नैनीताल, [जेएनएन]: चीन-नेपाल सीमा से सटे उत्‍तराखंड के पिथौरागढ़ जिले की नैनी-सैनी हवाई पट्टी पर हवाई सेवा के द्वार खुल चुके हैं। विमान सेवा के लिए की गई ट्रायल लैंडिंग सफल रही। इस दौरान आए अधिकारियों से लेकर एविएशन के मालिक ने हवाई पट्टी को उड़ान के लिए उपयुक्त बताया। नौ सीटर विमान से शुरू होने वाली हवाई सेवा में शीघ्र ही बीस सीटर विमान भी उड़ेंगे।

नैनी-सैनी हवाई पट्टी पर विमान सेवा का सोमवार को औपचारिक उद्घाटन होना है। जिसके लिए तीन अक्टूबर से ट्रायल लैंडिंग होनी थी, किन्‍ही कारणों से तीन अक्टूबर को ट्रायल लैंडिंग नहीं हो सकी । जिसके बाद से तमाम कयास लगाए जा रहे थे। रविवार को हैरीटेज एविएशन के नौ सीटर विमान ने पट्टी पर ट्रायल लैंडिंग की और सारे कयासों पर विराम लगा दिया है।

ट्रायल लैंडिंग के लिए रविवार की सुबह दस बजकर चालीस मिनट पर हैरिटेज एविएशन का विमान दिल्ली से उड़ा और 45 मिनट बाद 11 बजकर 25 मिनट के आसपास पिथौरागढ़ के आसमान से होते हुए नैनी सैनी हवाई पट्टी पर उतरा। लैंडिंग पूरी तरह सफल रही। विमान के उतरते ही पिथौरागढ़ नगर की जनता में खुशी की लहर व्याप्त हो गई। लोग आसमान में उड़ रहे विमान को देखने के लिए घरों से बाहर निकल गए।

हवाई सेवा के लिए पट्टी को बताया उपयुक्‍त

ट्रायल लैंडिंग के लिए एविएशन के मालिक रोहित माथुर के साथ डीजीसीए के अधिकारी और तकनीकी विशेषज्ञ पहुंचे थे। जिनके द्वारा हवाई पट्टी का निरीक्षण किया गया और हवाई सेवा के लिए पट्टी को उपयुक्त बताया।

ये रहे मौजूद

इस मौके पर एविएशन के मालिक रोहित माथुर, डीजीसीए के ऑपरेशनल एयर ट्रैफिक के मुकुल चंदानी, ग्राउंड के कै. मनोज गुप्ता, कै. पुनीत कुमार, शरद शेरवानी और जिलाधिकारी पिथौरागढ़ सी रविशंकर थे। सभी के द्वारा हवाई पट्टी में रनवे, टर्मिनल आदि का निरीक्षण किया। इस मौके पर सफल लैंडिंग और पट्टी की व्यवस्थाओं पर संतोष जताया। पट्टी के बारे में जिलाधिकारी सी. रविशंकर से पूरी जानकारी जुटाई। इस मौके पर डीएम ने नारियल फोड़ा और मिष्ठान्न वितरण किया गया।

दून के लिए दो और पंत नगर के लिए प्रतिदिन एक फ्लाइट

हैरीटेज एविएशन के स्वामी रोहित माथुर ने बताया कि नैनी सैनी हवाई पट्टी से फिलहाल प्रतिदिन तीन सेवाएं चलेंगी, जिसमें दो सेवा देहरादून के लिए और एक सेवा पंतनगर के लिए होगी। उन्होंने बताया कि बाद में मांग को देखते हुए आवश्यकता पड़ी तो बीस सीटर विमान भी उड़ेगा।

पिथौरागढ़ के सौंदर्य ने किया सम्मोहित

मिनी कश्मीर के नाम से चर्चित सोर घाटी के सौंदर्य से हैरीटेज एविएशन के मालिक से लेकर डीजीसीए के अधिकारी अभिभूत नजर आए। विमान से उतरते ही उन्होंने सबसे पहले यहां के सौंदर्य को सराहा। पट्टी के सामने चमक रही पंचाचूली के विहंगम दृश्य को देखते हुए उन्होंने पर्यटन के लिहाज से पिथौरागढ़ की जमकर सराहना की और अपने फैसले को सही ठहराया। उन्होंने आशा जताई कि भविष्य में पिथौरागढ़ की हवाई पट्टी से देहरादून और पंतनगर के साथ दिल्ली के लिए भी उड़ान शुरू होगी । रोहित माथुर ने हवाई पट्टी के रनवे से लेकर अन्य सभी व्यवस्थाओं को संतोषजनक बताया। लगभग 50 मिनट तक पट्टी में रहने के बाद विमान दिल्ली को उड़ा।

औपचारिक उद्घाटन सोमवार को, सेवा नवरात्र से

नैनी-सैनी हवाई पट्टी का सोमवार को औपचारिक उद्घाटन होगा। जबकि विमान सेवा नवरात्र से शुरू होगी। सोमवार को उद्घाटन के साथ ही पिथौरागढ़ की नैनी-सैनी हवाई पट्टी देश की 101वीं हवाई पट्टी हो जाएगी।

25 साल की तपस्‍या के बाद पिथौरागढ़ पहुंची फ्लाइट

आखिरकार 25 साल की तपस्या के बाद नैनी-सैनी हवाई पट्टी का सन्नाटा समाप्त हो ही गया। इसी के साथ पिथौरागढ़ की हवाई पट्टी को देश की 101वीं हवाई पट्टी बन गई है। सीमांत को हवाई सेवा से जोड़ने के लिए पिथौरागढ़ के नैनी सैनी में नब्बे के दशक में हवाई पट्टी का निर्माण शुरू  हुआ। तब हवाई पट्टी की लंबाई 1360 मीटर और चौड़ाई 40 मीटर थी।

वर्ष 1994 में हवाई पट्टी का अविभाजित उत्तर प्रदेश में रहते हुए तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव की अध्यक्षता में तत्कालीन नागरिक एवं उड्डयन मंत्री गुलाम नबी आजाद ने किया। इस मौके पर उन्होंने पिथौरागढ़ की सोरघाटी को मिनी कश्मीर बताया। इसके बाद हवाई सेवा शुरू नहीं हो सकी। जब ट्रायल हुआ तो पट्टी को छोटा बताया गया। 25 साल के अंतराल में हवाई पट्टी के विस्तार का कार्य चला। कार्यदायी संस्था ब्रिडकुल ने पट्टी का विस्तार किया।

1800 मीटर लंबी और 80 मीटर चौड़ी है पट्टी

नैनी-सैनी हवाई पट्टी का विस्तार कर इसे अब 1800 मीटर लंबी और 80 मीटर चौड़ा बना दिया गया है। टर्मिनल एटीएस टावर, टिकट काउंटर, फायर बिग्रेड, मौसम सिस्टम, हॉट लाइन सभी लग चुकी हैं।

जिले में अब खुलेंगे पर्यटन के द्वार

नैनी-सैनी हवाई पट्टी में हवाई सेवा चलते ही पर्यटन के द्वार खुलेंगे। जिसे लेकर स्थानीय उद्यमियों में खुशी की लहर व्याप्त है। देहरादून में आयोजित समिट मीट के लिए जिस तरह पिथौरागढ़ के लिए निवेशक आगे आए हैं उससे पर्यटन विकास का सुनहरा भविष्य नजर आ रहा है। होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष राकेश देवलाल कहते हैं कि हवाई सेवा पिथौरागढ़ नगर ही नहीं जिले की सोच बदल देगी। ग्लेशियरों, झीलों, नदियों के चलते पिथौरागढ़ पर्यटकों के लिए सबसे पसंदीदा स्थल बनेगा। अभी तक यहां पहुंचने के लिए दूरी बाधक थी हवाई सेवा से यह बाधा दूर होगी।

यह भी पढ़ें: रजत जयंती पर नए स्वरूप में दिखेगा उत्तराखंड: मुख्यमंत्री 

यह भी पढ़ें: नवनिर्मित अटल सेतु का मुख्‍यमंत्री ने किया उद्घाटन, सरपट दौड़ने लगे वाहन

यह भी पढ़ें: सुधरेगा यातायात, रेलवे क्रासिंग पर बनेगा फुट ओवर ब्रिज; सुरंग पर होंगे ये काम

Edited By: Raksha Panthari

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट