मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई टिहरी, जेएनएन। प्रटिहरी जिले के प्रतापनगर इलाके में अप्रशिक्षित (अनट्रेंड) चालक ने नौ स्कूली बच्चों की जान ले ली। जबकि, इतने ही अन्य बच्चों को जिंदगीभर के जख्म दे दिए। वह इन सभी को मैक्स वाहन में बैठाकर स्कूल छोड़ने जा रहा था। घायलों में पांच की हालत नाजुक बताई जा रही है। इन्हें एयरलिफ्ट करके ऋषिकेश स्थित एम्स में लाया गया है। बताया गया कि चालक ने पांच दिन पहले ही गाड़ी चलानी शुरू की थी। उसे ठीक से गाड़ी चलाना नहीं आता था, लेकिन दुस्साहसी चालक सर्पीली सड़क पर स्कूली बच्चों को बैठाकर चल दिया। गाड़ी उसके पिता की थी, वह पिछली सीट पर बैठे थे। घटना के बाद से पिता-पुत्र फरार हो गए, देर शाम बेटे को गिरफ्तार कर लिया गया। पिता-पुत्र खिलाफ लंबगांव थाने में गैर इरादतन हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है। वहीं, इस मामले में परिवहन मंत्री यशपाल आर्य ने टिहरी के प्रभारी एआरटीओ निखिलेश ओझा को सस्‍पेंड किया है। उनके स्थान पर आनंद जायसवाल को टिहरी भेजा गया है।

हादसा मंगलवार सुबह करीब सात बजे हुआ। प्रतापनगर के कंगसाली इलाके के बच्चे मदननेगी स्थित एंजल इंटरनेशनल स्कूल में पढ़ते हैं। रोज की तरह वे सुबह करीब पौने छह बजे स्कूल के लिए निकले। थोड़ी दूर चलने के बाद उनका मैक्स वाहन 200 मीटर गहरी खाई में समा गया। घटना का पता चलने पर पूरे इलाके में कोहराम मच गया। जिसने सुना वह घटनास्थल की तरफ दौड़ पड़ा। रेस्क्यू टीम के पहुंचने से पहले ग्रामीण बचाव और राहत कार्य में जुट गए गए थे। हादसे में नौ बच्चों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि नौ अन्य घायल हो गए। पुलिस, आपदा प्रबंधन और एसडीआरएफ की टीम ने आसपास के लोगों की मदद से शव और घायलों को खाई से बाहर निकाला। वाहन में तीन से 13 साल की उम्र के 20 बच्चे सवार थे। ये सभी कंगसाली गांव के हैं। गाड़ी का संतुलन बिगड़ने पर पिता-पुत्र कूद गए थे। 

मौसम खराब होने के चलते रेस्क्यू में दिक्कतें आईं। घायलों को किसी तरह जिला अस्पताल पहुंचाया गया। इस बीच प्रशासन ने गंभीर रूप से घायल बच्चों को एयरलिफ्ट करने के लिए शासन ने हेलीकॉप्टर की मांग की। कुछ देर बाद गंभीर रूप से घायल पांच बच्चों को चंबा पुलिस लाइन से एयरलिफ्ट करके ऋषिकेश स्थित आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) लाया गया। इनकी हालत नाजुक बनी हुई है। मैक्स सवार कुछ बच्चों को परिजन घटनास्थल से ही अपने साथ ले गए। एक बच्ची को उपचार के लिए परिजन श्रीनगर ले गए। बताया गया कि मैक्स वाहन निवासी प्रेमदत्त रतूड़ी का था, वही इसे चलाता था, लेकिन पहली अगस्त से उसका बेटा लक्ष्मण वाहन चला रहा था। पिता खुद पिछली सीट पर बैठा था। बेटे के पास पर्वतीय मार्ग पर व्यावसायिक वाहन चलाने का लाइसेंस भी नहीं था। एसडीएम अजयवीर सिंह ने इसकी पुष्टि की। 

इनकी गई जान

ऋषभ (05) पुत्र जस्सी 

अयान (04) पुत्र अतर सिंह 

आदित्य (08) पुत्र अरविंद 

विहान (05) पुत्र अजयपाल सिंह

इशान (06) पुत्र दर्मियान

अभिनव (06) पुत्र सोबन सिंह 

साहिल (13) पुत्र विशन सिंह 

आदित्य (10) पुत्र अरविंद 

वंश (05) पुत्र प्रवीन सिंह 

एम्स में भर्ती घायल

अखिलेश चौहान -(07) 

सूरज चौहान -(08)

आशीष सेमवाल -(10) 

प्रिंस -09 वर्ष

कृष्णा -(06) वर्ष

जिला अस्पताल में भर्ती घायल 

नैतिक (3) 

वैदिक (5) 

ऋषभ (7)  

आशीष (10)  

सिद्धार्थ (6)  

परिजनों और ग्रामीणों का हंगामा 

परिजनों और ग्रामीणों ने मदननेगी अस्पताल पहुंचकर हंगामा किया। उनका कहना था कि चार दिन पहले ही वैन को बदल कर मैक्स वाहन लगाया गया था। इसकी जानकारी स्कूल प्रबंधन ने अभिभावकों को नहीं दी। खंड शिक्षा अधिकारी ने बच्चों की सुरक्षा को देखते हुए प्रबंधन को वैन बदलने के लिए कहा था। ग्रामीणों और परिजनों ने स्कूल संचालक, वाहन चालक और खंड शिक्षा अधिकारी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है। अस्पताल समुचित स्वास्थ्य सुविधाएं न होने पर भी ग्रामीणों में नाराजगी जाहिर की। मौके पर पहुंचे डीएम डा. वी षणमुगम और एसएसपी डा. योगेंद्र सिंह रावत ने उन्हें शात कराया। डीएम ने बताया कि मामले की जांच के आदेश दिए गए हैं। 

सीएम ने दिए मजिस्ट्रेटी जांच के निर्देश 

वहीं, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने टिहरी के प्रतापनगर क्षेत्रांतर्गत कगंसाली में मैक्‍स वाहन दुर्घटना पर गहरा शोक जताते हुए मृतकों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की है। उन्होंने अधिकारियों को तेजी से राहत बचाव कार्य करने और घायलों का समुचित उपचार सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। सीएम ने दुर्घटना की मजिस्ट्रेट जांच के निर्देश दिए हैं। सीएम ने गंभीर घायलों को एम्स ऋषिकेश लाने के लिए हेली रेस्क्यू के लिए निर्देश दिए हैं।

उधर, उत्तराखंड से राज्यसभा सदस्य और भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय मीडिया प्रमुख अनिल बलूनी ने जनपद टिहरी में वाहन दुर्घटना में बच्चों के मौत पर शोक प्रकट किया है। उन्होंने कहा यह हृदय विदारक है, इस दुख को शब्दों में व्यक्त नहीं किया जा सकता है। उनके माता-पिता किस वेदना और मनः स्थिति में होंगे अनुभव कर सकता हूं। कहा, मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हू कि उनके परिजनों को इस असह्य पीड़ा को सहने की शक्ति दे और दिवंगतों को अपने श्री चरणों में स्थान दें। यह दुर्घटना किन परिस्थितियों में हुई? यह गंभीर जांच का विषय है क्योंकि पूरे पर्वतीय क्षेत्र में दूर-दूर तक स्कूली बच्चे बसों और टैक्सियों द्वारा यात्रा करते हैं। उनके सुरक्षा उपाय की निगरानी के मानक सुनिश्चित करने होंगे। 

यह भी पढ़ें: तेज रफ्तार बस की टक्कर से बाइक सवार युवक की मौत Dehradun News

यह भी पढ़ें: बेकाबू कार की टक्कर से डीआइटी के दो छात्र घायल Dehradun News

यह भी पढ़ें: दून में नहीं थम रही दुर्घटनाएं, वाहन की टक्कर से घायल तीन की मौत Dehradun News

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sunil Negi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप