हल्द्वानी, जेएनएन : हल्द्वानी के गौलापार में करीब 150 करोड़ की लागत से बने अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम का वीराना आखिरकार खत्म हुआ। सरकार या खेल विभाग जो काम बीते चार साल से नहीं कर पाया उसे उत्तराखंड स्टेट फुटबाल एसोसिएशन ने कर दिखाया है। राज्य को पहली बार नॉर्थ जोन संतोष ट्रॉफी फुटबाल मेजबानी मिली तो एसोसिएशन ने हल्द्वानी के अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम को इसके लिए चुना। जो मानक सरकार बीते चार साल से पूरे नहीं हो पा रहे थे वो अब खुद ब खुद पूरे होते नजर आ रहे हैं।

वर्ष 2014 में गौलापार में 39 एकड़ भूमि का शिलान्यास अंतरराष्ट्रीय स्पोर्ट्स कांप्लेक्स बनाने के लिए किया गया। करीब 192 करोड़ के इस कांप्लेक्स में एक अंतरराष्ट्रीय मानकों वाला स्टेडियम, एक इंडोर-आउटडोर स्टेडियम व एक एथलेटिक्स स्टेडियम बनाया जाना था। वर्ष 2016 में करीब 150 करोड़ की लागत से अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम बनकर तैयार हो गया। जिसके बाद तत्कालीन राज्य सरकार के मुखिया ने इसमें रेसलिंग मैच करवाया। द ग्रेट खली को देखने हजारों लोगों की भीड़ उमड़ी। मगर, मौके को भुनाने के बजाय राजनीतिक पार्टियां जहां आपस में लड़ते रहे वहीं खेल विभाग चैन की नींद सोया रहा। वर्ष 2017 में बनीं नई सरकार ने स्टेडियम की गुणवत्ता व मानकोंपर ही सवाल खड़े कर दिए। जिसके बाद कई बार स्टेडियम की जांच की गई। मगर, फिर भी न तो इस स्टेडियम में कोई नया ईंट इन चार सालों में लग सका और न ही कोई बड़ी प्रतियोगिता हो सकी। जानकारी के अनुसार उत्तराखंड स्टेट फुटबाल एसोसिएशन को यह मैदान इस कार्यदायी संस्था नागार्जुन कंस्ट्रक्शन कंपनी ने शर्त पर दिया गया है कि प्रतियोगिता समाप्त होने के बाद मैदान ठीक वैसा ही होना चाहिए जैसा वह पहले था। यानि की स्टेडियम की गुणवत्ता खराब नहीं होनी चाहिए।  

आयोजन की कानोंकान खबर नहीं

संतोष ट्रॉफी के आयोजन की जानकारी रविवार तक किसी को नहीं थी। बताया जा रहा है कि पहले ये प्रतियोगिता किसी और मैदान पर होगी थी मगर, रातोंरात इसे बदलकर गौलापार स्टेडियम में करानी का मन बनाया गया। एसोसिएशन की ओर से अनुमति मांगी गई। 

नेशनल गेम्स की उम्मीदें भी जगी

राष्ट्रीय स्तर की फुटबाल प्रतियोगिता हल्द्वानी में होने के बाद अब उम्मीदें 2021 में प्रस्तावित नेशनल गेम्स के लिए भी जगी हैं। 2021 के नेशनल गेम्स की मेजबानी उत्तराखंड को मिली है। देहरादून के बाद हल्द्वानी में ही एकमात्र अंतरराष्ट्रीय मानकों का स्टेडियम होने के चलते यहां कई प्रतियोगिताएं कराई जा सकती है। 

राज्‍य के लिए गौरव की बात 

आरिफ अली, महासचिव, उत्तराखंड स्टेट फुटबाल एसोसिएशन ने बताया कि राज्य को पहली बार संतोष ट्रॉफी की मेजबानी मिली है। पहली बार ही गौलापार अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम में संतोष ट्रॉफी भी खेली जा रही है। ये राज्य के लिए गौरव का विषय है।

संतोष ट्रॉफी के उद्घाटन मुकाबले में पंजाब ने जम्मू-कश्मीर को हराया

गौलापार स्थित अंतरराष्ट्रीय स्पोट्र्स स्टेडियम में रविवार से नॉर्थ जोन क्वालीफायर हीरो संतोष ट्रॉफी फुटबॉल टूर्नामेंट शुरू हो गया है। उद्घाटन मुकाबले में पंजाब ने जम्मू-कश्मीर को 3-1 से हराया। इस बार संतोष ट्रॉफी की मेजबानी उत्तराखंड स्टेट फुटबॉल एसोसिएशन को मिली है। ट्रॉफी में आठ राज्यों की फुटबॉल टीमें भाग ले रहीं हैं। रविवार को पहले दिन दो मुकाबले खेले गए। पहले मुकाबले में पंजाब ने जम्मू-कश्मीर को 3-1 व दूसरे मुकाबले में उत्तराखंड ने हरियाणा को 1-0 से पराजित किया। निर्णायकों में शुभी राज पीएस, संदीप माइकी, प्राप्ति पीके, अभिषेक साह, रविंद्र थपलियाल, भुजवि देव, रीपू मंडल, नरीपेन दलधर शामिल रहे। बतौर मैच कमिश्नर धनराज मुरे व वैंडी डिसूजा मौजूद रहे। इससे पूर्व प्रतियोगिता का उद्घाटन ओलंपिक एसोसिएशन के महासचिव राजीव मेहता ने किया। 

ये टीमें कर रही हैं प्रतिभाग

ग्रुप ए

पंजाब, जम्मू-कश्मीर, हरियाणा, उत्तराखंड

ग्रुप बी

दिल्ली, उत्तरप्रदेश, चंडीगढ़, हिमाचल प्रदेश

आज इनके बीच होगा मुकाबला

दिल्ली - उत्तरप्रदेश - पूर्वाह्न 11 बजे से

चंडीगढ़- हिमाचल प्रदेश - अपराह्न तीन बजे से

यह भी पढ़ें : भीमताल में फिर से पैराग्लाइडिंग का आगाज, ईगल आइ एडवेंचर संस्था को मिली अनुमति

यह भी पढ़ें : आर्मी ज्‍वाइन करने के लिए बनबसा में सेना छावनी के गीले मैदान पर युवाओं ने लगाई दौड़

Posted By: Skand Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप