रुद्रप्रयाग, जेएनएन। ऑल वेदर रोड निर्माण पूरा होने के बाद श्रद्धालु भले ही केदारनाथ हाईवे पर निष्कंटक यात्रा कर सकेंगे, लेकिन फिलहाल 76 किलोमीटर लंबी यह सड़क यात्रियों की परीक्षा ही लेगी। हालांकि रुद्रप्रयाग के जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने कार्यदायी संस्था लोक निर्माण विभाग (राष्ट्रीय राजमार्ग) को 30 अप्रैल तक हाईवे दुरुस्त करने के निर्देश दिए हैं। बावजूद इसके यह काम आसान नहीं लगता।

रुद्रप्रयाग से केदारनाथ के प्रमुख पड़ाव गौरीकुंड की दूरी 76 किलोमीटर है। यहां से धाम के लिए पैदल यात्रा शुरू की जाती है। इन दिनों हाईवे पर ऑलवेदर प्रोजेक्ट के तहत कई जगह कटिंग का कार्य चल रहा है। इससे जगह-जगह मलबे के ढेर लगे हैं। कटिंग के कारण कई जगह स्लाइडिंग जोन उभर आए हैं, जहां पहाड़ियों से पत्थर गिरने की आशंका बनी रहती है। 

नौ मई को केदारनाथ धाम के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए जाएंगे। ऐसे में प्रशासन के सम्मुख यात्रियों की सुरक्षा एक बड़ी चुनौती बनी हुई है। रुद्रप्रयाग के जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने बताया कि यात्रियों की सुरक्षा प्रशासन की प्राथमिकता में है। सड़क दुरुस्त करने के लिए लोक निर्माण विभाग को 30 अप्रैल तक का समय दिया गया है। तय अवधि में हाईवे को पूरी तरह से दुरुस्त कर लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि स्लाइडिंग जोन से मलबा हटाने, ऊबड़-खाबड़ मार्ग को ठीक करने औरजो डेंजर जोन पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करने को कहा गया है।

यह भी पढ़ें: चारधाम में 79 सीजनल चौकी संभालेगी सुरक्षा, एसडीआरएफ, ट्रैफिक व पर्यटन पुलिस रहेगी तैनात

यह भी पढ़ें: संयुक्त रोटेशन : 48 साल से कायम है आस्था का अटूट रिश्ता

यह भी पढ़ें: चारधाम यात्रा की समीक्षा बैठक में गढ़वाल कमिश्‍नर ने अधिकारियों को लगाई फटकार

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस