रुद्रप्रयाग, जेएनएन। श्री बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति की सात-सदस्यीय टीम केदारनाथ मंदिर परिसर में हुए नुकसान का आकलन कर वापस लौट आई है। इस सीजन में अधिक बर्फबारी से मंदिर समिति की संपत्ति को भारी नुकसान पहुंचा है। 

मंदिर परिसर से बर्फ हटाने समेत क्षतिग्रस्त संपत्ति को दुरुस्त करने के लिए मंदिर समिति शीघ्र कार्ययोजना तैयार करेगी। ताकि कपाट खुलने से पूर्व कार्य पूरे किए जा सकें। नौ मई को केदारनाथ धाम के कपाट खुलने हैं। 

मंदिर समिति का दल मुख्य कार्याधिकारी बीडी सिंह के नेतृत्व में बुधवार को ऊखीमठ से केदारनाथ के लिए रवाना हुआ था। दल बर्फ में पैदल चलकर केदारनाथ धाम पहुंचा और मंदिर परिसर, कार्यालय, परिक्रमा पथ, पुजारी निवास व प्रवचन हाल का निरीक्षण किया। 

केदारनाथ से लौटने के बाद मंदिर समिति के मुख्य कार्याधिकारी बीडी सिंह ने बताया कि अभी धाम में पांच फीट बर्फ है। बर्फबारी से मंदिर समिति की संपत्ति को भारी क्षति हुई है। कर्मचारी आवास के लिए बने हट, भोग मंडी, भंडार गृह, पुजारी आवास व विद्युत लाइन को नुकसान पहुंचा है। 

हालांकि, केदारनाथ मंदिर व परिसर पूरी तरह सुरक्षित है। निरीक्षण टीम में शामिल सहायक अभियंता गिरीश देवली ने बताया कि केदारनाथ स्थित मंदिर समिति के पावर हाउस को जोड़ने वाली विद्युत लाइन व पोल भी क्षतिग्रस्त हुए हैं। 

बताया कि मंदिर समिति का अग्रिम दल 14 अप्रैल को केदारनाथ के लिए रवाना होगा और वहां मंदिर परिसर एवं आसपास से बर्फ हटाने, बिजली-पानी बहाल करने और सजावाट का कार्य करेगा।

यह भी पढ़ें: यात्रा व्यवस्थाओं के लिए मंदिर समिति का दल केदारनाथ रवाना

यह भी पढ़ें: कालिका मंदिर में ध्वजारोहण महोत्सव शुरू, शक्ति अर्जित करने को चिंतन पर जोर

यह भी पढ़ें: आध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर बोले, गंगा से मेरा गहरा नाता

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप