बनबसा (चंपावत) जेएनएन : सेना द्वारा आयोजित भर्ती रैली के दूसरे दिन पिथौरागढ़ जनपद के आठ तहसीलों के 3440 युवाओं ने सेना छावनी के मैदान में भर्ती के लिए जोर आजमाईश की। शनिवार रात्रि में हुई बारिश के बाद मैदान गीला होने से कीचड़ हो गया था। जिससे दौड़ लगाने में युवाओं को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा।

सेना छावनी के मैदान में रविवार को पिथौरागढ जनपद के तहसील धारचूला, मुनस्यारी, देवलथल, गंगोलीहाट, गणाईगंगोली, थल, कनालीछीना और बंगापानी के 3440 युवाओं ने भाग लिया। भर्ती रैली में आये एक युवक दौड़ के दौरान बेहोश हो गया जिसका रैली में मौजूद स्थानीय मेडिकल टीम द्वारा उपचार किया गया। कुछ देर बाद ही युवक को होस आ गया था। इससे पूर्व सेना के मैदान में सुबह छह बजे से ही शारीरिक परीक्षण पास करने के लिए युवाओं ने दौड़ लगानी शुरू कर दी थी। सेना के मैदान में युवाओं के सामने दौड़ पूरी करने के लिए 1600 मीटर की दूरी रखी गई थी, लेकिन अधिकांश युवा यह दौड़ पूरी नही कर सके। इसके बाद सेना छावनी क्षेत्र में दौड़ पूरी करने वाले युवाओं का आगे का फिजीकल परीक्षण किया गया। जिसके तहत युवाओं की लंबाई, वजन और छाती की नाप के अलावा बीम भी खींचवाये गए। रविवार को जीडी के लिए 2484, तकनीकि 75, ट्रैडमेन 756, नर्सिंग असिस्टेंट 87 और क्लर्क के लिए 38 युवाओं ने दौड़ लगाई। सोमवार को चम्पावत जनपद के चम्पावत, पाटी, लोहाघाट और बाराकोट तहसील के युवा सेना में भर्ती होने के लिए सेना के मैदान में अपनी किस्मत आजमाएंगे।

बारिश बनी युवाओं की दौड़ में आफत

गत शनिवार रात्रि क्षेत्र में हुई जोरदार बारिश के कारण सेना भर्ती रैली में आये युवाओं का काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। बारिश की वजह से भर्ती मैदान पूरी तरह से गीला हो गया था जिससे पूरे मैदान में कीचड़ हो गया। दूसरा मैदान न होने के कारण सेना द्वारा इसी में दौड़ कराई गई। सुबह जब भर्ती के लिए युवाओं ने दौड़ लगाई तो वह इस कीचड़ में फिसल कर गिर रहे थेे।

टेंट में घुसा पानी, भूखे काटी रात

सेना छावनी के भर्ती मैदान के बाहर सड़क किनारे स्थानीय लोगों द्वारा टेंट लगाकर अस्थायी दुकानें लगाई गई है। इन्ही दुकानों में शनिवार को भर्ती में आए सैकड़ों युवा भी ठहरे हुए थे। अचानक आई बारिश के कारण टेंट के अंदर पानी आने लगा जिस कारण उसमें ठहरे युवाओं को काफी समस्या का सामना करना पड़ा। रात्रि में बारिश से दुकानों में खाना भी नही बन पाया जिससे काफी युवाओं को बिना खाने खाए हुए ही रात्रि काटनी पडी।

भर्ती में जेबकतरे भी हुए सक्रिय

भर्ती रैली में पहुंचे कई युवाओं के उनके मोबाइल फोन और अन्य सामान खोने की भी शिकायत की है। युवाओं का कहना है कि उनकी जेबों में रखे मोबाइल और अन्य सामान गुम हो गए है। जिससे यह अंदेशा जताया जा रहा है कि भर्ती रैली में भारी भीड़ के चलते जेबकतरे भी सक्रिय हो गए हैं। 

सेना भर्ती में स्टांप पेपर के नाम पर युवाओं से लूट खसोट

आर्मी कैंप में चल रही सेना भर्ती में शामिल होने आए युवाओं से स्टांप पेपर के नाम पर अवैध उगाही का मामला सामने आने से हड़कंप मच गया है। आरोप है कि भर्ती सेंटर के अंदर तंबू गाड़े दलाल उत्तराखंड के ई-स्टांप पेपर की जगह उत्तर प्रदेश का स्टांप बनाकर थमा रहे हैं और इसके बदले में 200 से 250 रुपये तक की मोटी रकम वसूल रहे हैं। सेना भर्ती में आए कुछ युवाओं ने मीडिया के सामने इस बात की शिकायत की तो मामले का खुलासा हुआ। 

आज होगी जनपद के 4390 अभ्यथियों की भर्ती

21 सितंबर से शुरू हुई सेना भर्ती के तीसरे दिन चम्पावत जिले के पाटी, लोहाघाट, बाराकोट, पूर्णागिरि तहसील से 4390 युवा पहुंचने की संभावना है। वहीं रात्रि से वर्षा होने के कारण पिथौरागढ़ से आए सेना भर्ती में अभ्यर्थियों को खासी दिक्कतों को सामना करना पड़ा। वही ट्रेक में पानी भरने व कीचड़ होने के कारण काफी युवा गिरे। रात से वर्षा होने के कारण युवा ग्राउंड के बाहर ही खड़े-खड़े भीगते रहे। इधर भारी भीड़-भाड़ होने के कारण टनकपुर-बनबसा के होटलों व भोजनालयों में खासी चहल-पहल बनी हुई है। वही सेना भर्ती को लेकर स्थानीय प्रशासन भी सुरक्षा व्यवस्थाओं व ठहरने की व्यवस्था में सहयोग कर रहे है। 

यह भी पढ़ें : आयुष्मान घोटाला मामले में सात दिन में लिखी गई उत्‍तराखंड की सबसे बड़ी एफआइआर

यह भी पढ़ें : हिमालय के वीरान गांवों में खुला रोजगार का द्वार, होम स्टे योजना से पर्यटकों की बढ़ी आमद

Posted By: Skand Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप