रुद्रपुर, जेएनएन : किच्छा के खुरपिया फार्म में एयरपोर्ट व स्मार्ट सिटी बनने का रास्ता साफ हो गया है। शनिवार को फार्म के स्थलीय निरीक्षण के लिए पहुंचे मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने बताया कि एयरपोर्ट के लिए जगह पर्याप्त है। भविष्य की आवश्यकताओं को देखते हुए इसका विस्तार किया जाएगा। एयरपोर्ट लॉजिस्टिक के रूप में भी काम करेगा। सब सही रहा तो हवाई मार्ग से सिडकुल में कच्चा माल भी आएगा।

अमृतसर-कोलकाता इंडस्ट्रियल कॉरीडोर की तर्ज पर बनेगी स्मार्ट सिटी

मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह, प्रमुख सचिव मनीषा पवार, सचिव अमित नेगी ने शनिवार को प्राग व खुरपिया फार्म का निरीक्षण किया। मुख्य सचिव ने बताया कि खुरपिया फार्म की 80 एकड़ भूमि निर्माण कार्यों के लिए स्थानांतरित कर दी गई है। फार्म की 405 एकड़ जमीन भूमिहीनों को दी जाएगी। शेष पर अमृतसर-कोलकाता इंडस्ट्रियल कॉरीडोर के तहत स्मार्ट सिटी का निर्माण होगा।

इंटरनेशनल हवाई अड्डे को चाहिए 11 सौ एकड़ जमीन

मुख्य सचिव ने प्राग फार्म के आनंदपुर, अटरिया, सिडकुल रोड का भी निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि इंटरनेशनल हवाई अड्डे के लिए कम से कम 11 सौ एकड़ जमीन की जरूरत है। यह जमीन जीबी पंत कृषि विवि की है। इस पर इंटरनेशनल हवाई अड़्डा बनाने का प्रस्ताव है। मैप तैयार किया जा रहा है। करीब छह माह पहले राज्य सरकार ने अंतरराष्ट्रीय स्तर का एयरपोर्ट स्थापित करने का प्रस्ताव तैयार किया था। उसी पर काम चल रहा है। उन्होंने कहा कि बड़ी परियोजनाओं के लिए प्राग फार्म उपयुक्त है। नए एयरपोर्ट के लिए पंतनगर कृषि विश्वविद्यालय की 1100 एकड़ भूमि का प्रारंभिक सर्वे किया जा रहा है।

अरोमा पार्क से विकास को मिलेगी रफ्तार

काशीपुर आइआइएम के सामने की भूमि में अरोमा पार्क स्थापित किया जा रहा है। इसमें सगंध पौध, जड़ी-बूटी, इत्र बनाने के उद्योग लगाए जाएंगे। इस अवसर पर किच्छा विधायक राजेश शुक्ला ने बताया आनन्दपुर, अटरिया सड़क का निर्माण सिडकुल की ओर से किया गया है। सड़क की एसआइटी जांच चल रही है।

जानें खास-खास बातें

  • एयरपोर्ट निर्माण पर करीब दो हजार करोड़ रुपये होंगे खर्च  
  • 28 पार्किंग डेज, चार एरोब्रिज भी बनेंगे
  • निर्माण के लिए कम से कम 11 सौ एकड़ जमीन की जरूरत
  • अमृतसर-कोलकाता इंडस्ट्रियल कॉरीडोर के तहत बनेगा स्मार्ट सिटी
  • हवाई मार्ग से सिडकुल में कच्चा माल भी आएगा।
  • 80 एकड़ भूमि निर्माण कार्यों के लिए स्थानांतरित कर दी गई है
  • 1100 एकड़ भूमि का प्रारंभिक सर्वे किया जा रहा है

कुछ साल पहले घोषित की गई थी सरकारी जमीन

खुरपिया फार्म में कुछ वर्ष पहले लगभग 1500 एकड़ जमीन को सरकारी घोषित किया गया था। यहां पर रह रहे लोगों ने सरकारी जमीन पर अतिक्रमण कर कई स्थानों पर फसल बो रखी थी, जिसे अतिक्रमण मुक्त करवा करावाया गया था। इसमें से 1002 एकड़ जमीन सिडकुल को दी जा चुकी है।

यह भी पढ़ें : मुख्य सचिव ने कहा, 2020 में नहीं 2022 में पूरा होगा चारधाम ऑलवेदर रोड का काम 

यह भी पढ़ें : ऊधमसिंह नगर में तस्कर समझकर वनकर्मियों ने की फायरिंग, छात्र हुआ घायल

Edited By: Skand Shukla