद्र उत्तरकाशी मुख्यालय से दस किलोमीटर दूर था। इसका अक्षांश 30.8N, देशान्तर 78.2E और गहराई  10km रही। मामूली तीव्रता के इस भूकंप से लोग दहशत में आ गए।

भारी बारिश की चेतावनी

उत्तराखंड में भारी बारिश के चेतावनी दी गई है। 14 और 15 जून को भारी बारिश की आशंका हैं। मौसम विभाग ने इसके मद्देनजर अलर्ट जारी किया है। खास तौर पर देहरादून, पौड़ी, नैनीताल और उधम सिंह नगर में भारी बारिश की चेतावनी है। बता दें, इससे पहले 1 जून को उत्तराखंड में उत्तरकाशी, टिहरी समेत चार जगहों पर बादल फटा था।

मौसम विभाग के मुताबिक, 14-15 जून को उत्‍तराखंड में भारी बारिश हो सकती है। इस दौरान 70 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से तेज हवाओं के चलने की भी चेतावनी जारी की है। स्टेट डिजास्टर रेस्पॉन्स फोर्स (एसडीआरएफ) की टीम को भी अलग-अलग जगह पर पहले से तैनात किया गया है।

यह भी पढ़ें: देर रात उत्‍तराखंड के उत्‍तरकाशी जिले में आया भूकंप, 4.4 मापी गई तीव्रता

यह भी पढ़ें: उत्तर भारत में भूकंप के झटकों से डोली धरती, 5.5 मापी गई तीव्रता

यह भी पढ़ें: इस वजह से भूकंप का केंद्र बनता जा रहा उत्तराखंड, जानिए

By Arti Yadav