रुद्रप्रयाग, जेएनएन। रुद्रप्रयाग में नाबालिग से दुष्कर्म के प्रयास के एक मामले की सुनवाई मात्र आठ दिन में करते हुए जिला और सत्र न्यायाधीश ने दोषी को सात वर्ष की कठोर कैद की सजा सुनाई है। इसके साथ ही दोषी पर 20 हजार का अर्थदंड भी लगाया गया है।

शासकीय अधिवक्ता सुदर्शन सिंह चौधरी ने बताया कि बीती 16 अक्टूबर को अगस्त्यमुनि थाना अंतर्गत पंचायत चुनाव में हुए मतदान के लिए दादी के साथ आई एक नौ वर्षीय बच्ची से गांव के ही अधेड़ तिब्बू लाल ने खेत में ले जाकर दुष्कर्म की कोशिश की थी। शोर मचाने पर वहां से गुजर रही एक महिला ने किसी तरह से बच्ची को बचाया। पीड़ित बच्ची ने पूरी बात घर जाकर दादी को बताई। इसपर दादी ने अगस्त्यमुनि थाना पहुंचकर आरोपित के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया। 

दादी की तहरीर पर पुलिस ने पोक्सो के तहत मुकदमा दर्ज कर आरोपित को 17 अक्टूबर को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। वहीं, 30 नवंबर को पुलिस ने जिला और सत्र न्यायालय में आरोपित के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की। मामले में अदालत में छह गवाह पेश किए गए। सुनवाई के बाद जिला और सत्र न्यायाधीश हरीश गोयल की अदालत ने आरोपित पर दोष सिद्ध होने के बाद सजा का एलान किया। 

यह भी पढ़ें: सात साल तक दुष्कर्म करता रहा चाचा, धमकाती थी चाची Dehradun News

 

Posted By: Raksha Panthari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस