हल्द्वानी, [जेएनएन]: शहर की एक प्रतिभा ने विश्व का सबसे छोटा चरखा बनाने का कारनामा किया है। पांच गुणा पांच गुणा छह मिमी आकार के चरखे को लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज कर लिया गया है। इससे पहले यह रिकॉर्ड हरियाणा के योगेश बरनाला के नाम दर्ज था।

हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज में बतौर आर्टिस्ट कार्यरत प्रकाश उपाध्याय कुछ हटकर करते रहे हैं। उपाध्याय ने अपनी हालिया उपलब्धि को लिम्का में दर्ज कराने भेजा था। लिम्का ने जिसे वर्ष 2018 के रिकॉर्ड में दर्ज कर लिया है।

मूलरूप से अल्मोड़ा जिले के धौलादेवी ब्लॉक निवासी उपाध्याय वर्तमान में हल्दूचौड़ में रहते हैं। इससे पहले विश्व की सबसे छोटी हस्त निर्मित पुस्तक इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड, विश्व की छोटी हस्त निर्मित हनुमान चालीसा यूनिक बुक ऑफ वर्ल्‍ड रिकॉर्ड में दर्ज है। वहीं, विश्व की सबसे छोटी पेंसिल को असिस्ट वर्ल्‍ड रिकॉर्ड में स्थान मिला है। आर्टिस्ट उपाध्याय को पेंटिंग के लिए तमाम पुरस्कारों ने सम्मानित किया जा चुका है। 

यह भी पढ़ें: एक मिनट के भीतर 653 छात्र-छात्राओं ने एकसाथ किए पुशअप्स

यह भी पढ़ें: इस सैंडविच की लंबार्इ देख रह जाएंगे हैरान, लिमका बुक में दर्ज हुआ नाम

 

Posted By: Sunil Negi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस